प्रारब्ध

५१. प्रारब्ध – जो पूर्व किये हुये कर्मों के सुख दुःख रूप फल का भोग किया जाता है, उसको ‘प्रारब्ध’ कहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *