Latest Articles

अनुवाद कला (प्रथम अंश) अभ्यास 11

(क्रिया विशेषण) १. यह स्पष्ट रूप से (व्यक्तम्) प्रमाद है, आपसे यह कैसे हो गया। व्यक्तमयं प्रमादः, कथमयं चरितस्त्वया। २. उसने सुरापान की आदत अभी पूरी तरह से (निरवशेषम्) नहीं…

अनुवाद कला (प्रथम अंश) अभ्यास 9

(क्रियाविशेषण) १. आप आराम से (सुखम्, साधु) बेठें, तपोवन तो अतिथियों का अपना घर होता है। सुखमास्तां भवान्। तपोवनं त्वतिथिजनस्य स्वं गेहम्। २. बुढ़िया धीरे-धीरे (मन्दम्, मन्दमन्दम्, मन्थरम्) चलती है,…

अनुवाद कला (प्रथम अंश) अभ्यास 8

(अजहल्लिङ्ग विधेय) १. उर्वशी इन्द्र का कोमल शस्त्र, स्वर्ग का अलंकार, तथा रूप पर इतराने वाली लक्ष्मी का प्रत्याख्यान-रूप थी। उर्वशी सुकुमारं प्रहरणं महेन्द्रस्य अलङ्कारः स्वर्गस्य, प्रत्यादेशो रूपगर्वितायाः श्रियः। २….

अनुवाद कला (प्रथम अंश) अभ्यास 7

(अजहल्लिङ्ग विधेय) १. मिथिलानरेश की बेटी, कन्याओं में रत्न, रूपवती सीता के स्वयंवर में नाना दिशाओं और देशों से राजा आये। मैथिलस्य कन्यारत्नस्य रूपवत्याः सीतायाः स्वयंवरार्थं नाना दिग्भ्यो देशेभ्यश्च राजानः…

अनुवाद कला (प्रथम अंश) अभ्यास 6

(अजहल्लिङ्ग विधेय) १. गुरुजी कहते हैं दूसरे कि निन्दा मत करो, निन्दा पाप है। परनिन्दां मा स्म कुरुत, निन्दा पापं भवतीति गुरुचरणाः। २. राम अपनी श्रेणी का रत्न है और…

अनुवाद कला (प्रथम अंश) अभ्यास 5

१. ऋषि और मुनि सबकी पूजा के योग्य हैं, क्योंकि वे पापरूपी दलदल में फंसे हुए लोगों का उद्धार करते हैं। ऋषयो मुनयश्च पूजार्हा भवन्ति, यतस्ते पापपङ्कनिमग्नानुद्धरन्ति। २. राम और…

अनुवाद कला (प्रथम अंश) अभ्यास 4

(विशेषण-विशेष्य की समानाधिकरणता) १. देवदत्त खिलाड़ी है, सारा दिन खेलता रहता है, पढ़ने का तो नाम नहीं लेता। आक्रीडी देवदत्त आदिनम् आक्रीडते, अध्ययनं त्विच्छत्येव न। २. विष्णुमित्र का पढ़ने में…

Latest Audios

अति आत्म या एकी साधना

अति आत्म या एकी साधना (संक्षिप्त प्रारूप) लेखक : स्व.डॉ.त्रिलोकीनाथ जी क्षत्रिय स्थिरं सुखम् आसनम्।।१।। स्व आकलन।।२।। त्रि दीर्घ सम विपश्यना।।३।। दीर्घ समगति ‘‘अगाओ’’ उच्चारण।।४।। सुचालनम्।।५।। पादयोः ऊर्वोः बाहुभ्यां यशोबलम्…

077 अष्टाध्यायी सूत्राभ्यास 3_1_131 se 140

अग्नौ परिचाय्योपचाय्यसमूह्याः (ण्यत्, धातोः, प्रत्ययः, परश्च) (3/1/131) चित्याग्निचित्ये च (अग्नौ, धातोः, प्रत्ययः, परश्च) (3/1/132) ण्वुल्तृचौ (धातोः, प्रत्ययः, परश्च) (3/1/133) नन्दिग्रहिपचादिभ्यो ल्युणिन्यचः (धातोः, प्रत्ययः, परश्च) (3/1/134) इगुपधज्ञाप्रीकिरः कः (धातोः, प्रत्ययः, परश्च)…

078 अष्टाध्यायी सूत्राभ्यास 3_1_141 se 150

श्याद्व्यधास्रुसंस्र्वतीणवसावहृलिहश्लिषश्वसश्च (णः, धातोः, प्रत्ययः, परश्च) (3/1/141) दुन्योरनुपसर्गे (णः, धातोः, प्रत्ययः, परश्च) (3/1/142) विभाषा ग्रहः (णः, धातोः, प्रत्ययः, परश्च) (3/1/143) गेहे कः (ग्रहः, धातोः, प्रत्ययः, परश्च) (3/1/144) शिल्पिनि ष्वुन् (धातोः, प्रत्ययः,…

079 Ast 3_2_1 se 10

द्वितीयः पादः कर्मण्यण् (धातोः, प्रत्ययः, परश्च) (3/2/1) ह्नावामश्च (कर्मण्यण्, धातोः, प्रत्ययः, परश्च) (3/2/2) आतोऽनुपसर्गे कः (कर्मणि, धातोः, प्रत्ययः, परश्च) (3/2/3) सुपि स्थः (कः, धातोः, प्रत्ययः, परश्च) (3/2/4) तुन्दशोकयोः परिमृजापनुदोः (कः,…

080 अष्टाध्यायी सूत्राभ्यास 3_2_11 se 20

आङि ताच्छील्ये (हरतेः, अच्, कर्मणि, धातोः, प्रत्ययः, परश्च) (3/2/11) अर्हः (अच्, कर्मणि, धातोः, प्रत्ययः, परश्च) (3/2/12) स्तम्बकर्णयोरमिजपोः (अच्, सुपि, धातोः, प्रत्ययः, परश्च) (3/2/13) शमि धातोः संज्ञायाम् (अच्, प्रत्ययः, परश्च) (3/2/14)…

081 अष्टाध्यायी सूत्राभ्यास 3_2_21 se 30

दिवाविभानिशाप्रभाभास्कारान्तानन्तादिबहुनान्दीकिंलिपिलिबिबलिभक्तिकर्तृचित्रक्षेत्रसंख्याजङ्घाबाह्नहर्यत्तद्धनुररुष्षु (कर्मणि, सुपि, कृञः, टः, धातोः, प्रत्ययः, परश्च) (3/2/21) कर्मणि भृतौ (कृञः, टः, कर्मणि, धातोः, प्रत्ययः, परश्च) (3/2/22) न शब्दश्लोककलहगाथावैरचाटुसूत्रमन्त्रपदेषु (कृञः, टः, कर्मणि, धातोः, प्रत्ययः, परश्च) (3/2/23) स्तम्बशकृतोरिन् (कृञः, कर्मणि,…

082 अष्टाध्यायी सूत्राभ्यास 3_2_31 se 40

उदि कूले रुजिवहोः (खश्, कर्मणि, धातोः, प्रत्ययः, परश्च) (3/2/31) वहाभ्रे लिहः (खश्, कर्मणि, धातोः, प्रत्ययः, परश्च) (3/2/32) परिमाणे पचः (खश्, कर्मणि, धातोः, प्रत्ययः, परश्च) (3/2/33) मितनखे च (पचः, खश्, कर्मणि,…

Latest Magazines

Latest Pradarshani

चूड़ाकर्म संस्कार

चूड़ाकर्म संस्कार इसका अन्य नाम मुण्डन संस्कार भी है। रोगरहित उत्तम समृद्ध ब्रह्मगुणमय आयु तथा समृद्धि-भावना के कथन के साथ शिशु के प्रथम केशों के छेदन का विधान चूडाकर्म अर्थात्…

अन्नप्राशन संस्कार

अन्नप्राशन संस्कार जीवन में पहले पहल बालक को अन्न खिलाना इस संस्कार का उद्देश्य है। पारस्कर गृह्यसूत्र के अनुसार छठे माह में अन्नप्राशन संस्कार होना चाहिए। कमजोर पाचन शिशु का…

Latest Suvichar