सत्यभाषण

६. सत्यभाषण – जैसा कुछ अपने आत्मा में हो और असम्भवादि दोषों से रहित करके सदा वैसा ही बोले, उसको ‘सत्यभाषण’ कहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *