कर्म

४८. कर्म – जो मन, इन्द्रिय और शरीर में जीव चेष्टा विशेष करता है, वह ‘कर्म’ कहाता है शुभ, अशुभ और मिश्रभेद से तीन प्रकार का है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *