Loading...

Articles Tag: Dhaturoopavali

३२. धावु गतिशुद्ध्योः

३२. धावु गतिशुद्ध्योः, (गतिः – शीघ्रगमनम्, वेगितायां गतौ; शुद्धिः – शोधनम्), भ्वादिगण ३९७, सेट्, उभयपदी अकर्मक/सकर्मकश्च लट् (वर्तमान काल) एकवचन द्विवचन बहुवचन प्र.पु. धावति धावतः धावन्ति म.पु. धावसि धावथः धावथ [ … ]

३१. खादृँ भक्षणे

३१. खादृँ भक्षणे, (भक्षणम्- अभ्यवहारः), भ्वादिगण ३९ सेट्, परस्मैपदी सकर्मक लट् (वर्तमान काल) एकवचन द्विवचन बहुवचन प्र.पु. खादति खादतः खादन्ति म.पु. खादसि खादथः खादथ उ.पु. खादामि खादावः खादामः लिट् (परोक्ष [ … ]

३०. प्रच्छँ ज्ञीप्सायाम्

३०. प्रच्छँ ज्ञीप्सायाम्, (ज्ञीप्सा- ज्ञातुमिच्छा, जिज्ञासा, प्रच्छनम्), तुदादिगण १२२, अनिट्  परस्मैपदी सकर्मक लट् (वर्तमान काल) एकवचन  द्विवचन   बहुवचन प्र.पु.  पृच्छति   पृच्छतः    पृच्छन्ति म.पु.  पृच्छसि   पृच्छथः    पृच्छथ उ.पु.  पृच्छामि  पृच्छावः    पृच्छामः लिट् (परोक्ष [ … ]

२९ स्पृशँ संस्पर्शने

29. स्पृशँ संस्पर्शने, (संस्पर्शनम्- स्पर्शः, सम्पर्कः, आसक्तिः), तुदादिगण 131, अनिट्, परस्मैपदी सकर्मक/अकर्मक लट् (वर्तमान काल) एकवचन  द्विवचन   बहुवचन प्र.पु.  स्पृशति   स्पृशतः    स्पृशन्ति म.पु.  स्पृशसि   स्पृशथः    स्पृशथ उ.पु.  स्पृशामि   स्पृशावः    स्पृशामः लिट् (परोक्ष [ … ]

२८. इषुँ इच्छायाम्

२८. इषुँ इच्छायाम्, (इच्छा- अभिलाषः, वाञ्छा, मनोरथः, ईप्सा), तुदादिगण ६१, सेट्, परस्मैपदी, सकर्मक लट् (वर्तमान काल) एकवचन  द्विवचन   बहुवचन प्र.पु.  इच्छति   इच्छतः    इच्छन्ति म.पु.  इच्छसि   इच्छथः    इच्छथ उ.पु.  इच्छामि   इच्छावः    इच्छामः [ … ]

२७. तुदँ व्यथने

२७. तुदँ व्यथने, (व्यथनम्- दुःखदानम्), तुदादिगण १, अनिट्, उभयपदी सकर्मक लट् (वर्तमान काल) पर. एकवचन  द्विवचन   बहुवचन प्र.पु.  तुदति     तुदतः      तुदन्ति म.पु.  तुदसि    तुदथः      तुदथ उ.पु.  तुदामि    तुदावः     तुदामः लिट् (परोक्ष भूत) [ … ]

२५. भक्षँ अदने, २६. भक्षँ अदने

२५. भक्षँ अदने, (अदनम्- भक्षणम्), भ्वादिगण ६३३, सेट्, उभयपदी, सकर्मक लट् (वर्तमान काल) वर्तमाने लँट् (३/२/१२३) पर. एकवचन  द्विवचन   बहुवचन प्र.पु.  भक्षति    भक्षतः     भक्षन्ति म.पु.  भक्षसि    भक्षथः     भक्षथ उ.पु.  भक्षामि   भक्षावः     भक्षामः लिट् (परोक्ष [ … ]

२४. कथँ वाक्यप्रबन्धे

२४. कथँ वाक्यप्रबन्धे, (वाक्यप्रबन्धः – कथनम्, आख्यानं, वचनं, भाषणम्, उपदेशः, अनुशासनम्, उपन्यासः निरूपणम्), चुरादिगण २७९, सेट्, उभयपदी, सकर्मक लट् (वर्तमान काल) पर. एकवचन  द्विवचन   बहुवचन प्र.पु.  कथयति   कथयतः    कथयन्ति म.पु.  कथयसि   [ … ]

२३. चिति स्मृत्याम्

23. चिति स्मृत्याम्, (स्मृतिः – चिन्तनम्, स्मरणम्, चिन्ता), चुरादिगण 2, सेट्, उभयपदी, सकर्मक लट् (वर्तमान काल) पर. एकवचन  द्विवचन  बहुवचन प्र.पु.     चिन्तयति चिन्तयतः चिन्तयन्ति म.पु.     चिन्तयसि चिन्तयथः चिन्तयथ उ.पु.     चिन्तयामि [ … ]

२२. चुरँ स्तेये

२२. चुरँ स्तेये, (स्तेयम्- चौर्यं, स्तैन्यं, मोषणं, अपहरणम्), चुरादिगण १, सेट्, उभयपदी, सकर्मक लट् (वर्तमान काल) वर्तमाने लँट् (3/2/123) एकवचन  द्विवचन  बहुवचन प्र.पु.     चोरयति   चोरयतः   चोरयन्ति म.पु.     चोरयसि  चोरयथः  चोरयथ [ … ]

Page 1 of 3
1 2 3