इच्छाएं

तपती दोपहरी इमली की छांव ढेर सारे जानवर।
जानवर इच्छाएं हैं दुपहरी जीवन इमली हूं मैं।। 2/12।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *