Loading...
Today's Words

Audio Tag: Ishwar Bhakti Bhajan

श्रेय पथ

ओ३म् सुखकन्द से सच्चिदानन्द से याचना है। श्रेय पथ पर चलूं कामना है।। टेक।। कृत कुकर्मों की जब याद याती। आंखे हैं अश्रुधारा बहाती।। मन में सन्ताप की घोर अनुताप [ … ]

ईश्वर से संग जोड़

ईश्वर से संग जोड़ मानव, ईश्वर से संग जोड़। विषयों से मुख मोड़ मानव, विषयों से मुख मोड़।। टेक।। प्रातः सायं संध्या करले, वेदज्ञान जीवन में भरले। शुभ कर्मों को [ … ]

आवा गमन से सभी छूट जाओ..!!

आवा गमन से सभी छूट जाओ..!! परमात्मा के सभी गीत गाओ। तो आवा गमन से सभी छूट जाओ।। टेक।। वह दुःखियों का हमदर्द अकेलों का साथी। श्रुति जगदाधार है उसी [ … ]

तेरे नाम का सुमिरन करके

तेरे नाम का सुमिरन करके तेरे नाम का सुमिरन करके मेरे मन में सुख भर आया। तेरी कृपा को मैंने पाया, तेरी दया को मैंने पाया।। टेक।। दुनियां की ठोकर [ … ]

बिन आत्मज्ञान के दुनियां में..!!

बिन आत्मज्ञान के दुनियां में..!! बिन आत्मज्ञान के दुनियां में, इन्सान भटकते देखे हैं। आम बशर की तो बात ही क्या, सुल्तान भटकते देखे हैं।। टेक।। जो सबरों सकूं की [ … ]

स्वामी तेरे सिवा कोई नहीं है

स्वामी तेरे सिवा कोई नहीं है और किसका मैं पकडुँ सहारा। स्वामी तेरे सिवा कोई नहीं है।। टेक।। जिन्दगी को मैं खोता रहा यूँ। गफलत में मैं सोता रहा यूँ। [ … ]

तू कहीं नजर न आया

तू कहीं नजर न आया नहीं आज तक किसी ने, तेरा मुकाम पाया। हर जा पे जाके देखा, तू कहीं नजर न आया।। ये चाँद और सितारे, हर-दम ये कह [ … ]

तेरी शरण में जो गया

तेरी शरण में जो गया तेरी शरण में जो गया, भव से उसे छुड़ा दिया। चाहे वह कितना पातकी, पावन उसे बना दिया।। टेक।। दर-दर भटकता है वही, जो तेरे [ … ]