आज का पंचांग

अथ सङ्कल्पपाठः

ओम् तत्सत् श्री ब्रह्मणो द्वितीये प्रहरोत्तरार्द्धे वैवस्वते मन्वन्तरे अष्टाविंशतितमे कलियुगे कलिप्रथमचरणे एकोवृन्द-सप्तनवतिकोटि-एकोनत्रिंशल्लक्ष-एकोनपञ्चापञ्चाशत्सहस्र- द्वाविंशत्यधिकशततमे ( १९७२९४९१२२ ) सृष्ट्याब्दे सप्तसप्तत्युत्तर-द्विसहस्रतमे ( २०७७ ) वैक्रमाब्दे  पञ्चनवत्यधिकशततमे ( १९५ ) दयानन्दाब्दे, आनन्दनाम संवत्सरे उत्तरायणे- शिशिर- ऋतौ तपस् मासान्तर्गते चतुर्विंशतितमे गते माघ शुक्ल प्रतिपदायां तिथौ श्रवण- नक्षत्रे गुरुवासरे प्रात:काले/मध्याह्ने/सायंकाले, जम्बूद्वीपे भरतखण्डे आर्यावर्तान्तर्गते ——- प्रदेशे ——– जनपदे ———ग्रामे/नगरे स्वआवास भवने यज्ञशालायां ईश्वराज्ञापालनार्थं जगदुपकाराय च अस्माभिः दैनिक अग्निहोत्रं क्रियते..!! हे प्रभो भवत्कृपया कार्यमिदं निर्विघ्नं सम्पन्नं भवेत्..!!!

(14 January 2021, Thursday) सूर्योदय : 07.19, सूर्यास्त : 17.41, चंद्रोदय : 08.01 चंद्रास्त : 19.02, तिथ्यन्त काल : 09.04, नक्षत्रान्त काल : 27.32 (उपरोक्त समय निर्धारण भारत की राजधानी दिल्ली के समयमान के अनुसार हैं..!!)

(अश्विनी।भरणी।कृत्तिका।रोहिणी।मृगशीर्ष।आर्द्रा।पुनर्वसु।पुष्य।आश्लेषा।मघा।पूर्वाफाल्गुनी।उत्तराफाल्गुनी।हस्त।चित्रा।स्वाति।विशाखा।अनुराधा।ज्येष्ठा।मूल।पूर्वाषाढा।उत्तराषाढा।श्रवण।धनिष्ठा।शतभिषज्।पूर्वाभाद्रपदा।उत्तराभाद्रपदा।रेवती।)

कोरोना वायरस की महामारी का करें मुकाबला.. मुखपट्टी हस्त प्रक्षालन, नमस्ते का करें पालन..!!