टूटते सम्बन्ध

11 नवम्बर

अभी या कभी हमसे जुड़े सारे सम्बन्ध टूटेंगे ही..!!
बिछोह-वियोग है परम सत्य। अलगाव हम नहीं रोक सकते। फिर क्यों न पहले से ही बिछड़ने की मानसिकता बनाकर स्वयं को तैयार कर लें।
क्या आप यह मानकर जी रहे हैं कि, सदा हमारा कोई नहीं रहेगा। इस तरह क्या आपने अपने को बिछुड़ने से होनेवाले दुःख से बचा लिया है ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *