लक्षण

८४. लक्षण – जिससे जाना जाय, जो कि उसका स्वाभाविक गुण है, जैसे कि रूप से अग्नि को जाना जाता है, उसको ‘लक्षण’ कहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *