उपमान

८८. उपमान – जैसे किसी ने किसी से कहा कि गाय के तुल्य नील गाय होती ह, ऐसे जो उपमा से सदृश ज्ञान होता है, उसको ‘उपमान’ कहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *