इकाई

तुम व्यवस्था हो मैं हूं इकाई एक।
तुम सच नहीं हो सकती मैं तो हूं सच।। 2/10।।

(साभार आप्ता)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *