अनुमान

८७. अनुमान – किसी पूर्व दृष्ट पदार्थ के एक अङ्ग को प्रत्यक्ष देख के, पश्चात् उसके अदृष्ट अङ्गों का जिससे यथावत् ज्ञान होता है, उसको ‘अनुमान’ कहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *