२९ स्पृशँ संस्पर्शने

29. स्पृशँ संस्पर्शने, (संस्पर्शनम्- स्पर्शः, सम्पर्कः, आसक्तिः), तुदादिगण 131, अनिट्, परस्मैपदी सकर्मक/अकर्मक

लट् (वर्तमान काल)

एकवचन  द्विवचन   बहुवचन

प्र.पु.  स्पृशति   स्पृशतः    स्पृशन्ति

म.पु.  स्पृशसि   स्पृशथः    स्पृशथ

उ.पु.  स्पृशामि   स्पृशावः    स्पृशामः

लिट् (परोक्ष भूत)

एकवचन  द्विवचन   बहुवचन

प्र.पु.  पस्पर्श    पस्पृशतुः   पस्पृशुः

म.पु.  पस्पर्शिथ  पस्पृशथुः   पस्पृश

उ.पु.  पस्पर्श    पस्पृशिव   पस्पृशिम

लुट् (अनद्यतन भविष्यत्)

एकवचन  द्विवचन   बहुवचन

प्र.पु.  स्पर्ष्टा     स्पर्ष्टारौ   स्पर्ष्टारः

म.पु.  स्पर्ष्टासि   स्पर्ष्टास्थः  स्पर्ष्टास्थ

उ.पु.  स्पर्ष्टास्मि  स्पर्ष्टास्वः  स्पर्ष्टास्मः

प्र.पु.  स्प्रष्टा     स्प्रष्टारौ   स्प्रष्टारः

म.पु.  स्प्रष्टासि   स्प्रष्टास्थः  स्प्रष्टास्थ

उ.पु.  स्प्रष्टास्मि  स्प्रष्टास्वः  स्प्रष्टास्मः

लृट् (भविष्यत्)

एकवचन  द्विवचन   बहुवचन

प्र.पु.  स्पर्क्ष्यति  स्पर्क्ष्यतः   स्पर्क्ष्यन्ति

म.पु.  स्पर्क्ष्यसि  स्पर्क्ष्यथः   स्पर्क्ष्यथ

उ.पु.  स्पर्क्ष्यामि स्पर्क्ष्यावः   स्पर्क्ष्यामः

प्र.पु.  स्प्रक्ष्यति  स्प्रक्ष्यतः   स्प्रक्ष्यन्ति

म.पु.  स्प्रक्ष्यसि  स्प्रक्ष्यथः   स्प्रक्ष्यथ

उ.पु.  स्प्रक्ष्यामि स्प्रक्ष्यावः   स्प्रक्ष्यामः

लेट् (वेद)

प्र.पु.      एकवचन                द्विवचन               बहुवचन

सिप् णित्-पक्ष

         (अट्/आट्)               (अट्/आट्)              (अट्/आट्)

अमागमपक्ष                       स्प्राक्षति/स्प्राक्षाति        स्प्राक्षतः/स्प्राक्षातः   स्प्राक्षन्ति/स्प्राक्षान्ति

स्प्राक्षत्/स्प्राक्षात्                                 स्प्राक्षन्/स्प्राक्षान्

स्प्राक्षद्/स्प्राक्षाद्

अमभावपक्ष                       स्पर्क्षति/स्पर्क्षाति         स्पर्क्षतः/स्पर्क्षातः    स्पर्क्षन्ति/स्पर्क्षान्ति

स्पर्क्षत्/स्पर्क्षात्                                  स्पर्क्षन्/स्पर्क्षान्

स्पर्क्षद्/स्पर्क्षाद्

सिप् अणित्-पक्ष

अमागमपक्ष                       स्प्रक्षति/स्प्रक्षाति         स्प्रक्षतः/स्प्रक्षातः    स्प्रक्षन्ति/स्प्रक्षान्ति

स्प्रक्षत्/स्प्रक्षात्                                  स्प्रक्षन्/स्प्रक्षान्

स्प्रक्षद्/स्प्रक्षाद्

अमभावपक्ष                       स्पर्क्षति/स्पर्क्षाति         स्पर्क्षतः/स्पर्क्षातः    स्पर्क्षन्ति/स्पर्क्षान्ति

स्पर्क्षत्/स्पर्क्षात्                                  स्पर्क्षन्/स्पर्क्षान्

स्पर्क्षद्/स्पर्क्षाद्

सिप् अभाव-पक्ष

स्पृशति/स्पृशाति          स्पृशतः/स्पृशातः         स्पृशन्ति/स्पृशान्ति

स्पृशत्/स्पृशात्                                  स्पृशन्/स्पृशान्

स्पृशद्/स्पृशाद्

म.पु.                             सिप् णित्-पक्ष

अमागमपक्ष                       स्प्राक्षसि/स्प्राक्षासि        स्प्राक्षथः/स्प्राक्षाथः   स्प्राक्षथ/स्प्राक्षाथ

स्प्राक्षः/स्प्राक्षाः

अमभावपक्ष                       स्पर्क्षसि/स्पर्क्षासि         स्पर्क्षथः/स्पर्क्षाथः    स्पर्क्षथ/स्पर्क्षाथ

स्पर्क्षः/स्पर्क्षाः

सिप् अणित्-पक्ष

अमागमपक्ष                       स्प्रक्षसि/स्प्रक्षासि         स्प्रक्षथः/स्प्रक्षाथः    स्प्रक्षथ/स्प्रक्षाथ

स्प्रक्षः/स्प्रक्षाः

अमभावपक्ष                       स्पर्क्षसि/स्पर्क्षासि         स्पर्क्षथः/स्पर्क्षाथः    स्पर्क्षथ/स्पर्क्षाथ

स्पर्क्षः/स्पर्क्षाः

                       सिप्-अभाव-पक्ष

स्पृशसि/स्पृशासि          स्पृशथः/स्पृशाथः         स्पृशथ/स्पृशाथ

स्पृशः/स्पृशाः

उ.पु.                             सिप् णित्-पक्ष

अमागमपक्ष                       स्प्राक्षमि/स्प्राक्षामि        स्प्राक्षवः/स्प्रक्षावः    स्प्राक्षमः/स्प्राक्षामः

स्प्राक्षम्/स्प्राक्षाम्          स्प्राक्षव/स्प्राक्षाव          स्प्राक्षम/स्प्राक्षाम

अमभावपक्ष                       स्पर्क्षमि/स्पर्क्षामि         स्पर्क्षवः/स्पर्क्षावः    स्पर्क्षमः/स्पर्क्षामः

स्पर्क्षम्/स्पर्क्षाम्           स्पर्क्षव/स्पर्क्षाव           स्पर्क्षम/स्पर्क्षाम

सिप् अणित्-पक्ष

अमागमपक्ष                       स्प्रक्षमि/स्प्रक्षामि         स्प्रक्षवः/स्प्रक्षावः    स्प्रक्षमः/स्प्रक्षामः

स्प्रक्षम्/स्प्रक्षाम्           स्प्रक्षव/स्प्रक्षाव           स्प्रक्षम/स्प्रक्षाम

अमभावपक्ष                       स्पर्क्षमि/स्पर्क्षामि         स्पर्क्षवः/स्पर्क्षावः    स्पर्क्षमः/स्पर्क्षामः

स्पर्क्षम्/स्पर्क्षाम्           स्पर्क्षव/स्पर्क्षाव           स्पर्क्षम/स्पर्क्षाम

सिप्-अभाव-पक्ष

स्पृशमि/स्पृशामि          स्पृशवः/स्पृशावः          स्पृशमः/स्पृशामः

स्पृशम्/स्पृशाम्           स्पृशव/स्पृशाव           स्पृशम/स्पृशाम

लोट् (आज्ञा अर्थ)

एकवचन      द्विवचन   बहुवचन

प्र.पु.  स्पृशतु/स्पृशतात्          स्पृशताम्      स्पृशन्तु

म.पु.  स्पृश/स्पृशतात् स्पृशतम्    स्पृशत

उ.पु.  स्पृशानि      स्पृशाव     स्पृशाम

लङ् (अनद्यतन भूतकाल)

एकवचन  द्विवचन   बहुवचन

प्र.पु.  अस्पृशत्  अस्पृशताम् अस्पृशन्

म.पु.  अस्पृशः   अस्पृशतम्  अस्पृशत

उ.पु.  अस्पृशम्  अस्पृशाव   अस्पृशाम

विधिलिङ् (आज्ञा या चाहिए अर्थ)

एकवचन  द्विवचन   बहुवचन

प्र.पु.  स्पृशेत्    स्पृशेताम्   स्पृशेयुः

म.पु.  स्पृशेः     स्पृशेतम्   स्पृशेत

उ.पु.  स्पृशेयम्  स्पृशेव     स्पृशेम

आशीर्लिङ् (आशीर्वाद)

एकवचन  द्विवचन   बहुवचन

प्र.पु.  स्पृश्यात्  स्पृश्यास्ताम् स्पृश्यासुः

म.पु.  स्पृश्याः   स्पृश्यास्तम् स्पृश्यास्त

उ.पु.  स्पृश्यासम् स्पृश्यास्व   स्पृश्यास्म

लुङ् (सामान्यभूत)

एकवचन  द्विवचन   बहुवचन

प्र.पु.  अस्पार्क्षीत् अस्पार्ष्टाम्  अस्पार्क्षुः

म.पु.  अस्पार्क्षीः  अस्पार्ष्टम्  अस्पार्ष्ट

उ.पु.  अस्पार्क्षम् अस्पार्क्ष्व   अस्पार्क्ष्म

प्र.पु.  अस्प्राक्षीत् अस्प्राष्टाम्  अस्प्राक्षुः

म.पु.  अस्प्राक्षीः  अस्प्राष्टम्  अस्प्राष्ट

उ.पु.  अस्प्राक्षम् अस्प्राक्ष्व   अस्प्राक्ष्म

प्र.पु.  अस्पृक्षत्   अस्पृक्षताम्  अस्पृक्षन्

म.पु.  अस्पृक्षः   अस्पृक्षतम्  अस्पृक्षत

उ.पु.  अस्पृक्षम्   अस्पृक्षाव    अस्पृक्षाम

लृङ् (हेतुहेतुमद् भविष्यत्)

एकवचन  द्विवचन   बहुवचन

प्र.पु.  अस्पर्क्ष्यत् अस्पर्क्ष्यताम्           अस्पर्क्ष्यन्

म.पु.  अस्पर्क्ष्यः  अस्पर्क्ष्यतम् अस्पर्क्ष्यत

उ.पु.  अस्पर्क्ष्यम् अस्पर्क्ष्याव  अस्पर्क्ष्याम

प्र.पु.  अस्प्रक्ष्यत् अस्प्रक्ष्यताम्           अस्प्रक्ष्यन्

म.पु.  अस्प्रक्ष्यः  अस्प्रक्ष्यतम् अस्प्रक्ष्यत

उ.पु.  अस्प्रक्ष्यम्    अस्प्रक्ष्याव    अस्प्रक्ष्याम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *