शिष्टाचार

५८. शिष्टाचार – जिसमें शुभ गुणों का ग्रहण और अशुभ गुणों का त्याग किया जाता है, वह ‘शिष्टाचार’ कहाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *