Loading...

Articles Tag: Sanskrit Anuvaad Abhyas

पाठ (१) प्रथमा विभक्ति

संस्कृतं वद आधुनिको भव। वेदान् पठ वैज्ञानिको भव।। पाठ (१) प्रथमा विभक्ति कर्त्तृवाच्य में कर्त्ता (=क्रिया को करनेवाला) कारक में प्रथमा विभक्ति होती है यथा- विक्रमः पठति = विक्रम पढ़ता [ … ]

पाठ (२) प्रथमा विभक्ति = गतिवैविध्यम् (विविध गतियां)

संस्कृतं वद आधुनिको भव। वेदान् पठ वैज्ञानिको भव।। पाठ (२) प्रथमा विभक्ति = गतिवैविध्यम् (विविध गतियां) कर्त्तृवाच्य में कर्त्ता (=क्रिया को करनेवाला) कारक में प्रथमा विभक्ति होती है यथा- सर्पः [ … ]

पाठ (३) प्रथमा विभक्ति = शब्दसौंदर्यम् (शब्दसौंदर्य)

संस्कृतं वद आधुनिको भव। वेदान् पठ वैज्ञानिको भव।। पाठ (३) प्रथमा विभक्ति = शब्दसौंदर्यम् (शब्दसौंदर्य) कर्त्तृवाच्य में कर्त्ता (=क्रिया को करनेवाला) कारक में प्रथमा विभक्ति होती है यथा- शब्दः शब्दयति [ … ]

पाठ (४) द्वितीया विभक्तिः (१)

संस्कृतं वद आधुनिको भव। वेदान् पठ वैज्ञानिको भव।। पाठ (४) द्वितीया विभक्तिः (१) कर्त्तृवाच्य (एक्टिव वॉइस) में कर्म (=क्रिया की निष्पत्ति में कर्त्ता को अत्यन्त अभीष्ट वस्तु) कारक में द्वितीया [ … ]

पाठ (५) द्वितीया विभक्तिः (२)

संस्कृतं वद आधुनिको भव। वेदान् पठ वैज्ञानिको भव।। पाठ (५) द्वितीया विभक्तिः (२) कर्त्तृवाच्य (एक्टिव वॉइस) में कर्म (=क्रिया की निष्पत्ति में कर्त्ता को अत्यन्त अभीष्ट वस्तु) कारक में द्वितीया [ … ]

पाठ (६) द्वितीया विभक्तिः (३) (द्विकर्मक धातुएं)

संस्कृतं वद आधुनिको भव। वेदान् पठ वैज्ञानिको भव।। पाठ (६) द्वितीया विभक्तिः (३) (द्विकर्मक धातुएं) १. दुह् अजापालः अजां दुग्धं दोग्धि = गड़रिया बकरी का दूध दुहता है। गां दुग्धं [ … ]

पाठ (७) द्वितीया विभक्तिः (४)

संस्कृतं वद आधुनिको भव। वेदान् पठ वैज्ञानिको भव।। पाठ (७) द्वितीया विभक्तिः (४) (अधि + शीङ्, अधि + स्था, अधि + आस्, अधि + वस्, आङ् + वस्, अनु + [ … ]

पाठ : (८) द्वितीया विभक्तिः (५) + अनुस्वार संधिः

संस्कृतं वद आधुनिको भव। वेदान् पठ वैज्ञानिको भव।। पाठ : (८) द्वितीया विभक्तिः (५) + अनुस्वार संधिः (गत्यर्थक, ज्ञानार्थक, भक्षणार्थक, शब्दकर्मार्थक एवं अकर्मक धातुओं के अण्यन्तावस्था में जो कर्त्ता है [ … ]

पाठ : (९) तृतीया विभक्ति (१) + यण सन्धिः

संस्कृतं वद आधुनिको भव। वेदान् पठ वैज्ञानिको भव।। पाठ : (९) तृतीया विभक्ति (१) + यण सन्धिः {करण कारक (क्रिया सम्पन्न करने का साधन) में तृतीया विभक्ति होती है।} मथन्या [ … ]

पाठ : (१०) तृतीया विभक्ति (२)

संस्कृतं वद आधुनिको भव। वेदान् पठ वैज्ञानिको भव।। पाठ : (१०) तृतीया विभक्ति (२) {कर्मवाच्य (पॅसिव्ह व्हाइस) में कर्त्ता में तृतीया विभक्ति, कर्म में प्रथमा विभक्ति तथा क्रिया कर्म के [ … ]

Page 1 of 5
1 2 3 5