प्रवाह से अनादि पदार्थ

५३. प्रवाह से अनादि पदार्थ – जो कार्य्य जगत् जीव के कर्म, और जो इनका संयोग वियोग है, ये तीन ‘परम्परा से अनादि’ हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *