25 – कला-कौशल्य (~भारत चालीसा)

भारत गौरव गान या भारत चालीसा
स्वर : ब्र. अरुणकुमार “आर्यवीर”

25 – कला-कौशल्य
ललित कला भारत से प्रथम कहां उपजी कोई बतला।
सतयुग में नृप हरिश्चन्द्र ने लखी नर्तकी-नृत्य-कला।।
त्रेता में रामायण लिख बन गये वालमिक कवि पहला।
द्वापर में सु महाभारत लिख काव्य कला दे व्यास चला।।
कलयुग में दी कालिदास ने नाट्य-कला लिख शकुन्तला।
और भर्थरी के कवित्त, कँुजन से पिंगल छन्द फला।।
साम-वेदीय गानों से संगीत-शास्त्र का प्राण पला।
सरस्वती की वीणा से वादन का मिला विज्ञान-भला।।
भरत मुनी नारद थे जग के प्रथम नायक विद्वान।

है भूमण्डल में भारत देश महान।।
है भूमण्डल में आर्यावर्त महान।।