चोरीत्याग

७५. चोरीत्याग – जो स्वामी की आज्ञा के विना किसी के पदार्थ को ग्रहण करना है, वह ‘चोरी’ और उसका छोड़ना ‘चोरीत्याग’ कहाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *