कार्य्य

३६. कार्य्य – जो किसी पदार्थ के संयोगविशेष से स्थूल होके काम में आता है, अर्थात् जो करने के योग्य है, वह उस कारण का ‘कार्य्य’ कहाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *