००३१ सरल संस्कृत अनुवाद अभ्यास पाठ ७३१ से ७६०

ओ३म्

731. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सरितायाः देवरः रुग्णः अस्ति।
= सरिता का देवर बीमार है।

सा गृहे प्राथमिकोपचारं करोति।
= वह घर में प्राथमिक उपचार करती है।

सा देवराय त्रिशून-गुलिकां ददाति।
= वह देवर को त्रिशून गोली देती है।

ऊष्णं जलं पाययति।
= गरम पानी पिलाती है।

दिनद्वयम् अभवत् देवरः स्वस्थः न जातः।
= दो दिन हो गए देवर स्वस्थ नहीं हुआ है।

सरिता शीघ्रमेव यानं बहिः निष्कासयति।
= सरिता शीघ्र ही गाड़ी बाहर निकालती है।

सा देवरं याने उपावेशयति।
= वह देवर को गाड़ी में बिठाती है।

सा वैद्यसमीपं नयति।
= वह वैद्य के पास ले जाती है।

वैद्यः देवरस्य नाड़ीपरीक्षणं करोति।
= वैद्य देवर की नाड़ी का परीक्षण करता है।

वैद्यः देवराय विरेचनं ददाति।
= वैद्य देवर को विरेचन देता है।

होराद्वये एव देवरस्य उदरं स्वच्छं भवति।
= दो घंटे में ही देवर का पेट साफ हो जाता है।

देवरः स्वस्थः भवति।
= देवर स्वस्थ हो जाता है।

देवरः भ्रातृजायायाः चरणस्पर्शं करोति।
= देवर भाभी के चरण छूता है।

ओ३म्

732. संस्कृत वाक्याभ्यासः

अहं मम भार्यया सह वार्तालापं कुर्वन् आसम् ।
= मैं मेरी पत्नी के साथ बात कर रहा था।

एकः सज्जनः आवयोः सम्वादं श्रृण्वन् आसीत्।
= एक सज्जन हम दोनों का सम्वाद सुन रहे थे।

सः पृष्टवान् – भार्यया सह संस्कृते वार्तालापं करोति ?
= उसने पूछा – पत्नी के साथ संस्कृत में बात करते हो ?

अहम् – आम् ।
= हाँ ।

सः पुनः पृष्टवान् – भार्यया सह विवादः भवति तदानीम् अपि ??
= उसने फिर से पूछा – पत्नी के साथ विवाद होता है तब भी ?

अहम् – आम् , आवयोः मध्ये गभीरः विवादः न भवति।
= हाँ , हम दोनों के बीच गहरा विवाद नहीं होता है।

सः उक्तवान् – ” तथापि कीदृशः सम्वादः भवति ?
= उसने कहा – फिर भी कैसा सम्वाद होता है ?

अहम् – त्वं मम वार्तां न मन्यसे ।
= तुम मेरी बात नहीं मानती हो।

त्वं मम वार्तां न श्रृणोषि ।
= तुम मेरी बात नहीं सुनती हो।

कति वारम् उक्तवान् , अहं भोजने लवणं न्यूनम् इच्छामि।
= कितनी बार कहा – मैं भोजन में नमक कम चाहता हूँ।

– कदापि समये सिद्धा न भवसि त्वम्।
= तुम कभी समय पर तैयार नहीं होती हो।

मम वस्तूनि कुत्र स्थापितवती ?
= मेरी वस्तुएँ कहाँ रख दीं ?

सः सज्जनः मम सम्वादं श्रुत्वा हसितवान्।
= वह सज्जन मेरा सम्वाद सुनकर हँस दिये।

सः अवदत् – स्नेहपूर्णः विवादः ।
= वह बोला – स्नेहपूर्ण विवाद ।

ओ३म्

733. संस्कृत वाक्याभ्यासः

लाली … ई … ई ..लाली …. ई…

दीपकः चिकित्सालयात् गृहम् आगच्छति तदा लालीम् एव आह्वयति।
= दीपक चिकित्सालय से घर आता है तब लाली को ही बुलाता है।

लाली – ओ ..ओ.. तातः आगतवान्।
= ओ …ओ … पिताजी आ गए।

– भवान् अद्य बहु विलम्बेन आगतवान्।
= आप आज देर से आए।

दीपकः – आम् अद्य रुग्णाः अधिकाः आसन्।
= हाँ आज रोगी अधिक थे।

– सर्वे परीक्षणीयाः भवन्ति खलु ।
= सबकी जाँच करनी होती है न ।

लाली – तात ! अद्य मम शिक्षिका मम टिप्पणीपुस्तके “सर्वोत्तमम्” लिखितवती।
= पिताजी ! आज मेरी शिक्षिका ने मेरी कॉपी में ” वेरी गुड” लिखा।

दीपकः – ओ … मम सर्वोत्तमा पुत्री।
= ओ … मेरी सर्वोत्तम बेटी।

– माता कुत्र अस्ति ?
= माँ कहाँ हैं ?

लाली – अम्ब ! तातः आह्वयति।
= माँ ! पिताजी बुला रहे हैं।

शिल्पा – आगच्छामि ….
= आई ….

– भवान् हस्तौ प्रक्षालयतु।
= आप हाथ धो लीजिये।

– भोजनम् आनयामि।
= भोजन लाती हूँ।

– सर्वे एकसाकं भोजनं करिष्यामः।
= सब एकसाथ भोजन करेंगे।

दीपकः – सर्वे ??? लाली भोजनं न कृतवती वा ??
= सब ??? लाली ने भोजन नहीं किया क्या ?

शिल्पा – भवन्तं विना लाली भोजनं न करोति।
= आपके बिना लाली खाना नहीं खाती है।

लाली – तात ! भवता सह भोजनं बहु रोचते।
= पिताजी ! आपके साथ भोजन अच्छा लगता है।

ओ३म्

734. संस्कृत वाक्याभ्यासः

माता – मा रुदिहि वत्स !
= मत रो बेटा !

– दुग्धम् आनयामि।
= दूध लाती हूँ।

– पश्य , दुग्धं दुहित्वा आनीतवती।
= देखो , दूध दुह कर ले आई।

– गोमातुः दुग्धम् ….
= गाय माता का दूध …

– गोमाता मम वत्साय दुग्धं ददाति।
= गायमाता मेरे पुत्र को दूध देती है।

– गोमाता गोवत्साय अपि दुग्धं ददाति।
= गाय माता बछड़े को भी दूध देती है।

– पिब पिब मम वत्स ! मधुरं मधुरं दुग्धं पिब।
= पियो पियो मेरे पुत्र ! मीठा मीठा दूध पियो।

– ज्येष्ठः भूत्वा गोमातुः सेवां कुरु।
= बड़े होकर गौमाता की सेवा करो।

– मातुः दुग्धं पीतवान् ।
= माँ का दूध पी लिया।

– अधुना गोमातुः दुग्धं पिबसि त्वम् ।
= अब गाय माता का दूध पी रहे हो।

ओ३म्

735. संस्कृत वाक्याभ्यासः

राजेशः संस्कृतकार्यकर्ता अस्ति।
= राजेश संस्कृतकार्यकर्ता है।

सः वित्तकोषे वृत्तिं प्राप्तवान्।
= उसको बैंक में नौकरी मिली।

तस्य मित्रं तस्मै अभिनन्दति।
= उसका मित्र उसको बधाई देता है।

सः मित्रं पृच्छति – “कुत्र नियुक्तिं प्राप्तवान् ?”
= वह मित्र पूछता है – ” कहाँ नियुक्ति पाई ?

राजेशः – ब्यावरे …
= ब्यावर में ….

मित्रम् – ब्यावर कुत्र अस्ति ?
= ब्यावर कहाँ है ?

राजेशः – राजस्थानराज्ये …. अजमेरस्य समीपे एव अस्ति ब्यावर
= राजस्थान राज्य में …. अजमेर के पास है ब्यावर

मित्रम् – गमिष्यसि त्वम् ?
= तुम जाओगे ?

राजेशः – आं गमिष्यामि।
= हाँ जाऊँगा।

– माता पिता अपि चलिष्यतः मया सह।
= माता पिता भी मेरे साथ चलेंगे।

– तौ अपि तत्र निवत्स्यतः ।
= वे दोनों भी वहीं रहेंगे।

मित्रम् – तत्र संस्कृतं त्यक्ष्यसि वा ?
= वहाँ संस्कृत छोड़ दोगे ?

राजेशः – नैव … कदापि नैव …
= नहीं … कभी नहीं ….

– वृत्तिं त्यक्तुं शक्नोमि .. संस्कृतं त्यक्तुं न शक्नोमि।
= नौकरी छोड़ सकता हूँ … संस्कृत नहीं छोड़ सकता ।

ओ३म्

736. संस्कृत वाक्याभ्यासः

पतिः गृहम् आगच्छति।
= पति घर आता है।

स्ववस्त्राणि अवतार्य प्रक्षालनार्थं स्थापयति।
= अपने कपड़े उतारकर धोने के लिये रख देता है।

सः उरूकस्य कोशं न पश्यति।
= वह पैंट की जेब नहीं देखता है।

तस्य भार्या प्रक्षालनयन्त्रे वस्त्राणि स्थापयति।
= उसकी पत्नी वाशिंग मशीन में कपड़े डाल देती है।

सा प्रक्षालनयन्त्रं चालयति।
= वह वाशिंग मशीन चलाती है।

यदा सा शुष्कीकर्तुं वस्त्राणि लम्बयति तदा द्विसहस्रस्य रूप्यकम् अधः पतति।
= जब वह सुखाने के लिये कपड़े लटकाती है तब दो हजार की नोट नीचे गिरती है।

कोशात् यदा द्विसहस्रस्य रूप्यकम् अधः पतति तदा सा चकिता भवति।
= जेब से जब दो हजार की नोट नीचे गिरती है तब वह चकित हो जाती है।

सा पतिम् आह्वयति।
= वह पति को बुलाती है।

“किमर्थं प्रमादं करोति?”
= लापरवाही क्यों करते हैं ?

“भवतः उरूकस्य कोशे पुनः पश्यतु।”
= आपकी पेंट की जेब में फिर से देखिये।

“कदाचित् इतोsपि धनं स्यात्”
= शायद और भी धन होगा।

पतिः कोशं पुनः पश्यति।
= पति फिर से जेब देखता है।

ओ३म्

737. संस्कृत वाक्याभ्यासः

समाचारपत्रम् आगतम् ।
= समाचारपत्र आ गया।

सः समाचारपत्रं हस्ते गृहीत्वा पठति।
= वह समाचारपत्र हाथ में लेकर पढ़ता है।

सः प्रथमं पृष्ठं त्यजति।
= वह पहला पेज छोड़ देता है।

द्वितीयं पृष्ठं पश्यति।
= दूसरा पृष्ठ देखता है।

तृतीयं पृष्ठं केवलं पश्यति।
= तीसरा पृष्ठ को केवल देखता है।

चतुर्थं पृष्ठं केवलम् अवलोकयति।
= चौथा पृष्ठ केवल देखता है।

पञ्चमं पृष्ठं दृष्ट्वा शीघ्रमेव परिवर्तयति।
= पाँचवाँ पृष्ठ शीघ्र ही बदल देता है।

षष्ठे पृष्ठे सम्पादकीयं पठति।
= छठे पृष्ठ पर संपादकीय पढ़ता है।

सप्तमे पृष्ठे संस्कृतिविषये लेखं पठति।
= सातवें पृष्ठ पर संस्कृति के विषय पर लेख पढ़ता है।

अष्टमे पृष्ठे सः सामाजिकसंस्थानां चित्राणि पश्यति।
= आठवें पृष्ठ पर सामाजिकसंस्थाओं के चित्र देखता है।

नवमे पृष्ठे क्रीड़ाजगतः चित्राणि पश्यति।
= नवें पृष्ठ पर क्रीड़ा जगत के चित्र देखता है।

दशमे ( अन्तिमे) पृष्ठे सः दुर्घटनायाः चित्राणि पश्यति।
= दसवें ( अन्तिम) पृष्ठ पर वह दुर्घटना के चित्र देखता है।

शीघ्रमेव समाचारपत्रम् उत्पीठिकायां स्थापयति।
= जल्दी से वह समाचारपत्र टेबल पर रख देता है।

ओ३म्

738. संस्कृत वाक्याभ्यासः

तस्य गृहस्य तलं बहु चिक्कणम् अस्ति।
= उसके घर का फर्श बहुत चिकना है।

सर्वे ध्यानपूर्वकं चलन्ति।
= सब ध्यान से चलते हैं।

तले यदा जलं पतति तदा जलं न दृश्यते।
= फर्श पर जब पानी गिरता है तब पानी नहीं दिखता है।

तलस्य वर्णः अपि श्वेतः अस्ति।
= फर्श का रंग भी सफेद है।

ह्यः सः प्रकोष्ठात् पाकशालां गच्छति स्म।
= कल वह कमरे से रसोईघर जा रहा था।

प्रकोष्ठस्य तले जलं पतितम् आसीत्।
= कमरे के फर्श पर पानी गिरा था।

सः अनवधानेन चलितवान्।
= वह ध्यान बिना के चला।

सः प्रकोष्ठे पतितवान्।
= वह कमरे में गिर गया।

तस्य पादः वक्रः जातः।
= उसका पैर मुड़ गया।

तस्य पादे वितनम् अभवत्।
= उसके पैर में मोच लग गई।

तस्य भार्या शीघ्रम् आगत्य शामकं लिम्पति।
= उसकी पत्नी शीघ्र आकर बाम लगाती है।

पट्टं बध्नाति।
= पट्टा बाँधती है।

अधुना सः विश्रामं करोति।
= अभी वह विश्राम कर रहा है।

ओ३म्

739. संस्कृत वाक्याभ्यासः

परह्यः जखौ गतवान् आसम्।
= परसों जखौ गया था।

जखौ समुद्रतीरे अस्ति।
= जखौ समुद्र के किनारे है।

अनतिदूरे एव कराँची अस्ति।
= कुछ ही दूरी पर कराँची है।

जखौ मध्ये मत्स्यग्रहणकार्यम् अधिकं भवति।
= जखौ में मछली पकड़ने का काम अधिक होता है।

अनेके धीवराः तत्र आसन्।
= अनेक मछुआरे वहाँ थे।

केचन धीवराः नौकायाम् आसन्।
= कुछ मछुआरे नाव में थे।

केचन धीवराः जालं नीत्वा गच्छन्ति स्म।
= कुछ मछुआरे जाल लेकर जा रहे थे।

समुद्रतटे बहु सिक्ता अस्ति।
= समुद्र के किनारे बहुत रेती है।

तत्र लघुमीनाः आसन् , बहु विशालाः मीनाः अपि आसन्।
= वहाँ छोटी मछलियाँ थी, बहुत बड़ी मछलियाँ भी थीं।

अहं तत्र तारामत्स्यं दृष्टवान्।
= मैंने वहाँ तारा मछली देखी।

एकः सर्पसदृशः मत्स्यः अपि आसीत्।
= एक साँप जैसी भी मछली थी।

समुद्रजले अपि अहं गतवान्।
= समुद्र के जल में भी मैं गया।

ओ३म्

740. संस्कृत वाक्याभ्यासः

प्रातः स्नानं कृत्वा सः बहिः गतवान्।
= प्रातः नहाकर वह बाहर गया।

गृहात् बहिः यत्र यत्र अवकरम् आसीत् तद् सर्वं अवकरपात्रे स्थापितवान्।
= घर के बाहर जहाँ जहाँ कूड़ा था वो सब कूड़ेदान में डाल दिया।

तं दृष्ट्वा अन्ये अपि जनाः स्वच्छतां कृतवन्तः।
= उसको देखकर अन्य लोगों ने भी स्वच्छता की।

सम्पूर्णा वीथिः स्वच्छा जाता।
= सारी गली साफ हो गई।

अनन्तरं सः बालकान् आहूतवान्।
= बाद में उसने बच्चों को बुलाया।

वीथ्याः सर्वे जनाः अपि आगतवन्तः।
= गली के सभी लोग आए।

सर्वे ध्वजारोहणं कृतवन्तः।
= सबने ध्वजारोहण किया।

अनन्तरं सर्वेषां गृहे ये सेवकाः , सेविकाश्च कार्यं कुर्वन्ति तेभ्यः कम्बलवितरणं कृतम्।
= बाद में सबके घरों में जो सेवक , सेविकाएँ काम करती हैं उनको कम्बल बाँटे।

सेवकानां बालकेभ्यः विद्यालयस्यस्यूतं दत्तवन्तः।
= सेवकों के बच्चों को स्कूल बैग दी।

सर्वे मिलित्वा “वन्देमातरम्” गीतं गीतवन्तः।
= सबने मिलकर वन्देमातरम गीत गाया।

गणतंत्रदिनस्य सर्वेभ्यः मङ्गलकामनाः।

ओ३म्

741. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सः भोपालं गन्तुम् इच्छति।
= वह भोपाल जाना चाहता है।

सः यात्रापरामर्शदातारं दूरवाणीं करोति।
= वह ट्रैवेल एडवाइज़र को फोन करता है।

परामर्शकेन्द्रे एका युवतिः दूरवाणीम् उन्नयति।
= एडवाइज़र केन्द्र में एक युवती फोन उठाती है।

सा प्रश्नान् पृच्छति।
= वह प्रश्न पूछती है।

“भवतः नाम किम् ?”
= आपका नाम क्या ?

“कुतः वदति भवान् ?”
= आप कहाँ से बोल रहे हो ?

“भवान् कुत्र गन्तुम् इच्छति?”
= आप कहाँ जाना चाहते हैं ?

“रेलयानेन गन्तुम् इच्छति वा विमानेन ?”
= रेल से जाना चाहते हैं या विमान से ?

“कति जनाः भोपालं गमिष्यन्ति ?”
= कितने लोग भोपाल जाएँगे ?

“भोपाले पथिकालये स्थातुम् इच्छति वा ?”
= भोपाल में होटल में ठहरना चाहते हैं क्या ?

“कति दिनानि भवान् तत्र स्थास्यति ?”
= आप कितने दिन वहाँ ठहरेंगे ?

“भवतः चलभाषक्रमांकं वदतु।”
= आपका मोबाइल नंबर बोलिये।

“अस्तु , महोदय ! भवतः विमानचिटिका सिद्धा जाता।”
= ठीक है महोदय ! आपकी विमान टिकट तैयार है।

‘भवतः निवासव्यवस्था अपि अभवत्।”
= आपकी निवास की व्यवस्था भी हो गई।

“भवान् चलतन्त्रेण धनं दातुं शक्नोति।”
= आप ऑनलाइन भुगतान कर सकते हैं।

ओ३म्

742. संस्कृत वाक्याभ्यासः

शिवकुमार-स्वामिनः विषये पठामि स्म।
= शिवकुमार स्वामि के बारे में पढ़ रहा था।

स्वामि-शिवकुमारः लिंगायतसमुदायस्य नायकः आसीत्।
= स्वामी शिवकुमार लिंगायत समुदाय के नायक थे।

कर्णाटक-राज्यस्य तुमकुरजनपदे शिवगङ्गामठः अस्ति।
= कर्नाटक राज्य के तुमकुर जिले में शिवगंगा मठ है।

स्वामिशिवकुमारः शिवगङ्गामठस्य मठाधीशः आसीत्।
= स्वामी शिवकुमार शिवगङ्गा मठ के मठाधीश थे।

अशीतिः वर्षेभ्यः सः शिवगङ्गामठस्य मठाधीशः आसीत्।
= अस्सी वर्ष से वे शिवगङ्गा मठ के मठाधीश थे।

सः शताधिकानां विद्यालयानां संचालनं करोति स्म।
= वे सौ से भी विद्यालयों का संचालन करते थे।

अनेकानि स्वास्थ्यकेन्द्राणि अपि मठेन संचाल्यन्ते।
= अनेक स्वास्थ्यकेंद्र भी मठ के द्वारा संचालित होते हैं।

सः जातिविभेदं न मन्यते स्म।
= वो जाति भेद नहीं मानते थे।

सः सात्विकं भोजनं खादति स्म ( भुङ्क्ते स्म)
= वे सात्विक भोजन खाते थे।

एकादशाधिकशतं वर्षीयः शिवकुमारस्वामि: गतसप्ताहे दिवंगतः जातः ।
= एक सौ ग्यारह वर्ष के शिवकुमार स्वामी पिछले सप्ताह दिवंगत हुए।

पुण्यपुरुषाय वयं श्रद्धाञ्जलिं दद्मः।
= पुण्यपुरुष को हम श्रद्धाञ्जलि देते हैं।

ओ३म्

743. संस्कृत वाक्याभ्यासः

रामेश्वरः भ्रमणार्थं निर्गतः।
= रामेश्वर घूमने के लिये निकला।

सः गृहात् निर्गत्य पूर्वदिशं प्रति प्रस्थितः।
= वह घर से निकल कर पूर्व दिशा की ओर चल दिया।

मार्गे एकः कुक्कुरः मृतः आसीत्।
= रास्ते में एक कुत्ता मरा था।

रामेश्वरः तत्र स्थित्वा मुखे करवस्त्रं बध्नाति।
= रामेश्वर वहाँ खड़ा होकर मुँह पर रुमाल बाँधता है।

अनन्तरं सः रज्ज्वा कुक्कुरस्य एकं पादं बध्नाति।
= बाद में वह रस्सी से कुत्ते का एक पैर बाँधता है।

सः रज्ज्वा मृतं कुक्कुरं कर्षति।
= वह रस्सी से मरे हुए कुत्ते को खींचता है।

तं मृतं कुक्कुरं सः बहु दूरं नयति।
= उस मरे हुए कुत्ते को वह बहुत दूर ले जाता है।

अनन्तरं सः गृहम् आगच्छति।
= बाद में वह घर आता है।

गृहम् आगत्य सः स्नानं करोति।
= घर आकर वह स्नान करता है।

अधुना तस्मिन् मार्गे दुर्गन्धः नास्ति।
= अभी उस रास्ते में दुर्गन्ध नहीं है।

ओ३म्

744. संस्कृत वाक्याभ्यासः

ह्यः “उरी” चलचित्रं द्रष्टुं गतवान् अहम् ।
= कल मैं “उरी” फ़िल्म देखने गया था।

बहवः जनाः चलचित्रं द्रष्टुम् आगतवन्तः।
= बहुत से लोग फ़िल्म देखने आए थे।

प्रारम्भे राष्ट्रगानार्थं सर्वे उत्थितवन्तः।
= प्रारम्भ में राष्ट्रगान के लिये सभी खड़े हो गए।

अनन्तरं चलचित्रम् आरब्धम् ।
= बाद में फ़िल्म शुरू हुई।

पूर्वोत्तरभारते अस्माकं सैनिकाः आतंकवादिभिः हताः।
= पूर्वोत्तर भारत में हमारे सैनिक आतंकवादियों द्वारा मारे गए।

तेषां प्रतीकारार्थम् अस्माकं सैनिकाः कटिबद्धाः आसन्।
= उनका बदला लेने के लिये हमारे सैनिक कटिबद्ध थे।

ते सर्वे ब्रह्मदेशं प्रविश्य सर्वान् आतंकवादीन् मारितवन्तः।
= उन सबने म्यांमार में प्रवेश कर के सभी आतंकवादियों को मार दिया।

आतंकवादिनां शिबिराणि अपि ध्वस्तानि कृतानि।
= आतंकवादियों के शिबिर भी ध्वस्त किये।

सर्वे दर्शकाः प्रसन्नाः अभवन्।
= सभी दर्शक प्रसन्न हुए।

अनन्तरम् उरी विस्तारे पाकिस्थानस्य आतंकवादिनः अस्माकं वीरान् मारितवन्तः।
= बाद में उरी विस्तार में पाकिस्तान के आतंकवादियों ने हमारे वीरों को मार दिया।

उरीधटनायाः अपि प्रतिकारम् अस्माकं वीराः कुशलतया कृतवन्तः ।
= उरी घटना का भी प्रतिकार हमारे वीरों ने कुशलतापूर्वक किया।

रात्रौ घनान्धकारे वीरसैनिकाः सीमापारं गतवन्तः।
= रात में घने अन्धकार में हमारे वीर सैनिक सीमापार गए।

शिबिरेषु ये आतंकवादिनः सुप्ताः आसन् तान् ते मारितवन्तः ।
= शिविरों में जो आतंकवादी सो रहे थे उनको उन्होंने मार दिया।

चलचित्रं दृष्ट्वा अहम् अतीव आनंदितः अस्मि।
= फ़िल्म देखकर मैं बहुत खुश हूँ।

ओ३म्

745. संस्कृत वाक्याभ्यासः

अद्य एकस्य बालकस्य नामाभिधानं करणीयम् आसीत्।
= आज एक बालक का नामकरण कराना था।

नवजातस्य बालकस्य शरीरे पितामही तैलमर्दनं कृतवती।
= नवजात बालक के शरीर में दादी ने तेलमालिश की

नवजातं बालकं पितामही स्नानं कारितवती।
= नवजात बालक को दादी ने नहलाया।

अनन्तरं सा बालकं वस्त्रेण बद्धवती ।
= बाद में उसने बच्चे को वस्त्र से बाँध दिया।

नेत्रयोः कज्जलं स्थापितवती।
आँखों में काजल लगाया।

अनन्तरं सर्वे यज्ञार्थम् उपाविशन्।
= बाद में सभी यज्ञ के लिये बैठे।

बालकस्य नामाभिधानम् “आर्ष:” कृतम्।
= बालक का नाम “आर्ष” रखा गया।

अनन्तरं पितामही धेनवे तृणं दत्तवती।
= बाद में दादी जी ने गाय को घास दी।

अतिथयः भोजनं कृतवन्तः।
= अतिथियों ने भोजन किया।

सर्षपस्य शाकम् आसीत्।
= सरसों का साग था।

मकोयस्य रोटिका आसीत्।
= मक्के की रोटी थी।

तेन सह गुडम् अपि आसीत्।
= उसके साथ गुड़ भी था।

ततः खादित्वा अधुनैव गृहम् आगतवान्।
= वहाँ से खाकर अभी ही घर आया हूँ।

ओ३म्

746. संस्कृत वाक्याभ्यासः

शानचन्दः शाकविक्रेता अस्ति।
= शानचन्द सब्जी बेचने वाला है।

सः शकटे शाकानि स्थापयति।
= वह ठेले पर सब्जियाँ रखता है।

प्रातः नववादने शकटं स्वीकृत्य गृहात् निर्गच्छति।
= प्रातः नौ बजे ठेला लेकर घर से निकलता है।

एकवीथितः द्वितीयां वीथिं गच्छति।
= एक गली से दूसरी गली जाता है।

सः उच्चै: ध्वनति। (ध्वन् धातु: )
= वह जोर से आवाज लगाता है।

प्रायः महिलाः एव गृहात् (गृहेभ्यः) बहिः आगच्छन्ति।
= प्रायः महिलाएँ ही घर से ( घरों से ) बाहर आती हैं।

महिलाः प्रश्नान् पृच्छन्ति।
= महिलाएँ प्रश्न पूछती हैं।

शानचन्दः प्रेम्णा उत्तरं ददाति।
= शानचन्द प्रेम से उत्तर देता है।

सः सर्वेषां शाकानां मूल्यम् अपि वदति।
= वह सभी सब्जियों का भाव भी बोलता है।

का अपि महिला यावद् वदति तावद् शाकं सः तोलयति।
= कोई भी महिला जितना बोलती है उतनी सब्जी वह तौलता है।

अनन्तरं महिलाभ्यः सः धनं स्वीकरोति ।
= बाद में वह महिलाओं से धन स्वीकार करता है।

सः धनं गणयति , कोशे स्थापयति।
= वह धन गिनता है , जेब में रखता है।

महिलाः शाकं नीत्वा गृहस्य अन्तः गच्छन्ति।
= महिलाएँ सब्जी लेकर घर के अन्दर जाती हैं ।

ओ३म्

747. संस्कृत वाक्याभ्यासः

किशोरस्य गृहं रेलपट्टिकायाः पार्श्वे एव अस्ति।
= किशोर का घर रेल लाइन के पास ही है।

आदिनं रेलयानानि ततः गच्छन्ति , आगच्छन्ति च।
= सारा दिन वहाँ से रेलगाडियाँ जाती हैं और आती हैं।

यात्रियानानि ततः गच्छन्ति ।
= यात्री रेल जाती है।

भारयानानि अपि गच्छन्ति।
= माल रेल भी जाती है।

कर्षकः कर्कशनादं करोति।
= इंजिन कठोर ध्वनि करता है।

शीश्कारं करोति।
= व्हिसिल बजाता है।

किशोरः प्रातः ध्यानं कर्तुम् अन्यत्र गच्छति।
= किशोर सुबह ध्यान करने के लिये अन्यत्र जाता है।

किशोरस्य भार्या पुत्रं सिद्धं करोति।
= किशोर की पत्नी पुत्र को तैयार करती है।

सा पुत्रं विद्यालयं प्रेषयति।
= वह पुत्र को विद्यालय भेजती है।

किशोरः गृहम् आगत्य सिद्धः भवति अनन्तरं सः कार्यालयं गच्छति।
= किशोर घर आकर तैयार होता है बाद में ऑफिस जाता है।

किशोरस्य भार्या चिकित्सालये परिचारिका अस्ति।
= किशोर की पत्नी अस्पताल में नर्स है।

सा दशवादने चिकित्सालयं गच्छति।
= वह दस बजे अस्पताल जाती है।

किशोरस्य पुत्रः विद्यालयतः गृहं न आगच्छति।
= किशोर का बेटा विद्यालय से घर नहीं आता है।

सः मातुः समीपं गच्छति।
= वह माँ के पास जाता है।

चिकित्सालये एव स्वाध्यायं करोति।
= चिकित्सालय में ही स्वाध्याय करता है।

ते सर्वे आदिनं ध्वनेः दूरमेव भवन्ति।
= वे सभी सारा दिन ध्वनि से दूर रहते हैं।

सायंकाले सर्वे परिवारजनाः गृहम् आगच्छन्ति।
= शाम को सभी परिवार जन घर आते हैं।

ओ३म्

748. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सम्वादः न भवति चेत् भाषाभ्यासः न भवति।
= सम्वाद नहीं होता है तो भाषा का अभ्यास नहीं होता है।

यदा वयं केनापि सह सम्वादं कुर्मः तदा अस्माकं सम्वादं जनाः अपि श्रृण्वन्ति।
= जब हम किसी के साथ भी सम्वाद करते हैं तब हमारा सम्वाद लोग भी सुनते हैं।

संस्कृते सम्वादं श्रुत्वा जनाः आकृष्टाः भवन्ति।
= संस्कृत में सम्वाद सुनकर लोग आकर्षित होते हैं।

सरलं संस्कृतं श्रुत्वा मुदिताः भवन्ति।
= सरल संस्कृत सुनकर खुश होते हैं।

जनाः वदन्ति – “ओह , संस्कृतं तु सरलम् अस्ति।”
= लोग बोलते हैं – “ओह, संस्कृत तो सरल है।

अहमपि पठितुम् इच्छामि।
= मैं भी पढ़ना चाहता / चाहती हूँ।

अतः यदा आपणं गच्छामः तदा परस्परं संस्कृते वार्तालापः करणीयः।
= अतः जब हम बाज़ार जाते हैं तब एकदूसरे से संस्कृत में बात करनी चाहिये।

कथं करणीयम् ?
= कैसे करें ?

“नमस्ते / नमो नमः ।”

कथम् अस्ति ?

अहं फेनकं क्रेतुम् इच्छामि।
= मैं साबुन खरीदना चाहता/ चाहती हूँ।

न एतद् न तद् दर्शयतु ।
= नहीं ये नहीं वो दिखाईये।

एतद् ददातु।
= ये दीजिये।

एतस्य मूल्यं किम् ?
= इसकी कीमत क्या है?

धनं स्वीकरोतु।
= पैसा लीजिये।

पुनः मिलामः
= फिर मिलेंगे।

*आवर्षं संस्कृतं वदन्तु*

ओ३म्

749. संस्कृत वाक्याभ्यासः

*करोतु …. कुर्वन्तु*

हे मित्र ! यज्ञं करोतु।
= हे मित्र ! यज्ञ करिये।

भवान् भोजनं करोतु।
= आप भोजन करिये।

हे मातः ! भवती विश्रामं करोतु।
= हे माँ ! आप विश्राम करिये।

आगच्छतु , गङ्गास्नानं करोतु।
= आईये , गङ्गास्नान करिये।

भवन्तः सर्वे प्रतीक्षां कुर्वन्तु … अहम् आगच्छामि।
= आप सभी प्रतीक्षा करिये … मैं आता हूँ।

भवत्यः सर्वाः अभ्यासं कुर्वन्तु।
= आप सभी अभ्यास करिये।

भो: सज्जनाः ! स्वच्छतां कुर्वन्तु।
= हे सज्जनों ! स्वच्छता करिये।

आगच्छन्तु , गङ्गास्नानं कुर्वन्तु।
= सभी आईये , गङ्गास्नान करिये।

नृत्यं करोतु ।

नृत्यं कुर्वन्तु ।

शयनं करोतु।

शयनं कुर्वन्तु।

कोलाहलं मा करोतु।

कोलाहलं मा कुर्वन्तु ।

*अभ्यासं करोतु , कुर्वन्तु इति मम निवेदनम्*

ओ३म्

750. संस्कृत वाक्याभ्यासः

*नयति*

सः / सा नयति = वह ले जाता है / ले जाती है।

सः/सा किं नयति ?
= वह क्या ले जाता है / जाती है ?

सः / सा दुग्धं नयति ।
= वह दूध ले जाता है / ले जाती है।

सः/सा दुग्धं कुत्र नयति ?
= वह दूध कहाँ ले जाता है / ले जाती है ?

सः / सा दुग्धं गृहे नयति।
= वह दूध घर में ले जाता है / ले जाती है।

सः/सा कुतः दुग्धम् आनयति ?
= वह कहाँ से दूध लाता /लाती है ?

सः/ सा दुग्धालयतः दुग्धम् आनयति।
= वह दुग्धालय से दूध लाता है / लाती है।

सः / सा कस्मिन् दुग्धं नयति ?
= वह किसमें दूध ले जाता है / ले जाती है ?

सः / सा करमण्डले दुग्धं नयति।
= वह कमण्डल में दूध ले जाता / ले जाती है ।

*नयामि*

अहं नयामि ।
= मैं ले जाता / ले जाती हूँ।

अहं किं नयामि ?
= मैं क्या ले जाता/ ले जाती हूँ ?

मैं तृणं नयामि।
= मैं घास ले जा रहा हूँ / ले जा रही हूँ ।

अहं तृणं कुत्र नयामि ?
= मैं घास कहाँ ले जा रहा / ले जा रही हूँ?

अहं तृणं गोशालायां नयामि।
= मैं घास गौशाला में ले जा रहा /ले जा रही हूँ।

अहं कुतः तृणम् आनयामि ?
= मैं कहाँ से घास ला रहा / ला रही हूँ ?

अहं तृणं क्षेत्रात् आनयामि
= मैं खेत से घास ला रहा /ला रही हूँ।

अहं कस्मिन् तृणं नयामि ?
= मैं किसमें घास ले जाता/ ले जाती हूँ ?

अहं द्विचक्रिकायां तृणं नयामि।
= मैं साइकिल पर घास ले जा रहा हूँ/ ले जा रही हूँ।

ओ३म्

751. संस्कृत वाक्याभ्यासः

*खादति ….. खादन्ति*

सः तिलस्य मोदकं खादति।
= वह तिल का लड्डू खाता है।

विजयः गृञ्जनं खादति।
= विजय गाजर खाता है।

अमिता भूचणकपट्टिकां खादति।
= अमिता मूँगफली की कतली ( चिकी) खा रही है।

बालकाः इक्षुदण्डं छिनित्वा खादन्ति।
= बच्चे गन्ना छील कर खाते हैं।

( इक्षुदण्डं चूषन्ति = गन्ना चूसते हैं),

बालिकाः बदरीफलं खादन्ति।
= बालिकाएँ बेर खाती हैं ।

अश्वाः चणकं खादन्ति।
= घोड़े चना खाते हैं।

*खादामि ….. खादामः*

अहं मोमकं खादामि।
= मैं पेड़ा खाता हूँ।

अहं दुग्धे रोटिकां मेलयित्वा खादामि।
= मैं दूध में रोटी मिला कर खाता हूँ।

अहं वृक्षस्य अधः उपविश्य खादामि।
= मैं पेड़ के नीचे बैठकर खा रहा हूँ।

वयं ऊष्णं भोजनं खादामः।
= हम गरम भोजन खाते हैं।

वयं सर्वे मिलित्वा भोजनं खादामः।
= हम सब मिलकर खाना खाते हैं।

पूर्वं वयं धेनवे भोजनं दद्मः अनन्तरं खादामः।
= पहले हम गाय को खाना देते हैं बाद में खाते हैं।

*भवान् / भवती किं खादति ? लिखतु*

*कः / का किं खादति ? लिखतु*

ओ३म्

*हसति …… हसन्ति*

बालकः हसति।

बालकः किमर्थं हसति ?

बालकः क्रीडनकं दृष्ट्वा हसति।

शिल्पा दुग्धं पीत्वा हसति। दुग्धे शर्करा न आसीत्।

मृदुला सर्वदा हसति।

योगेशः हास्यकणिकां श्रुत्वा हसति।

यदा शिक्षिका गच्छति तदा छात्राः हसन्ति।

जनाः हास्यकणिकायाः अर्थं ज्ञात्वा हसन्ति।

गजः शुण्डाम् उपरि करोति तदा बालकाः हसन्ति।

*हसामि ….. हसामः*

अहं राहुलं मिलित्वा हसामि।

अहं तस्य अभिनयं स्मृत्वा हसामि।

अहं कदा न हसामि ?

कोsपि पतति तदा वयं न हसामः।

बालकानां बाललीलां दृष्ट्वा वयं हसामः ।

कोsपि अशुद्धं वदति तदा वयं न हसामि ।

ओह , अशुद्धम् 

कोsपि अशुद्धं वदति तदा वयं न हसामः।

*हसन्तु , अवश्यमेव हसन्तु*

*हसित्वा हसित्वा संस्कृताभ्यासं कुर्वन्तु*

ओ३म्

752. संस्कृत वाक्याभ्यासः

*गणयति …. गणयन्ति*

एकम् , द्वे , त्रीणि , चत्वारि , पञ्च , षट् , सप्त , अष्ट , नव , दश …..

बालकः क्रीडनकानि गणयति।
= बालक खिलौने गिनता है।

महिला शाटिकाः गणयति।
= महिला साड़ियाँ गिनती है।

शिक्षिकः छात्रान् गणयति।
= शिक्षक छात्रों को गिन रहा है।

छात्राः दिनानि गणयन्ति।
= छात्र दिन गिन रहे हैं।

(परीक्षायाः कृते कति दिनानि अवशिष्टानि ?
= परीक्षा के लिये कितने दिन शेष रह गए हैं ? )

प्रतिदिनं जनाः धनम् अवश्यमेव गणयन्ति।
= प्रतिदिन लोग धन अवश्य ही गिनते हैं।

*गणयामि ….. गणयामः*

अहं मम गृहस्य पुस्तकानि गणयामि।
= मैं मेरे घर की पुस्तकों को गिन रहा हूँ।

गोशालायां कति धेनवः सन्ति ? अहं गणयामि।
= गौशाला में कितनी गाय हैं ? मैं गिनता हूँ।

कति जनाः संस्कृताभ्यासं कुर्वन्ति ? तेषां संख्यां गणयामि।
= कितने लोग संस्कृत अभ्यास करते हैं ? उनकी संख्या गिन रहा हूँ।

वयं रेलयानात् अवतरामः तदा यानपेटिकाः गणयामः।
= हम सब जब रेल से उतरते हैं तब सूटकेस गिनते हैं।

वयं अस्माकं केशान् गणयामः वा ?
= हम अपने बाल गिनते हैं क्या ?

उद्याने वयं वृक्षान् गणयामः।
= बगीचे में हम वृक्ष गिनते हैं।

*कुर्वन्तु भो: अभ्यासं , प्रतिदिनम् अभ्यासम्*

ओ३म्

753. संस्कृत वाक्याभ्यासः

*वदति ….. वदन्ति*

माता पुत्रं वदति – “विद्यालयं गच्छ”
= माँ पुत्र को बोलती है – “विद्यालय जाओ”

प्रबंधकः कर्मकरं वदति -“कार्यं कुरु”
= प्रबंधक कर्मचारी को बोलता है – ” काम करो”

वैद्यः रुग्णं वदति – “औषधं स्वीकरोतु”
= वैद्य रोगी से कहता है – “औषधि लीजिये”

जनाः विधायकस्य गृहं गत्वा स्वां समस्यां वदन्ति।
= लोग विधायक के घर जाकर अपनी समस्या बोलते हैं।

छात्राः परस्परं वदन्ति।
= छात्र आपस में बोलते हैं।

सज्जनाः कष्टं सहन्ते , किमपि न वदन्ति।
= सज्जन लोग सहन करते हैं , कुछ नहीं बोलते हैं।

*वदामि ….. वदामः*

अहं आदिनं संस्कृते वदामि।
= मैं दिन भर संस्कृत में बोलता/ बोलती हूँ।

अहं गृहे किमपि न वदामि 
= मैं घर पे कुछ नहीं बोलता / बोलती हूँ।

अहं पूर्वं श्रृणोमि अनन्तरं वदामि।
= मैं पहले सुनता हूँ बाद में बोलता हूँ।

वयं किमर्थं वदामः ?
= हम क्यों बोलते हैं ?

वयं किमर्थं न वदामः ?
= हम क्यों नहीं बोलते हैं ?

वयं भोजनसमये न वदामः ।
= हम भोजन के समय नहीं बोलते हैं।

वयम् असत्यं न वदामः।
= हम असत्य नहीं बोलते हैं।

*अधुना भवन्तः /भवत्यः अपि वदन्तु*

*संस्कृतं सरलम् अस्ति*

ओ३म्

754. संस्कृत वाक्याभ्यासः

*उपविशति ….उपविशन्ति*

यजमानः कटे उपविशति।
= यजमान दरी पर बैठता है।

पण्डितः कुशासने उपविशति।
= पण्डित कुश के आसन पर बैठता है।

छात्रः वृक्षस्य छायायाम् उपविशति।
= छात्र पेड़ की छाया में बैठता है।

जनाः कथां श्रोतुम् उपविशन्ति ।
= लोग कथा सुनने बैठते हैं ।

संसदि लोकप्रतिनिधयः उपविशन्ति।
= संसद में लोकप्रतिनिधि बैठते हैं।

अश्वाः कदापि न उपविशन्ति।
= घोड़े कभी भी नहीं बैठते हैं।

*उपविशामि …… उपविशामः*

अधुना अहं लोकयाने उपविशामि।
= अब मैं बस में बैठ रहा हूँ।

यदा श्रान्तः भवामि तदा अहम् उपविशामि।
= जब मैं थक जाता हूँ तब बैठ जाता हूँ।
/ जब मैं थक जाती हूँ तब बैठ जाती हूँ।

ध्यानसमये अहं नेत्रे निमील्य उपविशामि।
= ध्यान के समय मैं आँखें बन्द कर के बैठता / बैठती हूँ।

आगच्छन्तु , वयम् अत्र उपविशामः ।
= आईये , हम यहाँ बैठते हैं।

वयं यज्ञं कर्तुम् उपविशामः।
= हम यज्ञ करने के लिये बैठते हैं।

विमानस्य प्रतीक्षायां वयम् उपविशामः।
= विमान की प्रतीक्षा में हम सभी बैठते हैं।

ओ३म्

755. संस्कृत वाक्याभ्यासः

*ददाति , ददति*

तेजस्विनी वृक्षाय जलं ददाति।
= तेजस्विनी वृक्ष को जल देती है।

( वृक्षेभ्यः = वृक्षों को )

सा कस्मै जलं ददाति ?
= वह किसको जल देती है ?

पितामहः पौत्राय ज्ञानं ददाति।
= दादाजी पोते को ज्ञान देते हैं।

चिकित्सकः रुग्णाय औषधं ददाति।
= चिकित्सक रोगी को औषधि देता है।

जनाः श्रेष्ठाय नेत्रे मतं ददति।
= लोग अच्छे नेता को मत देते हैं।

सर्वे जनाः गुरवे आदरं ददति।
= सभी लोग गुरु को आदर देते हैं ।

वृक्षाः जनेभ्यः फलानि ददति।
= वृक्ष लोगों को फल देते हैं।

*ददामि , दद्मः*

अद्य अहं धनं ददामि , भवती मा ददातु।
= आज मैं धन देता हूँ , आप मत दीजिये।

अहं धेनवे तृणं ददामि।
= मैं गाय को घास देता हूँ।

अहं खगेभ्यः कणं ददामि।
= मैं पक्षियों को दाना देता हूँ।

वयं यज्ञे आहुतिं दद्मः ।
= हम यज्ञ में आहुति देते हैं।

वयं समाजाय किं दद्मः ?
= हम समाज को क्या देते हैं ?

वयं पठने अधिकं ध्यानं न दद्मः ।
= हम पढ़ाई पर अधिक ध्यान नहीं देते हैं ।

*लिखन्तु भो: ! भवन्तः / भवत्यः अपि*

ओ३म्

756. संस्कृत वाक्याभ्यासः

*गायति , गायन्ति*

श्रेया बहु मधुरं गायति।
= श्रेया बहुत मीठा गाती है।

माता प्रातःकाले स्तोत्रं गायति।
= माँ सुबह स्तोत्र गाती है।

सः किशोरकुमार-सदृशं गायति।
= वह किशोरकुमार जैसा गाता है।

ते / ताः राष्ट्रगीतं गायन्ति।
= वे राष्ट्रगीत गाते हैं / गाती हैं।

सुमित्रा भगिनी विष्णुसहस्रनामं गायति।
= सुमित्रा बहन विष्णुसहस्रनाम गाती है।

भगिन्यः विष्णुसहस्रनामं गायन्ति ।
= बहनें विष्णुसहस्रनाम गाती हैं।

*गायामि , गायामः*

अहं देशभक्तिगीतं गायामि।
= मैं देशभक्ति गीत गा रहा हूँ।

अहं प्रतिदिनं स्नानगृहे गायामि।
= मैं प्रतिदिन स्नानगृह में गाता हूँ।

वयं “वन्दे मातरम्” गीतं गायामः।
= हम वन्दे मातरम् गीत गाते हैं ।

वयं सर्वे मिलित्वा संस्कृतगीतं गायामः।
= हम सब मिलकर संस्कृत गीत गाते हैं।

आगच्छन्तु , वयं बालगीतं गायामः।
= आईये , हम बालगीत गाते हैं।

*भवन्तः / भवत्यः अपि लिखन्तु*

ओ३म्

757. संस्कृत वाक्याभ्यासः

*जानाति , जानन्ति*

सः सम्यक् संस्कृतं जानाति।

भवान् अद्य न जानाति श्वः ज्ञास्यति।
= आप आज नहीं जानते हैं कल जान लेंगे।

सा महिला वित्तकोषस्य मार्गं न जानाति।

सः निर्दोषः अस्ति इति जनाः न जानन्ति।
= वह निर्दोष है यह लोग नहीं जानते हैं।

कोकाकोला पीत्वा हानिः भवति इति जनाः जानन्ति।
= कोकाकोला पीने से हानि होती है यह लोग जानते हैं

बहवः जनाः संस्कृतं जानन्ति।

*जानामि , जानीमः*

अहं किमपि न जानामि।
= मैं कुछ नहीं जानता / जानती हूँ।

अहं सर्वं जानामि।
= मैं सब कुछ जानता / जानती हूँ।

अहं यज्ञं कर्तुं जानामि।
= मैं यज्ञ करना जानता हूँ।

वयं जानीमः “भारतम् अस्माकं देशः”
= हम जानते हैं “भारत हमारा देश है”

वयं सर्वे भोजनं कर्तुं जानीमः।
= हम सभी भोजन करना जानते हैं।

वयं आत्मगुणान् जानीमः।
= हम सभी अपने गुण जानते हैं।

*भवन्तः / भवत्यः अपि लिखन्तु*

ओ३म्

758. संस्कृत वाक्याभ्यासः

*इच्छति , इच्छन्ति*

छात्रः पुस्तकम् इच्छति।
= छात्र पुस्तक चाहता है।

मम पुत्री खादीकरांशुकम् इच्छति।
= मेरी बेटी खादी का कुर्ता चाहती है।

सैनिकः राष्ट्ररक्षां कर्तुम् इच्छति।
= सैनिक राष्ट्र रक्षा करना चाहता है।

कति जनाः प्रधानमन्त्री भवितुम् इच्छन्ति ?
= कितने लोग प्रधानमंत्री बनना चाहते हैं ?

ते सर्वे संस्कृतगीतं श्रोतुम् इच्छन्ति।
= वे सभी संस्कृतगीत सुनना चाहते हैं।

सुयोग्याः छात्राः व्यर्थमेव समयं यापयितुम् न इच्छन्ति।
= सुयोग्य छात्र व्यर्थ में समय बिताना नहीं चाहते है।

*इच्छामि , इच्छामः*

अहं मानसरोवरं गन्तुम् इच्छामि।
= मैं मानसरोवर जाना चाहता / चाहती हूँ।

अहं शुण्ठीपाकं खादितुम् इच्छामि।
= मैं सोंठपाक खाना चाहता/ चाहती हूँ।

अहं असत्यभाषणं न इच्छामि।
= मैं असत्यभाषण नहीं चाहता / चाहती हूँ।

वयं राष्ट्रोन्नतिम् इच्छामः।
= हम सब राष्ट्रोन्नति चाहते हैं।

वयं संस्कृतं पठितुम् इच्छामः।
= हम सब संस्कृत पढ़ना चाहते हैं।

वयं कुम्भमेलां गन्तुम् इच्छामः।
= हम कुम्भमेला जाना चाहते हैं।

*भवन्तः / भवत्यः अपि लिखन्तु*

ओ३म्

759. संस्कृत वाक्याभ्यासः

*भवति , भवन्ति*

*भवामि , भवामः*

क्रीड़नकं दृष्ट्वा बालकः प्रसन्नः भवति।
= खिलौना देखकर बच्चा खुश होता है।

तत्र कोलाहलः भवति।
= वहाँ शोर हो रहा है।

मम वामहस्ते पीड़ा भवति।
= मेरे बाएँ हाथ में पीड़ा हो रही है।

चिकित्सालये रुग्णाः स्वस्थाः भवन्ति।
= चिकित्सालय में रोगी स्वस्थ होते हैं।

योगासनं कृत्वा सर्वे स्वस्थाः भवन्ति।
= योगासन करके सभी स्वस्थ होते हैं।

सर्वेषां मुखे द्वात्रिंशत् दन्ताः भवन्ति।
= सबके मुँह में बत्तीस दाँत होते हैं।

महिलाः श्रृङ्गारं कृत्वा प्रसन्नाः भवन्ति।
= महिलाएँ श्रृंगार करके खुश होती हैं।

*भवामि , भवामः*

दुग्धं पीत्वा अहं तृप्तः भवामि।
= दूध पीकर मैं तृप्त हो जाता हूँ।

वेदान् पठित्वा अहं ज्ञानी भवामि।
= वेद पढ़ कर मैं ज्ञानी बनता हूँ।

रात्रिकाले अहं गृहे एव भवामि।
= रात में मैं घर पे ही होता हूँ।

कबड्डी क्रीड़ायां कति क्रीड़काः भवन्ति ?
= कबड्डी खेल में कितने खिलाड़ी होते हैं ?

यज्ञसमये सर्वे शान्ताः भवन्ति।
= यज्ञ के समय सभी शान्त होते हैं ।

राजमार्गाः बहु दीर्घाः भवन्ति।
= राजमार्ग बहुत लम्बे होते हैं।

*भवन्तः / भवत्यः अपि लिखन्तु*
= आप सब भी लिखिये।

ओ३म्

760. संस्कृत वाक्याभ्यासः

*पश्यामि , पश्यामः*

*पश्यति , पश्यन्ति*

अहं सूर्योदयं पश्यामि।

अहं भवतः गृहं पश्यामि।

वयं जलपोतं पश्यामः ।

वयं कबड्डीक्रीडां पश्यामः।

बालकः मोदकं पश्यति।

शिक्षिका छात्रस्य लेखनं पश्यति।

चिकित्सकः रुग्णं पश्यति।

महिलाः शाटिकाः पश्यन्ति।

साधवः ग्रन्थान् पश्यन्ति।

जनाः विमानं पश्यन्ति।

*भवन्तः / भवत्यः अपि लिखन्तु*

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *