००२९ सरल संस्कृत अनुवाद अभ्यास पाठ ६५१ से ६९०

ओ३म्

651. संस्कृत वाक्याभ्यासः

आचार्या नन्दिता वाराणस्या एकं गुरुकुलं संचालयति।
= आचार्या नंदिता वाराणसी में एक गुरुकुल चलाती हैं।

तस्याः (तासां) गुरुकुले कन्याः पठन्ति।
= उनके गुरुकुल में कन्याएँ पढ़ती हैं ।

प्रातः प्रतिदिनं गङ्गातटे गुरुकुलस्य कन्याः यज्ञं कुर्वन्ति।
= प्रतिदिन प्रातः गंगातट पर कन्याएँ यज्ञ करती हैं।

पर्यटकाः अपि ताभिः सह यज्ञं कुर्वन्ति।
= पर्यटक भी उनके साथ यज्ञ करते हैं।

अद्य नरेन्द्रः मोदी वाराणस्यां नामांकनपत्रं पूरितवान्।
= आज नरेंद्र मोदी जी ने वाराणसी से नामांकन भरा।

नामांकनपत्रे प्रस्तावकानां हस्ताक्षराणि भवन्ति।
= नामांकन पत्र में प्रस्तावकों के हस्ताक्षर होते हैं।

ते प्रस्तावकाः अपि तत्र उपस्थिताः भवन्ति।
= वे प्रस्तावक भी वहाँ उपस्थित रहते हैं।

प्रस्तावकेषु आचार्या नन्दिताभगिनी अपि आसीत्।
= प्रस्तावकों में आचार्या नन्दिता बहन भी थीं।

नन्दिताभगिनी वेदविदुषी अस्ति।
= नन्दिता बहन वेद विदुषी हैं।

संस्कृतज्ञानां सम्मानम् अभवत्।
= संस्कृतज्ञों का सम्मान हुआ।

संस्कृतस्य सम्मानम् अभवत्।
= संस्कृत का सम्मान हुआ।

जयतु संस्कृतम् , जयतु वैदिकभारतम्।

ओ३म्

652. संस्कृत वाक्याभ्यासः

रात्रौ सार्धत्रिवादने द्वौ चोरौ गृहं प्रविष्टौ
= रात साढ़े तीन बजे दो चोर घर में घुसे।

आम् आम् …. मम गृहं प्रविष्टौ।
= हाँ जी हाँ … मेरे घर में घुसे

वातायने लौहस्य शलाकां भित्वा तौ प्रविष्टौ।
= खिड़की की लोहे की शलाका तोड़कर दोनों अंदर आए।

कपाटिकाम् उद्घाटितवन्तौ।
= अलमारी खोली।

द्वितीयां कपाटिकाम् उद्घाटितवन्तौ।
= दूसरी अलमारी खोली।

रवं श्रुत्वा अहम् उत्थितवान्।
= आवाज़ सुन कर मैं उठा।

पृष्टवान् – “कः अस्ति?”
= पूछा – कौन है ?

तदनीमेव द्वौ चोरौ पलायितौ ।
= उसी समय दोनों चोर भाग गए।

गृहे सर्वं सुरक्षितम् अस्ति।
= घर में सब सुरक्षित है।

परमेश्वरस्य अनुकम्पया किमपि न चोरितम्।
= परमेश्वर की अनुकम्पा से कुछ भी चोरी नहीं हुआ है।

ओ३म्

653. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सः ओंनादं करोति।
= वह ओंनाद करता है।

एकनिमेष पर्यन्तम् ओंनादं करोति।
= एक मिनट तक ओंनाद करता है।

तस्य पुत्रः द्विनिमेष पर्यन्तम् ओंनादं करोति।
= उसका बेटा दो मिनट तक ओंनाद करता है।

सः दशवारम् आवर्तयति।
= वह दस बार दोहराता है ।

तस्य पुत्रः अपि दशवारम् आवर्तयति।
= उसका बेटा भी दस बार दोहराता है।

दशवारम् ओंनादं कृत्वा द्वौ ध्यानं कुरुतः।
= दसबार ओंनाद करके दोनों ध्यान करते हैं।

ध्यानसमये तौ कम् अपि न पश्यतः ।
= ध्यान के समय दोनों किसी को नहीं देखते हैं ।

ध्यानसमये तौ किम् अपि न पश्यतः ।
= ध्यान के समय दोनों कुछ नहीं देखते हैं ।

केवलम् ईश्वरस्य एव ध्यानं कुरुतः।
= दोनों केवल ईश्वर का ध्यान करते हैं

ध्यानेन सुखं वर्धते।
= ध्यान से सुख बढ़ता है।

ओ३म्

654. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सः सन्धिशोथेन पीड़ितः अस्ति।
= वह गठिया से पीड़ित है।

शरीरे सन्धिस्थलेषु बहु पीड़ा भवति।
= शरीर के संधि भागों में बहुत दर्द होता है।

तस्य अस्थीनि दृढ़ानि अभवन्।
= उसकी अस्थियाँ कड़क हो गई हैं।

अधुना सः प्रतिदिनं व्यायामं करोति।
= अब वह प्रतिदिन व्यायाम करता है।

ऊष्णे जले पादौ हस्तौ च स्थापयति।
= गरम पानी में हाथ और पैर रखता है।

अम्लीयं भोजनं न खादति।
= खट्टा भोजन नहीं खाता है।

महानारायणतैलं शरीरे मर्दयति।
= शरीर पर महानारायण तेल मलता है।

रविवासरे अवकाशकाले च सः सूर्यस्नानं करोति।
= रविवार को और छुट्टी के दिन वह सूर्यस्नान भी करता है।

सः शिग्रुः रसं पिबति।
= वह सहजन का रस पीता है।

सः वदति “अहं स्वयमेव स्वस्थः भविष्यामि।”
= वह कहता है – मैं स्वयं ही स्वस्थ हो जाऊँगा।

“अहं शीघ्रमेव स्वस्थः भविष्यामि। “
= मैं जल्दी स्वस्थ हो जाऊँगा

ओ३म्

655. संस्कृत वाक्याभ्यासः

( प्रातः सार्धषड्वादने …
= सुबह साढ़े छः बजे …)

माता – लाला …. लाला .. उत्तिष्ठ

पुत्रः – ऊँ… अम्ब! इतोsपि शयनं कर्तुम् इच्छामि।
= ऊँ … माँ ! मैं और भी सोना चाहता हूँ।

माता – अद्य मतदानार्थं गन्तव्यम् अस्ति।
= आज मतदान के लिये जाना है।

पुत्रः – भवती गच्छतु …. अहम् दशवादने गमिष्यामि।
= आप जाईये …. मैं दस बजे जाऊँगा।

माता – नैव पुत्र , मतदानार्थं परिवारजनैः एकसाकं गन्तव्यम्।
= नहीं बेटा , मतदान के लिये परिवारजनों को एक साथ जाना चाहिये।

पुत्रः – चलामि अम्ब ।
= चलता हूँ माँ।

माता – पूर्वं स्नानं कुरु।
= पहले स्नान कर लो।

– श्रेष्ठानि वस्त्राणि धारय।
= अच्छे वस्त्र पहन लो।

– पश्य तव पिता , तव अनुजा च सिद्धौ अभवताम्।
= देखो तुम्हारे पिताजी और तुम्हारी छोटी बहन तैयार हो गए हैं।

पुत्रः – ओह … नन्नी सिद्धा जाता !!
= ओह … नन्नी तैयार हो गई !!

– अहमपि आगच्छामि … मा गच्छन्तु।
= मैं भी आ रहा हूँ …. मत जाईयेगा।

माता – नन्नी प्रथमवारं मतदानं करिष्यति।
= नन्नी पहली बार मतदान करेगी

“कुर्याम राष्ट्राराधन, कुर्याम राष्ट्राराधन

कर्मणा , मनसा , वचसा”

ओ३म्

656. संस्कृत वाक्याभ्यासः

श्रीलंका देशस्य नाम सर्वे श्रुतवन्तः।
= श्रीलंका देश का नाम सभी ने सुना है।

अस्माकं प्रतिवेशी देशः अस्ति श्रीलंका।
=हमारा पड़ोसी देश है श्रीलंका।

श्रीराम-रावणयोः युद्धं श्रीलंकायाः सागरतटे एव अभवत्।
= श्रीराम और रावण का युद्ध श्रीलंका के सागरतट पर ही हुआ था।

माता सीता अशोकवाटिकायाम् एव वासं कृतवती।
= माता सीता ने अशोकवाटिका में ही वास किया।

अशोकवाटिका श्रीलंकायामेव अस्ति।
= अशोकवाटिका श्रीलंका में ही है।

ह्यः श्रीलंकायाम् आतंकवादी दुर्घटना संजाता।
= कल श्रीलंका में आतंकवादी दुर्घटना हुई।

अष्ट स्थलेषु भयंकराः विस्फोटाः अभवन्।
= आठ स्थानों पर भयंकर विस्फोट हुए।

ख्रिस्तीपूजागृहेषु अपि विस्फोटाः अभवन्।
= क्रिश्चियन पूजा घरों में भी विस्फोट हुए।

द्विशतं जनाः दिवंगताः जाताः।
= दो सौ लोग मारे गए।

पञ्चशतं जनाः क्षतविक्षताः अभवन्।
= पांच सौ लोग घायल हुए।

वयं सर्वे एतस्य दुष्कृत्यस्य निन्दां कुर्मः।
= हम सभी इस दुष्कृत्य की निंदा करते हैं।

दिवंगतानाम् आत्मनः शान्त्यर्थं वयं प्रार्थयामहे।
= दिवंगतों की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करते हैं।

क्षताः जनाः शीघ्रमेव स्वस्थाः भवन्तु।
= घायल लोग शीघ्र ही स्वस्थ हों।

ओ३म्

657. संस्कृत वाक्याभ्यासः

इटली देशे सर्जियो फेड्रिगो निवसति।
= इटली में सर्जियो फेड्रिगो रहते हैं।

सः तत्र लोकाधिकारी अस्ति।
= वह वहाँ लोकाधिकारी हैं।

सः अनेकवारं भारतम् अपि आगतवान् अस्ति।
= वह अनेक बार भारत भी आए हैं।

अरविन्दाश्रमे सः निवासं कृतवान्।
= अरविंद आश्रम में उन्होंने निवास किया।

सः तत्र संस्कृताध्ययनं कृतवान्।
= उसने वहाँ संस्कृत अध्ययन भी किया।

सः सम्यक् संस्कृतं जानाति।
= वह अच्छे से संस्कृत जानते हैं।

सः इटली देशे अपि संस्कृताध्ययनं करोति।
= वह इटली में भी संस्कृत अध्ययन करते हैं।

तस्य गृहे अनेकानि संस्कृतपुस्तकानि सन्ति।
= उसके घर में अनेक संस्कृत पुस्तकें हैं।

ओ३म्

658. संस्कृत वाक्याभ्यासः

दिनद्वयं किमपि न लिखितवान्।
= दो दिन कुछ भी नहीं लिखा।

श्वः आरभ्य पुनः संस्कृतलेखनं करिष्यामि।
= कल से पुनः संस्कृत लेखन करूँगा।

मम संकल्पः ” अहं मतदानम् अवश्यमेव करिष्यामि।”
मेरा संकल्प – मैं मतदान अवश्य करूँगा”

ओ३म्

659. संस्कृत वाक्याभ्यासः

प्रयागराजे अनेके संस्कृतज्ञाः निवसन्ति।
= प्रयागराज में अनेक संस्कृतज्ञ रहते हैं।

अनेके संस्कृतकार्यकर्तारः अपि सन्ति।
= अनेक संस्कृत कार्यकर्ता भी हैं।

प्रयागराजे त्रिलोकीनाथः निवसति।
= प्रयागराज में त्रिलोकीनाथ रहते हैं।

सः मम मित्रम् अस्ति।
= वह मेरे मित्र हैं।

ह्यः त्रिलोकीनाथस्य दूरवाणी आगता।
= कल त्रिलोकीनाथ का फोन आया।

बहु सम्यक् संस्कृतवार्तालापः अभवत्।
= बहुत ही अच्छा संस्कृत वार्तालाप हुआ।

अहं लोकयाने आसम्।
= मैं बस में था।

आवयोः वार्तालापं सर्वे श्रृण्वन्ति स्म।
= हम दोनों का संवाद सभी सुन रहे थे।

केचन यात्रिणः संस्कृतसंवादस्य प्रशंसाम् अकुर्वन्।
= कुछ यात्रियों ने संस्कृत संवाद की प्रशंसा की।

“संस्कृतं बहु सरलम् अस्ति” इति जनाः उक्तवन्तः ।
= “संस्कृत बहुत सरल है” ऐसा लोग बोले।

ओ३म्

660. संस्कृत वाक्याभ्यासः

वृक्षस्य अधः वृद्धा तिष्ठति।
= पेड़ के नीचे वृद्धा खड़ी है।

सा स्यूतम् भूमौ स्थापयति।
= वह थैला जमीन पर रखती है।

करवस्त्रेण मुखं प्रौञ्छति।
= रुमाल से मुँह पोंछती है।

सा प्रस्वेदं प्रौञ्छति।
= वह पसीना पोंछती है।

एका षड्वर्षीया बालिका तां वृद्धां पश्यति।
= एक छः वर्ष की बच्ची उस वृद्धा को देखती है।

सा बालिका विद्यालयतः गृहं गच्छति।
= वह बच्ची विद्यालय से घर जा रही है।

बालिकायाः पार्श्वे जलम् अस्ति।
= बच्ची के पास पानी है।

बालिका वृद्धायै जलं ददाति।
= बच्ची वृद्धा को पानी देती है।

बालिका अवदत् – “मातः ! मम पिता मां नेतुम् आगमिष्यति।”
= बच्ची बोली – माँजी ! मेरे पिताजी मुझे लेने आएँगे।

बालिका – “भवती मया सह चलतु।”
= आप मेरे साथ चलियेगा

सा वृद्धा बालिकायै आशीर्वादान् ददाति।
= वह वृद्धा बच्ची को आशीर्वाद देती है।

ओ३म्

661. संस्कृत वाक्याभ्यासः

द्वारपालः – कुत्र गन्तुम् इच्छति ?
= कहाँ जाना चाहते हैं ?

अतिथिः – एतस्मिन् आवासपरिसरे मम मातुलः निवसति।
= इस कॉलोनी में मेरे मामाजी रहते हैं।

द्वारपालः – भवतः मातुलस्य नाम किम् ?
= आपके मामाजी का नाम क्या है ?

अतिथिः – मम मातुलस्य नाम हरिसिंहः ।
= मेरे मामाजी का नाम हरिसिंह है।

द्वारपालः – गृहस्य क्रमांकः कः ?
= घर का नम्बर क्या है ?

अतिथिः – सप्तत्रिंशत्। (सप्तत्रिंशत्तमम्)
= सैंतीस (सैंतीसवाँ )

द्वारपालः – भवतः परिचयः !!!
= आपका परिचय !!!

अतिथिः – स्वीकरोतु मम आधारपत्रम् ….
= लीजिये मेरा आधार कार्ड ….

– मम नाम रणसिंहः ।
= मेरा नाम रणसिंह है।

– अहं सैनिकः अस्मि।
= मैं सैनिक हूँ।

द्वारपालः – ओह .. भवान् सैनिकः …
= ओह .. आप सैनिक हैं ….

द्वारपालः रणसिंहं मातुलस्य गृहं पर्यन्तं नयति।
= द्वारपाल रणसिंह को मामाजी के घर तक ले जाता है।

ओ३म्

662. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सभागारे सर्वे कार्यकर्तारः सम्मिलिताः अभवन्।
= सभागार में सभी कार्यकर्ता मिले ।

उत्पीठिकायां दीपं स्थापितवन्तः।
= टेबल पर दीप रखा।

श्रोतारः स्थाने उपविष्टवन्तः ।
= श्रोता जगह पर बैठ गए।

अनन्तरम् अतिथयः आगतवन्तः।
= बाद में अतिथि आए।

सर्वे अतिथयः दीपं प्रज्ज्वालितवन्तः।
= सभी अतिथियों ने दीप प्रकट किया।

अनन्तरम् …….

पीयूषः श्रीरामचन्द्रस्य विषये व्यख्यानं दत्तवान्।
= पीयूष ने श्रीरामचंद्र के विषय पर व्यख्यान दिया।

सः श्रीरामस्तोत्रम् अपि पठितवान्।
= उसने श्रीरामस्तोत्र भी पढ़ा।

अनन्तरं प्रेमलता कौरः वैशाखी विषये व्याख्यानं दत्तवती।
= बाद में प्रेमलता कौर ने वैशाखी के बारे में व्याख्यान दिया।

सा एकं पंजाबीगीतम् अपि गीतवती।
= उसने एक पंजाबी गाना भी गाया।

अनन्तरं पूर्णा भगिनी उत्थितवती।
= उसके बाद पूर्णा बहन खड़ी हुई ।

पूर्णा विशुपर्वणः माहात्म्यम् उक्तवती।
= पूर्णा ने विशु पर्व का माहात्म्य कहा।

सा एकं तमिळगीतं, एकं मलयालीगीतं च गीतवती।
= उसने एक तमिळगीत और एक मलयाली गीत गाया।

अनन्तरं हीरजीभ्राता उत्थितवान्।
= बाद में हीरजीभाई खड़े हुए।

हीरजीभ्राता बाबासाहेब अम्बेडकरस्य जीवनदर्शनं बोधितवान्।
= हीरजीभाई ने बाबासाहेब अम्बेडकर का जीवनदर्शन समझाया।

सर्वे संस्कृतकार्यकर्तारः एकस्मिन्नेव सभागारे सर्वाणि पर्वाणि आचरितवन्तः।
= सभी संस्कृतकार्यकर्ताओं ने एक ही सभागार में सारे पर्व मना लिये।

ओ३म्

663. संस्कृत वाक्याभ्यासः

योगिता – अद्य सर्वे माम् आहूतवन्तः ।
= आज सबने मुझे बुलाया ।

दीपिका – आं मामपि सर्वे आहूतवन्तः।
= हाँ मुझे भी सबने बुलाया।

योगिता – किमर्थं भोः ?
= क्यों जी ?

दीपिका – अद्य चैत्र नवरात्र्याः *आठम* अस्ति।
= आज चैत्र नवरात्रि की *आठम* है।

योगिता – ओह …. आठम न , अष्टमी उच्च्यते।
= ओह … आठम नहीं , अष्टमी कहते हैं।

दीपिका – एवं वा ?? अद्य अष्टमी तिथिः अस्ति।
= ऐसा क्या ?? आज अष्टमी तिथि है।

योगिता – आम् , जनाः कन्याः आह्वयन्ति।
= हाँ , लोग कन्याओं को बुलाते हैं।

– कन्यानाम् सम्मानं कुर्वन्ति।
= कन्याओं का सम्मान करते हैं ।

दीपिका – भोजनं खादयन्ति।
= भोजन खिलाते हैं।

योगिता – कन्याभ्यः पारितोषिकं यच्छन्ति।
= कन्याओं को भेंट देते हैं।

दीपिका – अस्माकं समाजे पुत्रीभ्यः बहु आदरः दीयते।
= हमारे समाज में पुत्रियों को बहुत आदर दिया जाता है।

योगिता – आं … वयमपि आदरोचितं कार्यं करिष्यामः।
= हाँ … हम भी आदर के योग्य काम करेंगे।

ओ३म्

664. संस्कृत वाक्याभ्यासः

नीरवस्य भार्या मातृगृहं गतवती अस्ति।
= नीरव की पत्नी मायके गई है।

प्रातःकाले सः उद्याने पादपेभ्यः जलं ददाति।
= प्रातःकाल वह उद्यान में पौधों को जल देता है।

गोपालः दुग्धम् आनयति।
= ग्वाला दूध लाता है।

नीरवः दुग्धं स्वीकरोति।
= नीरव दूध लेता है।

नीरवः दुग्धम् ऊष्णं करोति।
= नीरव दूध गरम करता है।

दुग्धं पीत्वा सः कार्यालयं गच्छति।
= दूध पीकर वह कार्यालय जाता है।

सायंकाले सः गृहं प्रत्यागच्छति तदा गृहात् बहिः बालकाः बालिकाश्च आसन्।
= शाम को वह घर लौटता है तब घर के बाहर बच्चे बच्चियाँ थे।

बालकाः अपृच्छन् – “अस्माकं भगिनी कुत्र अस्ति ?”
= बच्चों ने पूछा – “हमारी दीदी कहाँ है?”

सा अस्मान् उद्याने क्रीडयति।
= वह हमें बगीचे में खिलाती है।

नीरवः – “अधुना ज्ञातम्”
= अब पता चला

– उद्याने जलं दातुं सा किमर्थं सूचितवती !!!
= बगीचे में पानी देने के लिये उसने सूचना क्यों दी थी।

नीरवः – भो: बालकाः! आगच्छन्तु

सर्वे बालकाः नीरवस्य उद्याने क्रीडन्ति ।
= सभी बच्चे नीरव के बगीचे में खेलते हैं

क्रीडासमापने ते गीतं गायन्ति।
= खेल के समापन पर वे गीत गाते हैं

“वयं बालकाः भारतभक्ताः……”

नीरवः प्रसन्नः भवति , सर्वेभ्यः बालकेभ्यः शीतयष्टिं ददाति।
= नीरव खुश होता है , सभी बच्चों को कुल्फी देता है।

ओ३म्

665. संस्कृत वाक्याभ्यासः

धनञ्जयः अधुना हरिद्वारे अस्ति।
= धनंजय इस समय हरिद्वार में है।

सः परिवारजनैः सह हरिद्वारं गतवान् अस्ति।
= वह परिवारजनों के साथ हरिद्वार गया है।

अद्य प्रातः सः गङ्गानद्यां स्नानं कृतवान्।
= आज प्रातः उसने गङ्गा नदी में स्नान किया।

परिवारस्य सर्वे जनाः स्नानं कृतवन्तः।
= परिवार के सभी लोगों ने स्नान किया।

अधुना सः ज्वालापुरं गच्छति।
= अभी वह ज्वालापुर जा रहा है।
( ते गच्छन्ति – वे जा रहे हैं )

जवालापुरे सः यज्ञं करिष्यति।
= जवालापुर में वह यज्ञ करेगा।
( ते करिष्यन्ति – वे करेंगे )

जवालापुरतः सः ऋषिकेशं गमिष्यति।
= जवालापुर से वह ऋषिकेश जाएगा।
( ते गमिष्यन्ति – वे जाएँगे )

धनञ्जयः ऋषिकेशे स्वामिनः प्रवचनं श्रोष्यति।
= धनंजय ऋषिकेश में स्वामी जी का प्रवचन सुनेगा।

परिवारस्य सर्वे जनाः प्रवचनं श्रोष्यन्ति।
= परिवार के सभी लोग प्रवचन सुनेंगे।

सः त्रीणि दिनानि पर्यन्तं हरिद्वारे स्थास्यति।
= वह तीन दिन तक हरिद्वार में रुकेगा।
( ते स्थास्यन्ति – वे रुकेंगे )

ओ३म्

666. संस्कृत वाक्याभ्यासः

मार्गे शिवाभगिनी मिलितवती।
= रास्ते में शिवा बहन मिली।

सा द्विचक्रीयानं चालयति स्म।
= वह स्कूटर चला रही थी।

* सा केन सह आसीत् ?
= वह किसके साथ थी ?

सा पुत्रेण सह आसीत्।
= वह पुत्र के साथ थी।

* शिवाभगिनी कुतः आगच्छति स्म ?
= शिवा बहन कहाँ से आ रही थी ?

सा पुत्रं नेतुं विद्यालयं गतवती आसीत्।
= वह पुत्र को लेने विद्यालय गई थी।

शिवाभगिनी कुत्र गच्छति स्म ?
= शिवा बहन कहाँ जा रही थी ?

शिवाभगिनी स्वगृहं गच्छति स्म।
= शिवा बहन अपने घर जा रही थी।

शिवाभगिनी मां दृष्ट्वा अवदत् – “नमो नमः”
= शिवा बहन मुझे देखकर बोली -नमो नमः।

” कथम् अस्ति भवान् ?”
= कैसे हैं आप ?

अहम् उत्तरं दत्तवान् “अहं कुशली अस्मि”
= मैंने उत्तर दिया “मैं ठीक हूँ”

मार्गे अपि संस्कृतसम्वादः भवति।
= रास्ते में भी संस्कृत सम्वाद होता है।

ओ३म्

667. संस्कृत वाक्याभ्यासः

अहम् – चिकित्सकः पीड़ा पीड़ाहरम् औषधं दत्तवान्।
= चिकित्सक ने पीड़ा हरने वाली औषधि दी।

मम भार्या – किं नाम औषधस्य ?
= औषधि का नाम क्या है ?

अहम् – कॉम्बिफ्लेम ….

मम भार्या – ओह न … मा स्वीकरोतु।
= ओह नहीं … मत लीजिये।

एषा तु एलोपैथिक गुलिका अस्ति।
= ये तो एलोपैथिक गोली है।

अहम् – तर्हि किम् अभवत् ?
= तो क्या हो गया ?

मम भार्या – नैव , अहं होम्योपैथी औषधं ददामि।
= नहीं मैं होम्योपैथिक औषधि देती हूँ।

– तेन बहु लाभः भविष्यति।
= उससे बहुत लाभ होगा।

– औषधस्य दुष्प्रभावः अपि न भविष्यति।
= औषधि की साइड इफेक्ट भी नहीं होगी।

अहम् – एवं खलु ? तर्हि देहि ।
= ऐसा है क्या ? तो दे दो ।

मम भार्यायै होम्योपैथी औषधं बहु रोचते।
= मेरी पत्नी को होम्योपैथी दवा बहुत पसंद है।

ओ३म्

668. संस्कृत वाक्याभ्यासः

ह्यः अहं गोशालायां सेवां कुर्वन् आसम्।
= कल मैं गौशाला में सेवा कर रहा था।

यानात् तृणानि अवतारयामि स्म।
= वाहन से घास उतार रहा था।

अहम् अधिकम् उत्साहे आसम् ।
= मैं अधिक उत्साह में था।

अहं तृणगुच्छं बलेन कर्षितवान्।
= मैंने घास का गुच्छा बल से खींचा।

गुच्छं तु बहिः आगतम् ।
= गुच्छा तो बाहर आ गया।

अहं भूमौ पतितवान्।
= मैं भूमि पर गिर गया।

तदानीमेव चिकित्सालयं गतवान्।
= उसी समय चिकित्सालय गया।

ह्यः आदिनम् आरात्रिः विश्रामं कृतवान्।
= कल पूरा दिन , पूरी रात विश्राम किया।

अधुना पीड़ा काचित् न्यूना अस्ति।
= अभी पीड़ा कुछ कम है।

दक्षिणे हस्ते पीड़ा भवति।
दाहिने हाथ में पीड़ा है।

संस्कृतसम्वादः न भवति चेत् सुखं न अनुभवामि।
= संस्कृत सम्वाद नहीं होता है तो सुख अनुभव नहीं करता हूँ।ओ३म्

ह्यः अहं गोशालायां सेवां कुर्वन् आसम्।
= कल मैं गौशाला में सेवा कर रहा था।

यानात् तृणानि अवतारयामि स्म।
= वाहन से घास उतार रहा था।

अहम् अधिकम् उत्साहे आसम् ।
= मैं अधिक उत्साह में था।

अहं तृणगुच्छं बलेन कर्षितवान्।
= मैंने घास का गुच्छा बल से खींचा।

गुच्छं तु बहिः आगतम् ।
= गुच्छा तो बाहर आ गया।

अहं भूमौ पतितवान्।
= मैं भूमि पर गिर गया।

तदानीमेव चिकित्सालयं गतवान्।
= उसी समय चिकित्सालय गया।

ह्यः आदिनम् आरात्रिः विश्रामं कृतवान्।
= कल पूरा दिन , पूरी रात विश्राम किया।

अधुना पीड़ा काचित् न्यूना अस्ति।
= अभी पीड़ा कुछ कम है।

दक्षिणे हस्ते पीड़ा भवति।
दाहिने हाथ में पीड़ा है।

संस्कृतसम्वादः न भवति चेत् सुखं न अनुभवामि।
= संस्कृत सम्वाद नहीं होता है तो सुख अनुभव नहीं करता हूँ।

ओ३म्

669. संस्कृत वाक्याभ्यासः

नवसम्वत्सरे भवेत् नूतनं चिन्तनम् ।

नवसम्वत्सरे भवेत् नूतनम् अध्ययनम् ।

प्राप्नुवन्तु सर्वे नवउल्लासम् ।

प्राप्नुवन्तु सर्वे नवचैतन्यम् ।

हर्षमयं विषादरहितं भवतु सर्वेषां जीवनम्।

सुसंस्कारः सुविचारः भवेत् सर्वेषां लक्ष्यम् ।

नवसम्वत्सरस्य कोटिशः शुभाशयाः।

ओ३म्

670. संस्कृत वाक्याभ्यासः

कच्छ जनपदे वर्षा न अभवत्।
= कच्छ जिले में वर्षा नहीं हुई।

सर्वत्र जलं कुञ्चति।
सब जगह पानी कम हो रहा है।

सरोवरेषु जलं नास्ति।
= डैमों में जल नहीं है।

तड़ागेषु जलं नास्ति।
= तालाबों में पानी नहीं है।

कूपेषु अपि जलं कुञ्चति।
= कुओं में भी पानी कम हो रहा है।

तथापि केचन जनाः जलस्य अपव्ययं कुर्वन्ति।
= फिर भी कुछ लोग जल का अपव्यय करते हैं।

व्यर्थमेव जलं प्रवाहयन्ति।
= व्यर्थ में जल बहाते हैं।

जलं तु संरक्षणीयम् ।
= जल की तो रक्षा करनी चाहिये।

आषाढ़मासे वर्षा भविष्यति इति वयम् आशास्महे।
= आषाढ़ महीने में वर्षा होगी ऐसी हम आशा करते हैं।

सर्वे सरोवराः जलमग्नाः भवन्तु।
= सभी सरोवर जल से भर जाएँ।

ओ३म्

671. संस्कृत वाक्याभ्यासः

विनयः विद्यालययानं चालयति।
= विनय स्कूल बस चलाता है।

याने पञ्चविंशतिः छात्राः उपवेष्टुं शक्नुवन्ति।
= बस में पच्चीस छात्र बैठ सकते हैं।

विनयः छात्रैः सह संस्कृते वार्तालापं करोति।
= विनय छात्रों के साथ संस्कृत में बात करता है।

“आगच्छ … दीपक !”

“लोकेश ! हस्तम् अन्तः कुरु”

“तव हस्तः वातायनात् बहिः अस्ति”

का अपि माता पृच्छति तर्हि सः संस्कृते एव उत्तरं ददाति।
= कोई भी माँ पूछती है तो वह संस्कृत में उत्तर देता है।

“आं भगिनि ! मध्याह्ने आनेष्यामि”

“आं मम याने जलम् अस्ति।”

यदा सः विद्यालयं प्राप्नोति तदा….
= जब वह विद्यालय पहुँचता है तब ….

“विद्यालयः आगतः”

“अवतरन्तु सर्वे”

ओ३म्

672. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सपादअष्टवादने गृहात् निर्गन्तव्यम् आसीत्।
= सवा आठ बजे घर से निकलना था।

पञ्चदश निमेषाणां विलम्बः अभवत्।
= पंद्रह मिनट की देरी हो गई।

अहं सार्ध अष्टवादने गृहात् निर्गतवान् ।
= मैं साढ़े आठ बजे घर से निकला।

पूर्वनिर्धारितं स्थानं समये न प्राप्तवान्।
= पहले से निश्चित स्थान पर समय पर नहीं पहुँचा।

अतः यानं तु गतम्।
= अतः वाहन तो गया।

अहं किं करवाणि ?
= मैं क्या करूँ ?

ओह … मम मित्राणि तु अत्रैव सन्ति।
= ओह … मेरे मित्र तो यहीं हैं।

तर्हि यानं कुत्र अस्ति ?
= तो फिर वाहन कहाँ है ?

मम एकेन मित्रेण सूचितं – “यानम् ईंधनं पूरयितुं गतम्।”
= मेरे एक मित्र ने सूचित किया – “वाहन ईंधन भराने गया है।”

चिन्ता मास्तु।
= चिंता मत करिये।

भवन्तं विना वयं न गमिष्यामः।
= आपके बिना हम नहीं जाएंगे।

ओ३म्

673. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सुरेशः कारयानं गृहात् बहिः स्थापयति।
= सुरेश कार को घर के बाहर खड़ी करता है।

गृहाङ्गणे स्थानं नास्ति।
= घर के आँगन में स्थान नहीं है।

रात्रौ कारयानस्य काच भग्नं जातम्।
= रात में कार का काँच टूट गया।

कथं भग्नं जातम् ? कोsपि न जानाति।
= कैसे टूट गया ? कोई नहीं जानता है।

कः भग्नं कृतवान् ? कोsपि न जानाति।
= किसने तोड़ा ? कोई नहीं जानता है।

सुरेशः सर्वान् पृच्छति।
= सुरेश सबको पूछता है।

भवान् दृष्टवान् वा ? (पुलिङ्ग)
= आपने देखा क्या ?

भवती दृष्टवती वा ? (स्त्रीलिंग)
= आपने देखा क्या ?

सर्वे वदन्ति – “अहं न जानामि।”
= सब बोलते हैं – मैं नहीं जानता हूँ।

(वयं न जानीमः – हम नहीं जानते हैं )

सुरेशः समाधातुं कारयानं नयति।
= सुरेश रिपेरिंग के लिये कार ले जाता है।

सः यानं यानालयं नयति।
= वह गाड़ी को गैरेज में ले जाता है।

ओ३म्

674. संस्कृत वाक्याभ्यासः

अन्तरिक्षवैज्ञानिकाः प्रतिदिनं कार्यरताः सन्ति।
= अंतरिक्ष वैज्ञानिक प्रतिदिन कार्यरत हैं।

ते प्रतिदिनं नूतनम् अन्वेषणं कुर्वन्ति।
= वे प्रतिदिन नई खोज करते हैं।

वातावरणस्य अध्ययनार्थम् उपग्रहं प्रेषयन्ति।
= वातावरण के अध्ययन के लिये उपग्रह छोड़ते हैं।

दूरसंचारार्थम् उपग्रहं प्रेषयन्ति।
= दूरसंचार के लिये उपग्रह भेजते हैं।

यातायातस्य नियंत्रणार्थम् उपग्रहं प्रेषयन्ति।
= यातायात के नियंत्रण के लिये उपग्रह भेजते हैं।

केचन उपग्रहाः गुप्तचररूपेण अपि कार्यं कुर्वन्ति।
= कुछ उपग्रह जासूस के रूप में भी काम करते हैं।

अन्तरिक्षे उपग्रहं प्रेषयितुं प्रक्षेपकं भवति।
= अंतरिक्ष में उपग्रह भेजने के लिये प्रक्षेपक होता है।

प्रक्षेपके ते उपग्रहान् स्थापयन्ति।
= लॉन्चर पर उपग्रहों को रखते हैं।

प्रक्षेपकं उपग्रहान् नीत्वा उड्डयते।
= लॉन्चर उपग्रहों को लेकर उड़ता है।

यदा प्रक्षेपकम् अन्तरिक्षकक्षायां प्राप्नोति तदा उपग्रहम् अग्रे नुदति।
= जब लॉन्चर ऑर्बिट में पहुँचता है तब उपग्रह को आगे फेंकता है।

अनन्तरम् उपग्रहः परिक्रमापथि परिभ्रमति।
= बाद में उपग्रह परिक्रमा पथ पर घूमता है।

इसरो वैज्ञानिकेभ्यः कोटिशः अभिनन्दनानि।

ओ३म्

675. संस्कृत वाक्याभ्यासः

किमर्थम् ??

किमर्थम् अभ्यासं न करोति ?

सः किमर्थं हसति ?

सा किमर्थं वस्त्राणि न प्रक्षालयति ?

सः आँग्लगीतं किमर्थं श्रृणोति ?

शास्त्रीयगीतं किमर्थं न श्रृणोति ?

सः किमर्थं विलम्बेन शयनं करोति ?

सा किमर्थं क्रुद्धा भवति ?

एषः किमर्थं वारं वारं धनं गणयति ?

एषा बालिका किमर्थं रोदिति ?

भवान् किमर्थं विलम्बेन पाठं लिखति ?

ओ३म्

676. संस्कृत वाक्याभ्यासः

पिता – प्रत्यागच्छ ….
= वापस आ जाओ। ( लौट आओ)

* अग्रे मा गच्छ …
= आगे मत जाओ ..

* ओ … बालक ! न श्रूयते वा ??
= ओ … बालक ! नहीं सुनाई दे रहा है क्या ?

* माता दुग्धम् ऊष्णं कृतवती।
= माँ ने दूध गरम कर दिया है।

* दुग्धं पीत्वा गच्छ।
= दूध पीकर जाओ।

पुत्रः – नैव तात ! अद्य मार्च मासस्य अन्तिमं दिनम् अस्ति।
= नहीं पिताजी ! आज मार्च महीने का अंतिम दिन है।

** शीघ्रमेव गन्तव्यम् अस्ति।
= जल्दी से जाना है।

पिता – अधिकः विलम्बः न भविष्यति।
= अधिक देर नहीं होगी।

मातुः संतोषाय दुग्धं पिब।
= माँ के संतोष के लिये दूध पी लो ।

– अन्यथा सायंकाल प्रयन्तं सा भोजनं न करिष्यति।
= अन्यथा शाम तक वो भोजन नहीं करेगी।

पुत्रः द्वारात् प्रत्यागच्छति …
= बेटा दरवाजे से वापस आता है।

दुग्धं पिबति।
= दूध पीता है।

अनन्तरं कार्यालयं गच्छति।
= बाद में कार्यालय जाता है।

ओ३म्

677. संस्कृत वाक्याभ्यासः

* महोदयः आगतवान् ।

* चायम् आनयतु

* शीघ्रम्

** आम् , आनयामि ।

* किमर्थं विलम्बः ?

** दुग्धं नास्ति।

* तर्हि हरितचायं आनयतु।

** आम् आनयामि

** महोदयाय हरितचायं रोचते।

* मम कृते अपि हरितचायम् आनयतु।

ओ३म्

678. संस्कृत वाक्याभ्यासः

कार्यालयस्य सेविका प्रातः सप्तवादने कार्यालयम् आगतवती।
= कार्यालय की सेविका प्रातः सात बजे कार्यालय आ गई।

सा कार्यालयम् उद्घाटितवती।
= उसने कार्यालय खोला।

सा सर्वत्र स्वच्छतां कृतवती।
= उसने सब जगह स्वच्छता की।

सा सर्वाणि पात्राणि प्रक्षालितवती।
= उसने सारे पात्र साफ किये।

सा घटे जलम् अपि पूरितवती।
= उसने घड़े में पानी भी भर दिया।

अनन्तरं सा कार्यालयं पिहितवती।
= उसके बाद उसने कार्यालय बन्द कर दिया।

सा गृहं गतवती।
= वह घर गई।

प्रबंधकं दूरवाणीं कृतवती।
= प्रबंधक को फोन किया।

सा सूचितवती।
= उसने सूचित किया।

महोदय ! मम पुत्रस्य स्वास्थ्यं सम्यक् नास्ति।
= सर , मेरे पुत्र का स्वास्थ्य ठीक नहीं है।

अहं कार्यालये स्वच्छतां कृतवती।
= मैंने ऑफिस में सफाई कर दी है।

दशवादने मम पुत्रं चिकित्सालयं नेष्यामि।
= दस बजे मेरे बेटे को चिकित्सालय ले जाउँगी।

अतः अद्य शीघ्रमेव कार्यालयस्य कार्यं कृतवती अहम्।
= अतः आज मैंने जल्दी से कार्यालय की सफाई कर दी है।

सायं चतुर्वादने पुनः आगमिष्यामि।
= शाम चार बजे पुनः आ जाउँगी।

प्रबंधकः तस्याः कार्यनिष्ठां श्रुत्वा ( दृष्ट्वा) प्रसन्नः अभवत्।
= प्रबंधक उसकी कार्यनिष्ठा को सुनकर ( देखकर) खुश हुआ।

ओ३म्

679. संस्कृत वाक्याभ्यासः

मार्गे गुणजी भ्राता मिलितवान्।
= मार्ग में गुणजीभाई मिले।

गुणजीभ्राता अजापालकः अस्ति।
= गुणजी भाई बकरी पालक है।

सः अजान् चारयति ।
= वह बकरियों को चराता है।

स्कन्धे दण्डं स्थापयित्वा सः अजान् चारयति।
= कंधे पर डंडा रखकर वह बकरियाँ चराता है।

अजाः अग्रे अग्रे चलन्ति।
= बकरियाँ आगे आगे चलती हैं।

गुणजी पृष्ठे पृष्ठे चलति।
= गुणजी पीछे पीछे चलता है।

अजाः विविधानां वृक्षाणां पर्णानि खादन्ति।
= बकरियाँ विविध वृक्षों के पत्ते खाती हैं।

गुणजी एकाम् अजां दोग्धि।
= गुणजी एक बकरी को दुहता है।

सः अजायाः दुग्धं माम् अपाययत्।
= उसने मुझे बकरी का दूध पिलाया ।

अजायाः दुग्धं मधुरम् आसीत्।
=बकरी का दूध मीठा था।

अस्तु , गुणजी धन्यवादः ।

पुनः मिलामः।

ओ३म्

680. संस्कृत वाक्याभ्यासः

समाचारपत्रेषु आक्षेपयुक्तान् समाचारान् वयं पठामः।
= समाचारपत्रों में आक्षेप वाले समाचार हम पढ़ते हैं।

सर्वे नेतारः परस्परं निन्दन्ति ।
= सभी नेता आपस में निंदा करते हैं।

सः कार्यं न अकरोत्।
= उसने काम नहीं किया।

सः भ्रष्टाचारं कृतवान्।
= उसने भ्रष्टाचार किया।

सः जनानां मध्ये कलहं कारितवान्।
= उसने लोगों के बीच झगड़े करवाए।

सः किमपि न जानाति।
= वह कुछ नहीं जानता है।

सः निर्धनानां कार्यं न करोति।
= वह निर्धनों का काम नहीं करता है।

निर्वाचनसमये बहुविधानि वचनानि वदति।
= चुनाव के समय वह बहुत प्रकार के वचन देता है।

सत्तायाम् आगत्य सः वचनपालनं न करोति।
= सत्ता में आकर वह वचनपालन नहीं करता है।

केवलं निन्दागानमेव भवति समाचारेषु।
= समाचारों में केवल निंदागान ही होता है।

अतएव समाचारपत्रं पठितुं मनः न भवति।
= इसलिये समाचारपत्र पढ़ने का मन नहीं करता है।

ओ३म्

681. संस्कृत वाक्याभ्यासः

धनविषये प्रवचनं श्रुतवान् अहम्।
= मैंने धन के बारे में प्रवचन सुना ।

प्रवचनकारः प्रश्नान् पृष्टवान्।
= प्रवचनकार ने प्रश्न पूछे।

दिवसे कति घण्टा-पर्यन्तं कार्यं करोति ?
= दिन में धन कमाने के लिये कितने घंटे काम करते हो ?

स्वस्थ्याय कियत् समयं ददाति ?
= स्वास्थ्य को कितना समय देते हो ?

परिवाराय कियत् समयं ददाति ?
= परिवार को कितना समय देते हो ?

समाजाय कियत् समयं ददाति ?
= समाज को कितना समय देते हो ?

स्वाध्यायं करोति खलु ?
= स्वाध्याय करते हो न ?

प्रकृत्याः दर्शनं कदा करोति ?
= प्रकृति का दर्शन कब करते हो ?

सर्वदा धनस्य चिन्तनं न करणीयम् ।
= हमेशा धन का ही चिन्तन नहीं करना चाहिये।

राष्ट्रस्य चिन्तनम् आवश्यकं भवति।
= राष्ट्र का भी चिन्तन आवश्यक होता है।

ओ३म्

682. संस्कृत वाक्याभ्यासः

वायनाडस्य विषये पठामि स्म।
= वायनाड के बारे में पढ़ रहा था।

वायनाडस्य चित्राणि अपि दृष्टवान् अहम्।
= मैंने वायनाड के चित्र भी देखे।

राहुल गाँधी वायनाडतः प्रत्याशी भवितुम् इच्छति।
= राहुल गाँधी वायनाड से उम्मीदवार बनना चाहते हैं।

वायनाडस्य विषये बहु दीर्घं विवरणं मया पठितम्।
= वायनाड के बारे में बहुत लम्बा विवरण मैंने पढ़ा।

दर्शनीयानि स्थलानि कानि सन्ति ?
= दर्शनीय स्थल कौनसे हैं ?

एडक्कल गुहा एकम् ऐतिहासिकं स्थलम् अस्ति ।
= एडक्कल गुफा एक ऐतिहासिक स्थल है।

बेगुर अभ्यारण्ये वयं विविधान् खगान् , पशून् च द्रष्टुं शक्नुमः।
= बेगुर अभ्यारण में हम विविध पशुओं पक्षियों को देख सकते हैं।

तत्र मीलमुट्टी जलप्रपातः अपि अस्ति।
= वहाँ मीलमुट्टी जलप्रापत भी है।

तथैव सूचिपारा जलप्रपातः अपि अस्ति।
= उसी प्रकार से सूचिपारा जलप्रपात भी है।

पर्वतात् जलं वेगेन पतति।
= पर्वत से बहुत तेजी से जल गिरता है।

बानासुरासागर नामकः विशालः सरोवरः अस्ति ।
= बानासुरा सागर नाम का विशाल सरोवर है।

थिरुनेल्ली मन्दिरम् अपि दर्शनीयं स्थलम् अस्ति।
= थिरुनेल्ली मंदिर भी दर्शनीय स्थल है।

चेम्बरा शिखरं जनाः आरोहन्ति।
= चेम्बरा शिखर पर लोग चढ़ते हैं।

केरलस्य वायनाड जनपदे अनेकानि दर्शनीयानि स्थलानि सन्ति।
= केरल के वायनाड जिले में अनेक दर्शनीय स्थल हैं।

किं किं लिखानि ?
= क्या क्या लिखूँ ?

वायनाड विषये बहुविधं पठितं , बहुविधं दृष्टम् अद्य ।
= आज वायनाड के बारे में बहुत कुछ पढ़ा , बहुत कुछ देखा।

ओ३म्

683. संस्कृत वाक्याभ्यासः

दक्षिण-अमेरिका-महाद्वीपे सूरीनाम नामकः देशः अस्ति।
= दक्षिण अमेरिका महाद्वीप में सूरीनाम नामक देश है।

द्विशतं वर्षेभ्यः पूर्वं भारतीयाः जनाः तत्र प्रेषिताः।
= दो सौ वर्ष पहले भारतीयों को वहाँ भेजा गया था।

विशेषतः बिहारस्य जनाः तत्र नीताः ।
= विशेषरूप से बिहार के लोग वहाँ ले जाए गए।

सूरीनाम्नि अनेके भारतीयाः निवसन्ति।
= सूरीनाम में अनेक भारतीय रहते हैं।

ते भोजपुरीभाषायां वदन्ति।
= वे भोजपुरी भाषा में बोलते हैं।

विदेशीयाः जनाः अपि भोजपुरीभाषां जानन्ति।
= विदेशी लोग भी भोजपुरी जानते हैं।

सूरीनाम्नः राजधानी पारामारिबो नगरे अस्ति।
= सूरीनाम की राजधानी पारामारिबो शहर में है।

अत्र अनेकानि मन्दिराणि सन्ति।
= यहाँ अनेक मन्दिर हैं।

आर्यसमाजस्य मन्दिरम् अपि अस्ति।
= आर्यसमाज का मंदिर भी है।

अत्र प्रतिदिनं यज्ञं क्रियते ।
= यहाँ प्रतिदिनं यज्ञ किया जाता है।

अत्र संस्कृतम् अपि पाठ्यते।
= यहाँ संस्कृत भी पढ़ाई जाती है।

ओ३म्

684. संस्कृत वाक्याभ्यासः

ह्यः एकः निर्धनः बालकः वीथ्यां भ्रमति स्म।
= कल एक निर्धन बालक गली में घूम रहा था।

सर्वे होली खेलन्ति स्म।
= सब होली खेल रहे थे।

खेलन्तः बालकाः तस्य उपरि वर्णं क्षिप्तवन्तः।
= खेलते हुए बच्चों ने उस पर रंग फेंका।

सः निर्धनः बालकः प्रसन्नः अभवत्।
= वह निर्धन बच्चा खुश हो गया।

सः अवदत् – मम पार्श्वे वर्णः नास्ति।
= वह बोला – मेरे पास रङ्ग नहीं है।

बालकाः अवदन् – आगच्छ वयं दद्मः।
= बच्चे बोले – आओ हम देते हैं।

बालकाः तम् अङ्गणे आनीतवन्तः।
= बच्चे उसको आँगन में ले आए।

सः निर्धनः बालकः सर्वैः सह होली खेलितवान्।
= उस निर्धन बच्चे ने सबके साथ होली खेली।

होलीखेलन अनन्तरं बालकानां माता वस्त्राणि आनीतवती।
= होली खेलने के बाद बच्चों की माता वस्त्र लाई।

सा निर्धनाय बालकाय वस्त्राणि दत्तवती।
= उसने निर्धन बालक को वस्त्र दिये।

सः निर्धनः बालकः वस्त्राणि अधारयत्।
= उस बच्चे ने वस्त्र पहन लिये।

सा माता तस्मै भोजनम् अपि दत्तवती।
= उस माँ ने उसे भोजन भी दिया।

सः निर्धनः बालकः हसन् स्वगृहं गतवान्।
= वह निर्धन बालक हँसते हुए घर गया।

ओ३म्

685. संस्कृत वाक्याभ्यासः

संजयः वर्णलेपनात् बिभेति।
= संजय रंग लगाने से डरता है।

सः गृहात् बहिः न आगच्छति।
= वह घर से बाहर नहीं आ रहा है।

चलन्तु संजयस्य गृहं चलामः।
= चलिये संजय के घर चलते हैं।

सर्वे संजयस्य गृहं गच्छन्ति।
= सभी संजय के घर जाते हैं।

तस्य गृहस्य बहिः स्थित्वा सर्वे संस्कृतगीतानि गायन्ति।
= उसके घर के बाहर खड़े होकर सभी संस्कृत गीत गाते हैं।

संजयः वातायनात् बहिः पश्यति।
= संजय खिड़की से बाहर देखता है।

सर्वेषां मुखे किञ्चिदेव वर्णः आसीत्।
= सबके मुख पर थोड़ा ही रंग था।

संजयः गृहात् बहिः आगच्छति।
= संजय घर से बाहर आता है।

सर्वे तस्य मुखे अङ्गुलिद्वयं परिमितं वर्णं लिमपन्ति।
= सभी उसके मुख पर दो उँगली जितना ही रंग लगाते हैं।

संजयः अपि तथैव करोति।
= संजय भी वैसा ही करता है।

सर्वे संस्कृतगीतानि गायन्तः सर्वे अग्रे वर्धन्ते।
= सभी संस्कृत गीत गाते हुए आगे बढ़ते हैं।

” रे रे मित्र बहिरागच्छ , संस्कृतहोली खेलेम “

ओ३म्

686. संस्कृत वाक्याभ्यासः

संजयः वर्णलेपनात् बिभेति।
= संजय रंग लगाने से डरता है।

सः गृहात् बहिः न आगच्छति।
= वह घर से बाहर नहीं आ रहा है।

चलन्तु संजयस्य गृहं चलामः।
= चलिये संजय के घर चलते हैं।

सर्वे संजयस्य गृहं गच्छन्ति।
= सभी संजय के घर जाते हैं।

तस्य गृहस्य बहिः स्थित्वा सर्वे संस्कृतगीतानि गायन्ति।
= उसके घर के बाहर खड़े होकर सभी संस्कृत गीत गाते हैं।

संजयः वातायनात् बहिः पश्यति।
= संजय खिड़की से बाहर देखता है।

सर्वेषां मुखे किञ्चिदेव वर्णः आसीत्।
= सबके मुख पर थोड़ा ही रंग था।

संजयः गृहात् बहिः आगच्छति।
= संजय घर से बाहर आता है।

सर्वे तस्य मुखे अङ्गुलिद्वयं परिमितं वर्णं लिमपन्ति।
= सभी उसके मुख पर दो उँगली जितना ही रंग लगाते हैं।

संजयः अपि तथैव करोति।
= संजय भी वैसा ही करता है।

सर्वे संस्कृतगीतानि गायन्तः सर्वे अग्रे वर्धन्ते।
= सभी संस्कृत गीत गाते हुए आगे बढ़ते हैं।

” रे रे मित्र बहिरागच्छ , संस्कृतहोली खेलेम
सर्वे मिलित्वा गीतं गीत्वा संस्कृत होली खेलेम”

ओ३म्

687. संस्कृत वाक्याभ्यासः

ईश्वरभक्तः कदापि न बिभेति।
= ईश्वर भक्त कभी नहीं डरता है।

ईश्वरभक्तः सर्वदा सत्यानुग्रही भवति।
= ईश्वर भक्त हमेशा सत्य का अनुग्रही होता है।

प्रह्लादः ईश्वरभक्तः आसीत्।
= प्रह्लाद ईश्वर भक्त थे।

सन्त-तुकारामः ईश्वरभक्तः आसीत्।
= संत तुकाराम ईश्वर भक्त थे।

सन्त ज्ञानेश्वरः ईश्वरभक्तः आसीत्।
= संत ज्ञानेश्वर ईश्वर भक्त थे।

स्वामी दयानन्दः ईश्वरभक्तः आसीत्।
= स्वामी दयानन्द ईश्वर भक्त थे।

ईश्वरभक्तः कष्टात् न बिभेति।
= ईश्वर भक्त कष्ट से नहीं डरता है।

ईश्वरभक्तः न्यायात् पथः विचलितः न भवति।
= ईश्वर भक्त न्याय के रास्ते से विचलित नहीं होता है।

अद्य होलिकोत्सवः अस्ति।
= आज होलिकोत्सव है।

परमेश्वरः सर्वेषां कल्याणं करिष्यति।
= परमेश्वर सबका कल्याण करेंगे।

सर्वेभ्यः होलिकोत्सवस्य मङ्गलकामनाः।

ओ३म्

688. संस्कृत वाक्याभ्यासः

तस्याः गृहं प्रतिदिनं सेविका आगच्छति।
= उसके घर प्रतिदिन सेविका आती है।

सा प्रतिदिनं पात्राणि मार्जयति।
= वह हररोज़ बर्तन माँजती है।

मार्जनात् पूर्वं सा उच्छिष्टम् अन्नं धेनुपात्रे स्थापयति।
= माँजने से पहले वह बचा हुआ भोजन गौपात्र में रखती है।

सा अद्य स्वामिनीम् उक्तवती।
= वह आज मालकिन से बोली।

सेविका – भगिनि ! प्रतिदिनं भोजनं त्यज्यते।
= दीदी ! हररोज़ खाना छोड़ा जाता है।

किमर्थं सम्पूर्णं भोजनं न खादन्ति सर्वे ?
= सभी लोग पूरा भोजन क्यों नहीं खाते ?

* बुभुक्षानुसारं भोजनं स्वीकरणीयम् ।
= भूख के अनुसार।भोजन लेना चाहिये।

* अधिकं भोजनं न स्वीकरणीयम् ।
= अधिक भोजन नहीं लेना चाहिये।

स्वामिनी – सेविके ! त्वं सत्यं वदसि।
= सेविका ! तुम सही कह रही हो।

– अधुना कोsपि भोजनं न त्यक्ष्यति।
= अब कोई भी भोजन नहीं छोड़ेगा।

सेविका – धन्यवादः महोदया !

ओ३म्

689. संस्कृत वाक्याभ्यासः

अस्माकं प्रियः मनोहरः नेता दिवंगतः जातः।
= हमारा प्रिय मनोहर नेता दिवंगत हो गया।

मनोहरः परिक्करः गोवाराज्यस्य मुख्यमन्त्री आसीत्।
= मनोहर परिक्कर जी गोवा राज्य के मुख्यमंत्री थे।

सः द्विवर्षपर्यन्तं रक्षामन्त्री अपि आसीत्।
= वह दो वर्ष तक रक्षामंत्री भी थे।

सः बहु आर्जवं जीवनं जीवति स्म।
= वह बहुत ही सादा जीवन जीते थे।

त्रिषष्ठिवर्षीयः मनोहरः अभियांत्रिकीं शिक्षाम् अधीतवान् आसीत्।
= त्रेंसठ वर्षीय मनोहर जी ने इंजीनियरिंग शिक्षा पाई थी।

सः राष्ट्रीयस्वयंसेवकसंघस्य कार्यकर्ता अपि आसीत्।
= वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ता भी थे।

जनसामान्यैः सह तस्य सुमधुरः सम्बन्धः आसीत्।
= जन सामान्य के साथ उनका सुमधुर सम्बन्ध था।

यदा सः रक्षामन्त्री आसीत् तदा राफेल युद्धविमानस्य क्रयणानुबन्धः अभवत्।
= जब वह रक्षामंत्री थे तब राफेल युद्धक विमानों का खरीद सौदा हुआ था

विगत एकवर्षतः सः कर्करोगेण पीडितः आसीत्।
= पिछले एक वर्ष से वे कैंसर से पीडित थे।

तथापि सः कार्यरतः आसीत्।
= फिर भी वो कार्यरत थे।

ह्यः सायंकाले श्री मनोहरः परिक्करः प्राणत्यागं कृतवान्।
= कल शाम को श्री मनोहर परिक्कर जी ने प्राण त्याग दिये।

वयं दिवंगतस्य आत्मनः शान्त्यर्थं प्रार्थयामहे।
= हम दिवंगत आत्मा की शान्ति के लिये प्रार्थना करते हैं।

ओ३म्

690. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सङ्गीतम् अवरुद्धं तदनन्तरम् अपि सः नृत्यति ।
= संगीत रुक गया उसके बाद भी वह नाच रहा है।

पर्याप्तं धनं लब्धं तथापि सः याचते।
= पर्याप्त धन प्राप्त हुआ फिर भी वह माँग रहा है।

शीतकालः समाप्तः जातः तदनन्तरम् अपि सः स्वेदकं धारयति।
= जाड़ा समाप्त हो गया है उसके बाद भी वह स्वेटर पहन रहा है।

द्रोण्यां जलं पूरितं तथापि सः स्नानं न करोति।
= बाल्टी में पानी भर गया है फिर भी वह स्नान नहीं कर रहा है।

तस्य पार्श्वे प्रचुरं धनम् अस्ति तथापि सः दानं न ददाति।
= उसके पास बहुत धन है फिर भी दान नहीं देता है।

रेलयानं तु गतं तदनन्तरम् अपि द्वारपालः द्वारं न उद्घाटयति।
= रेल तो गई उसके बाद भी द्वारपाल फाटक नहीं खोलता है।

तस्य नगरम् आगतं तथापि सः न अवतरति।
= उसका शहर आ गया फिर भी वह नहीं उतर रहा है।

सः संस्कृतं जानाति तथापि संस्कृते न वदति।
= वह संस्कृत जानता है फिर भी संस्कृत में नहीं बोलता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *