10-बालगण (~ भारत चालीसा)

भारत गौरव गान या भारत चालीसा
स्वर : ब्र. अरुणकुमार “आर्यवीर”

10-बालगण
जिनके नन्हें मुन्हें बालक भी जग में रणधीर हुए।
ध्रुव, प्रहलाद, श्रवण, लव, कुश, अभिमन्यु, रोहित वीर हुए।।
जिनके सर से रण में पैदा पावक, नीर, समीर हुए।
महारथी भी जिनके आगे भागे और अधीर हुए।।
मात गर्भ में ही सुन महिमा चक्रव्यूह वर-वीर हुए।
बालक होकर भी जो इतने धीर, वीर गम्भीर हुए।।
सनक, सनन्दन, संत, सनातन, नचीकेता मति-धीर हुए।
पूतना को जिसने मारा, वह भी शिशु यदुवीर हुए।।
बाल समय में ही बजरंगी, पद पाया हनुमान।

है भूमण्डल में भारत देश महान।।
है भूमण्डल में आर्यावर्त महान।।