13 – महाभारत (~भारत चालीसा)

भारत गौरव गान या भारत चालीसा
स्वर : ब्र. अरुणकुमार “आर्यवीर”

13 – महाभारत
जहां कृष्ण ने जरासंध, शिशुपाल, कंस हत लिया स्वराज।
उग्रसेन को गद्दी देकर प्रधान पद पर गये विराज।।
विदुर, सुदामा, कुब्जा, उद्धों से दीनन के थे सिर-ताज।
भरी सभा में सती द्रौपदी की रख दी थी सतित्व-लाज।।
कौरव, पाण्डव आपस में जब बजा दिये थे रण के साज।
कौरव को निज सेना दे सारथी बने ले पाण्डव-काज।।
भीष्म, शकुनी, दुर्योधन औ द्रोण, दुशासन, कर्णधिराज।
प्राण खो गये सर के मारे यमपुर गये शरण यमराज।।
मृत अर्जुन में जान डाल दी थी गीता की तान।

है भूमण्डल में भारत देश महान।।
है भूमण्डल में आर्यावर्त महान।।