सच्चे आभूषण

सत्यार्थ प्रकाश के अनमोल वचन       सन्तानों को उत्तम विद्या, शिक्षा, गुण, कर्म और स्वभावरूप आभूषणों का धारण कराना माता-पिता, आचार्य और सम्बन्धियों का मुख्य कर्म है। सोने, चांदी, माणिक,…

प्राणायाम से मन की शुद्धि

सत्यार्थ प्रकाश के अनमोल वचन प्राणायाम से मन इन्द्रियों की शुद्धि जैसे अग्नि में तपाने से स्वर्णादि धातुओं का मल नष्ट होकर शुद्ध होते हैं वैसे प्राणायाम करके मन आदि…

माता द्वारा सन्तानों को शिक्षा

सत्यार्थ प्रकाश के अनमोल वचन माता द्वारा सन्तानों को शिक्षा जब पांच वर्ष के लड़का-लड़की हों तब देवनागरी अक्षरों का अभ्यास करावे। अन्यदेशीय भाषाओं के अक्षरों का भी। उसके पश्चात्…