प्रार्थना का फल

२५. प्रार्थना का फल – अभिमान का नाश, आत्मा में आर्द्रता, गुण ग्रहण में पुरुषार्थ, और अत्यन्त प्रीति होना यह ‘प्रार्थना का फल’ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *