Loading...

Suvichar Tag: Aaryodeshy-Ratnamala

ईश्वर

१. ईश्वर – जिसके गुण, कर्म स्वभाव और स्वरूप सत्य ही हैं, जो केवल चेतनमात्र वस्तु है, तथा जो अद्वितीय, सर्वशक्तिमान्, निराकार, सर्वत्र व्यापक, अनादि और अनन्त आदि सत्यगुणवाला है, और जिसका [ … ]

धर्म्म

२. धर्म्म – जिसका स्वरूप ईश्वर की आज्ञा का यथावत् पालन और पक्षपातरहित न्याय सर्वहित करना है, जो कि प्रत्यक्षादि प्रमाणों से सुपरीक्षित और वेदोक्त होने से सब मनुष्यों के लिये यही [ … ]

अधर्म्म

३. अधर्म्म – जिसका स्वरूप ईश्वर की आज्ञा को छोड़कर और पक्षपातसहित अन्यायी होके विना परीक्षा करके अपना ही हित करना है, जो अविद्या हठ अभिमान क्रूरतादि दोषयुक्त होने के कारण वेदविद्या [ … ]

पुण्य

४. पुण्य – जसका स्वरूप विद्यादि शुभ गुणो का दान और सत्यभाषणादि सत्याचार करना है, उसको ‘पुण्य’ कहते हैं।

पाप

५. पाप – जो पुण्य से उल्टा और मिथ्याभाषणादि करना है, उसको ‘पाप’ कहते हैं।

सत्यभाषण

६. सत्यभाषण – जैसा कुछ अपने आत्मा में हो और असम्भवादि दोषों से रहित करके सदा वैसा ही बोले, उसको ‘सत्यभाषण’ कहते हैं।

मिथ्याभाषण

७. मिथ्याभाषण – जो कि सत्यभाषण अर्थात् सत्य बोलने से विरुद्ध है, उसको ‘मिथ्याभाषण’ कहते हैं।

विश्वास

८. विश्वास – जिसका मूल अर्थ और फल निश्चय करके सत्य ही हो, उसका नाम ‘विश्वास’ है।

अविश्वास

९. अविश्वास – जो विश्वास से उल्टा है, जिसका तत्त्व अर्थ न हो, वह ‘अविश्वास’ कहाता है।

परलोक

१०. परलोक – जिसमें सत्यविद्या से परमेश्वर की प्राप्ति हो, और उस प्राप्ति से इस जन्म वा पुनर्जन्म और मोक्ष में परमसुख प्राप्त होना है, उसको ‘परलोक’ कहते हैं।

Page 1 of 10
1 2 3 10