अनुवाद कला अभ्यास २

0
215

१. देवापि , शन्तनु और वाल्हीक ये प्रतीक के पुत्र थे |
= देवापि: शन्तनु: वाल्हीकश्च प्रातीका: आसन् |

२. कर्ण और अश्वथामा पाण्डवों के जानी दुश्मन थे |
= कर्ण: अश्वथामा च पाण्डवानां प्राणद्रुहौ दुर्हृदौ आस्ताम् |

३. अच्छा यहि ठहरा कि राम श्याम और में अपना झगडा गुरुजी के सामने रख देंगे |
= इदं तावद् व्यवस्थितं राम: श्यामोsहं च विवादपदं गुरवे निवेदयिष्याम: |

४. तुम ने और तुम्हारे भाई ने परिश्रम से धन कमाया और योग्य व्यक्तियों को दिया |
= त्वं त्वदीयश्च भ्राता परिश्रमेण धनम् आर्जयतं पात्रेषु च प्रत्यपादयतम् |

५. तू और मैं इस कार्य को मिलकर कर सकते हैं , विष्णुमित्र और यज्ञदत्त नहीं |
=त्वमहं च इदं कार्यं सम्भूय कर्तुमर्हाव: विष्णुमित्र: यज्ञदत्तश्च न |

६. न तुझे और न मुझे भविष्यत् का ज्ञान है , क्योंकि हमें आर्षदर्शन प्राप्त नहीं है |
= न त्वमायतिं प्रजानासि न चाहं न हि आवयो: आर्षं दर्शनं समस्ति |

७. न तुम और न ही तुम्हारा भाई जानता है कि स्वाध्याय में प्रमाद हानि करता है |
= न त्वं प्रजानासि न तव भ्राता यद् स्वाध्याये प्रमाद: रेषति |

८. इस समय न राजा और न ही प्रजा प्रसन्न दीखते हैं , कारण कि सभी कर्तव्य से विचलित हो रहें हैं |
= एतर्हि न च राज्ञा न च प्रजया प्रसीद्यते यतो हि सर्वैः कर्तव्याद् विचल्यते |

९. इस दुश्चेष्टित का तुम्हें और उन्हें उत्तर देना होगा |
= त्वं वा ते वा दुश्चेष्टितम् इदम् अनुयोज्या: सन्ति |

१०. बहू और सास की खटपती रहती है , इसलिये घर में शान्ति नहीं |
= वधू: श्वश्रूश्च नित्यं कलहायेते अत: गेहे शान्तिर्न गाहते |

११. यह बल का काम या तो भीम कर सकता है या अर्जुन ; कोई और नहीं |
= अस्मिन् बलकार्ये भीम: समर्थ: अर्जुनो वा नेतर: |

१२. कहा नहीं जाता कि मैं उन्हें जीतू अथवा वे मुझे जीते |
= न कथ्यते यद् अहं वा तन जयेयं वा ते माम् |

१३. मैं जानता हूँ या ईश्वर जानता है कि मैंने तुम्हे धोखा देने की चेष्टा नहीं की |
= अहं जाने ईश्वरो वा यद् अहं त्वां वञ्चयितुं नाचेष्टे |

१४. देवदत्त ने या उसके साथियों ने कल यह ऊधम मचाया था |
= देवदत्तो वा तत्सहाचरा वा ह्य: इमम् उद्धमम् आचरन् |

१५. भूमि पर पडे हुए उस महानुभाव के शरीर को न कान्ति छोडती है , न प्राण , न तेज और न पराक्रम |
= भूमौ पतितं तस्य महानुभावस्य शरीरं न कान्ति: जहाति न प्राणा: न तेज: न च पराक्रम: |

अनुवाद डॉ. शीतल जी पोकार (आर्यवन आर्ष कन्या गुरुकुल, रोजड़, गुजरात)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here