Loading...

Suvichar Tag: Aapta

परिभाषाएं

ये दुनिया पूरी की पूरी परिभाषाओं का खेल है। परिभाषाएं जो सिर्फ मान ली गई हैं।। 2/14।।

इच्छाएं

तपती दोपहरी इमली की छांव ढेर सारे जानवर।जानवर इच्छाएं हैं दुपहरी जीवन इमली हूं मैं।। 2/12।।

बुद्धि अर्थिका

तन मन्दिर स्व देवता बुद्धि है जो अर्थिका।अद्भुत नृतन करती वस्त्रहीन हो जाती पूर्णतः।। 2/11।। (साभार आप्ता)

इकाई

तुम व्यवस्था हो मैं हूं इकाई एक।तुम सच नहीं हो सकती मैं तो हूं सच।। 2/10।। (साभार आप्ता)

चक्कर

कोल्हू के बैल की आंख पर पट्टी गले में जुआ होता है।बैल से गया बीता बिना पट्टी जुआ चक्कर काटता है आदमी।। 2/9।। (साभार आप्ता)

व्यवस्था

व्यवस्थाओं में बंधकर ही आदमी पापी-पुण्यात्मा होता है। मैंने तो किसी भी व्यवस्था के कोई कपड़े नहीं पहने हैं।। 2/8।। (साभार आप्ता)