००२८ सरल संस्कृत अनुवाद अभ्यास पाठ ६११ से ६५०

ओ३म्

611. संस्कृत वाक्याभ्यासः

देवराजस्य गृहे दश वर्षेभ्यः एका सेविका कार्यं करोति।
= देवराज के घर में दस वर्ष से एक सेविका काम करती है

अद्य सेविकायाः पुत्र्याः जन्मदिनम् अस्ति।

पुत्र्याः नाम भानुः अस्ति।
= पुत्री का नाम भानु है।

भानोः अद्य पञ्चमं जन्मदिनम् अस्ति।
= भानु का आज पाँचवाँ जन्मदिन है।

भानोः जन्मदिने देवराजः यज्ञम् आयोजयति।
= भानु के जन्मदिन पर देवराज यज्ञ का आयोजन करता है।

भानोः कृते नूतनानि वस्त्राणि आनयति।
= भानु के लिये नए वस्त्र लाता है।

सः भानवे वस्त्राणि ददाति।
= वह भानु को वस्त्र देता है।

भानुः नूतनानि वस्त्राणि धारयति।
= भानु नए वस्त्र पहनती है।

देवराजस्य भार्या भानोः भाले तिलकं करोति।
= देवराज की पत्नी भानु के भाल पर तिलक करती है

भानुः दीपं प्रज्ज्वालयति।
= भानु दीप प्रज्ज्वलित करती है।

भानुः आहुतिं ददाति।
= भानु आहुति देती है।
( आहुतीः ददाति- आहुतियाँ देती है )

यज्ञस्य अनन्तरं देवराजः भानवे पुस्तकानि ददाति।
= यज्ञ के बाद देवराज भानु को पुस्तकें देता है।

भानवे आशीर्वादं ददाति।
= भानु को आशीर्वाद देता है।

त्वं विद्यावती भव , सुसंस्कारिणी भव।

ओ३म्

612. संस्कृत वाक्याभ्यासः

भारतस्य पश्चिमे भागे कच्छजनपदम् अस्ति।
= भारत के पश्चिम भाग में कच्छ जिला है।

अद्य कच्छजनपदस्य नववर्षम् अस्ति।
= आज कच्छ जिले का नया वर्ष है।

अनेके जनाः नूतनं कार्यम् अद्यैव आरभन्ते।
= अनेक लोग नया कार्य आज ही शुरू करते हैं।

आहीरजनाः , रबारीजनाः , महेश्वरीजनाः , जैनजनाः अन्ये सर्वे जनाः च नूतनानि वस्त्राणि धारयन्ति।
= आहीर , रबारी , महेश्वरी , जैन और अन्य लोग नए वस्त्र पहनते हैं।

हस्तेन निर्मितानि वस्त्राणि प्रायः प्रचलन्ति।
= हाथ से निर्मित वस्त्र प्रायः चलते हैं।

“सुखड़ी” इति एकं मिष्ठान्नं सर्वे खादन्ति।
= सभी सुखड़ी मिठाई खाते हैं।

आहिर जनानां रासनृत्यं बहु मनोहरं भवति।
= आहिर लोगों का रास नृत्य मनोहर होता है।

रबारी जनाः तु उष्ट्रस्य अपि श्रृंगारं कुर्वन्ति।
= रबारी लोग तो ऊँट को भी सजाते हैं।

केचन जनाः स्थानीयं वंशीवाद्यं (अलगोजा) वादयन्ति।
= कुछ लोग स्थानीय बाँसुरी (अलगोजा) बजाते हैं।

सर्वेभ्यः कच्छी नववर्षस्य मङ्गलकामनाः।

ओ३म्

613. संस्कृत वाक्याभ्यासः

अद्य अहं द्राक्षाफलं खादितुम् इष्टवान्।
= आज मैंने अँगूर खाना चाहा।

अहं द्राक्षाफलम् आनेतुम् आपणं गतवान्।
= मैं अँगूर लाने बाजार गया।

फलापणे द्राक्षां दृष्टवान्।
= फल की दूकान में अँगूर देखे।

द्राक्षाफलानि सुन्दराणि आसन्।
= अँगूर सुंदर थे।

द्राक्षाफलानि श्यामवर्णीयानि आसन्।
= अँगूर काले थे।

अहम् एकं द्राक्षाफलम् आस्वादितवान्।
= मैंने एक अँगूर चखा।

द्राक्षा मधुरा आसीत्।
द्राक्षाफलं मधुरम् आसीत्।
= अँगूर मीठा था।

अहं द्राक्षाफलानि क्रीतवान्।
= मैंने अँगूर खरीदे।

अहं द्राक्षाफलानि गृहम् आनीतवान्।
= मैं अँगूर घर लाया।

अहं द्राक्षाफलानि प्रक्षालितवान्।
= मैंने अँगूर धोए।

अहं द्राक्षाफलानि खादितवान्।
= मैंने अँगूर खाए।

ओ३म्

614. संस्कृत वाक्याभ्यासः

एतस्य वर्षस्य अमरनाथयात्रा आरब्धा।
= इस वर्ष की अमरनाथ यात्रा शुरू हो गई है।

बहवः जनाः अमरनाथं गच्छन्तः सन्ति।
= बहुत से लोग अमरनाथ जा रहे हैं।

सर्वप्रथमं सर्वे यात्रिणः बालतालं गच्छन्ति।
= सबसे पहले सभी यात्री बालताल जाते हैं।

बालताले यात्रीणाम् कृते आधारशिविरम् अस्ति।
= बालताल में यात्रियों के लिये आधार शिविर है।

बालतालतः द्वादश क्रोश दूरे अमरनाथस्य गुहा अस्ति।
= बालताल से बारह मील दूर अमरनाथ की गुफा है।

बहवः जनाः पादाभ्यां चलन्ति।
= बहुत से लोग पैदल चलते हैं।

हस्ते दण्डं स्वीकृत्य शनैःशनैः अग्रे वर्धन्ते।
= हाथ में डंडा लेकर धीरे धीरे आगे बढ़ते हैं।

केचन जनाः स्कन्धासने आरुह्य यात्रां कुर्वन्ति।
= कुछ लोग डोली में चढ़कर यात्रा करते हैं।

हिमाच्छादितान् पर्वतान् जनाः पश्यन्ति।
= बर्फ से ढँके पर्वत लोग देखते हैं।

दुर्गमं मार्गं पारयित्वा जनाः अमरनाथगृहां प्रविशन्ति।
= दुर्गम रास्ता पार करके लोग अमरनाथ गुफा में प्रवेश करते हैं।

शिवभक्ताः हिमशिवलिङ्गं पश्यन्ति।
= शिवभक्त बर्फानी शिव को देखते हैं।

दर्शनं कृत्वा जनाः मोदन्ते।
= दर्शन कर के लोग खुश होते हैं।

ओ३म्

615. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सः /सा जृम्भते ।
= वह जँभाई लेता / लेती है ।

सः /सा वारं वारं जृम्भते ।
= वह बार बार जँभाई लेता / लेती है ।

सः रात्रौ शयनं न कृतवान् ।
= वह रात सोया ही नहीं ।

सा रात्रौ शयनं न कृतवती।
= वह रात सोई ही नहीं ।

किमर्थम् ??
= किसलिये ??

अद्य तस्य / तस्याः परीक्षा अस्ति।
= आज उसकी परीक्षा है।

आरात्रि: सः / सा पुस्तकं पठितवान् / पठितवती।
= सारी रात उसने पुस्तक पढ़ी।

प्रातः त्रिवादने सः / सा शयनं कृतवान् / कृतवती।
= सुबह तीन बजे वह सोया / सोई।

पञ्चवादने उत्थितवान् / उत्थितवती।
= पाँच बजे उठ गया / उठ गई।

अधुना सः / सा पुनः पठति।
= अभी वह फिर से पढ़ रहा / रही है।

अष्टवादने स्नानं करिष्यति।
= आठ बजे स्नान करेगा / करेगी।

अनन्तरं विश्वविद्यालयं गमिष्यति।
= बाद में विश्वविद्यालय जाएगा / जाएगी।

सः / सा माम् उक्तवान् / उक्तवती।
= वह मुझसे बोला / बोली

” चिन्ता मास्तु … परीक्षाखण्डे निद्रां न करिष्यामि।”
= चिन्ता मत करिये … परीक्षाखंड में नींद नहीं करूँगा / करूँगी।

सम्यक् उत्तराणि लेखिष्यामि।
= अच्छे से उत्तर लिखूँगा / लिखूँगी।

ओ३म्

616. संस्कृत वाक्याभ्यासः

ह्यः मूकबधिरबालकानां विद्यालयं गतवान्।
= कल मूकबधिर बच्चों के विद्यालय गया था।

नवतिः बालकाः तत्र पठन्ति।
= नब्बे बच्चे वहाँ पढ़ते हैं।

बालकाः न श्रृण्वन्ति न वदन्ति ।
= बच्चे न सुनते हैं न बोलते हैं।

तथापि ते प्रतिदिनं पठितुम् आगच्छन्ति।
= फिर भी प्रतिदिन पढ़ने आते हैं।

शिक्षकाः शिक्षिकाश्च सङ्केतभाषायां पाठयन्ति।
= शिक्षक और शिक्षिकाएँ इशारों की भाषा में पढ़ाते हैं।

यथा शिक्षकाः अभिनयं कुर्वन्ति तथैव ते अपि अभिनयं कुर्वन्ति।
= जैसे शिक्षक अभिनय करते हैं वैसे ही वे भी अभिनय करते हैं।

बालकाः हस्तं धृत्वा सर्वान् आह्वयन्ति।
= बच्चे हाथ हिला कर सबको बुलाते हैं।

सर्वेषु स्निह्यन्ति।
= सबको प्यार करते हैं।

शिक्षकाः अपि बालकेषु बहु स्निह्यन्ति।
= शिक्षक भी बच्चों को बहुत स्नेह करते हैं।

दिव्यांगैः बालकैः सह समयं यापितवान् ।
= दिव्यांग बच्चों के साथ समय बिताया।

बहु सुखम् अनुभूतवान्।
= बहुत सुख का अनुभव किया।

ओ३म्

617. संस्कृत वाक्याभ्यासः

अद्य विद्यालये गीतस्पर्धा आसीत्।
= आज विद्यालय में गीत स्पर्धा थी।

दश छात्राः विविधानि गीतानि गीतवन्तः।
= दस छात्रों ने विविध गीत गाए।

यः कोsपि / या काsपि गीतं गायति तस्य चित्रं कैलाशः स्वीकरोति।
= जो कोई भी गीत गाता है / गाती है उसका चित्र कैलाश लेता है।

कार्यक्रमस्य समापने विजेतारः पुरस्कारं प्राप्नुवन्ति।
= कार्यक्रम के अंत में विजेता पुरस्कार पाते हैं।

तेषाम् अपि चित्रं कैलाशः स्वीकरोति।
= उनके भी चित्र कैलाश लेता है।

सन्दीपस्य चित्रम् आगतम्।
= संदीप का चित्र आ गया।

सुधायाः चित्रम् आगतम्।
= सुधा का चित्र आ गया।

प्रदीपस्य चित्रम् आगतम्।
= प्रदीप का चित्र आ गया।

ओह , इलायाः चित्रं न आगतम् !!
= ओह , इला का चित्र नहीं आया।

कैलाशः रोदिति।
= कैलाश रोता है।

इला कैलाशं शान्तं करोति।
= इला कैलाश को शांत करती है।

कैलाशः – “भगिनि ! तव चित्रम् अहं न स्वीकृतवान्।”
= बहन ! मैंने तुम्हारा चित्र नहीं लिया।

इला – चिन्ता मास्तु भ्रातः ! अधुना चित्रं स्वीकरोतु।
= चिंता मत करिये भैया ! अब चित्र ले लीजिये।

– अहं पुनः गायामि।
= मैं फिर से गाती हूँ।

कैलाशः चित्रं स्वीकरोति।
= कैलाश चित्र लेता है।

ओ३म्

618. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सम्प्रति मार्गे पुलिसरक्षकाः तिष्ठन्ति।
= आजकल रास्ते में पुलिस रक्षक खड़े रहते हैं।

ते यानानि अवरोधयन्ति।
= वे वाहन रोकते हैं।

यानचालकस्य अनुज्ञप्तिपत्रं पश्यन्ति।
= ड्राइवर का लाइसेंस देखते हैं।

अनुज्ञप्तिपत्रं नास्ति चेत् दण्डशुल्कं स्वीकुर्वन्ति।
= लाइसेंस नहीं है तो दंड वसूल करते हैं।

दण्डं स्वीकृत्य धनप्राप्तिपत्रं ददति।
= दंड लेकर धन की रसीद देते हैं।

याने क्षमतायाः अधिकाः जनाः भवन्ति चेत् अपि दण्डं स्वीकुर्वन्ति।
= वाहन में क्षमता से अधिक लोग होते हैं तो भी दंड लेते हैं।

पुलिसरक्षकं दृष्ट्वा केचन जनाः मार्गं परिवर्तयन्ति।
= पुलिस को देखकर कुछ लोग रास्ता बदल देते हैं।

द्विचक्रीयानचालकानां शिरसि शिरस्त्राणं न भवति चेत् रक्षकाः तर्जयन्ति।
= दुपहिया वाहनों के चालकों के सिर पर हेलमेट नहीं होती है तो पुलिस डाँटती है।

गृहात् यदा निर्गच्छामः तदा सर्वाणि पत्राणि स्वीकरणीयानि।
= घर से जब निकलते हैं तब सभी कागजात लेने चाहिये।

शिरस्त्रम् अपि धारणीयम्।
= हेलमेट भी पहननी चाहिये।

ओ३म्

619. संस्कृत वाक्याभ्यासः

ह्यः एका दुविधा समुत्पन्ना।
= कल एक दुविधा उत्पन्न हुई।

मम कार्यालयस्य अभिकर्ता धनम् आनयति स्म।
= मेरे कार्यालय का एजेंट धन ला रहा था।

राजस्वविभागस्य कर्मकरः अपि धनम् आनयति स्म।
= रेवेन्यू विभाग का भी कर्मचारी धन ला रहा था।

एकस्मिन्नेव लोकयाने द्वौ जनौ यात्रां कुरुतः स्म।
= एक ही बस में दोनों जन यात्रा कर रहे थे।

एकस्मिन्नेव आसन्दे द्वौ उपविष्टौ आस्ताम्।
= एक ही सीट पर दोनों बैठे थे।

यानं भुजनगरे प्राप्तम्।
= वाहन भुज शहर में पहुंचा

राजस्वकार्यालयः पूर्वम् आगच्छति।
= रेवेन्यु कार्यालय पहले आता है।

राजस्वकर्मकरः धनं स्वीकृत्य अवतरितवान्।
= रेवेन्यु का कर्मचारी धन लेकर उतर गया।

मम कार्यालयस्य अभिकर्ता अग्रिमे स्थानके अवतरितवान्।
= मेरे कार्यालय का एजेंट आगे के स्टेशन पर उतरा।

द्वयोः धनस्यूतः परिवर्तितः।
= दोनों के धन का थैला बदल गया।

धनस्यूतस्य अन्वेषणे आदिनं यत्नं कृतवान्।
= धन के थैले की खोज में पूरा दिन प्रयत्न किया।

सः राजस्व-कर्मकरः अपि यतते स्म।
= वह राजस्व कर्मचारी भी प्रयत्न कर रहा था।

अन्ततोगत्वा सायंकाले मम कार्यालयस्य धनं प्राप्तम्।
= अंततोगत्वा शाम को मेरे कार्यालय का धन मिल गया।

सपाद एकलक्ष रूप्यकाणि आसन्।
= सवा लाख रुपए थे।

राजस्वविभागस्य केवलम् अशीतिसहस्र रूप्यकाणि आसन्
= राजस्व विभाग के केवल अस्सी हजार थे।

वस्तुतः याने कदापि शयनं न करणीयम्।
= वस्तुतः वाहन में कभी सोना नहीं चाहिये।

ओ३म्

620. संस्कृत वाक्याभ्यासः

वयं यदा हरिद्वारं गच्छामः ….
= हम जब हरिद्वार जाते हैं …

तदा वयं भारतमातुः मन्दिरम् अपि गच्छामः।
= तब हम भारत माता मंदिर भी जाते हैं।

भारतमातुः मन्दिरे वयं भारतस्य संस्कृत्याः परिचयं प्राप्नुमः।
= भारत माता के मंदिर में हम भारतीय संस्कृति का परिचय पाते हैं।

भारतमातुः मन्दिरस्य निर्माणं पूज्य स्वामी सत्यमित्रानंद गिरी महाभागः कारितवान्।
= भारत माँ के मंदिर का निर्माण पूज्य स्वामी सत्यमित्रानंद गिरी जी महाराज ने करवाया।

भारतमातुः मन्दिरे वयं वेदवाङ्गमयस्य परिचयं प्राप्नुमः।
= भारत माता मंदिर में हम वेदवाङ्गमय का परिचय पाते हैं।

ऋषीणां परिचयं प्राप्नुमः।
= ऋषियों का परिचय पाते हैं।

अखण्डस्य भारतस्य दर्शनं कर्तुं शक्नुमः।
= अखंड भारत का दर्शन कर सकते हैं।

विंशतिभ्यः वर्षेभ्यः पूर्वं पूज्य सत्यमित्रानंद महाराजः अस्माकं नगरम् आगतवान् आसीत्।
= बीस वर्ष पहले पूज्य सत्यमित्रानंद गिरी जी महाराज हमारे नगर में आए थे।

तेषां प्रेरणादायकं प्रवचनम् अहं श्रुतवान्।
= उनका प्रेणादायक प्रवचन मैंने सुना था।

तेषाम् ओजस्वी वाणी अधुना अपि स्मृतिपटले गुञ्जति।
= उनकी ओजस्वी वाणी अभी भी स्मृतिपटल पर गूँज रही है।

पूज्यवरेभ्यः सत्यमित्रानन्देभ्यः स्वामिनेभ्यः मम विनम्रां श्रद्धाञ्जलिं समर्पयामि।

ओ३म्

621. संस्कृत वाक्याभ्यासः

महाराज्ञी दुर्गावती बहु वीरांगना आसीत्।
= महारानी दुर्गावती बहुत वीर थीं।

सा कीर्तिसिंहमहाराजस्य पुत्री आसीत्।
= वह महाराजा कीर्तिसिंह की बेटी थीं।

दुर्गाष्टम्यां तस्याः जन्म अभवत् अतएव तस्याः नामाभिधानं “दुर्गावती” इति कृतम्।
= दुर्गाष्टमी को उनका जन्म हुआ था इसलिये उनका नाम दुर्गावती रखा गया।

गोंडवाना प्रदेशस्य महाराजा संग्रामशाहः आसीत्।
= गोंडवाना प्रदेश के महाराजा संग्राम शाह थे।

तस्य सुपुत्रेण दलपतशाहेन सह दुर्गावत्याः विवाहः अभवत्।
उनके सुपुत्र दलपत शाह के साथ दुर्गावती का विवाह हुआ।

दुर्भाग्यवशात् चत्वारि वर्षाणि अनन्तरं दलपतशाहः दिवंगतः जातः।
दुर्भाग्यवश चार वर्ष बाद दलपत शाह की मृत्यु हो गई।

गढ़मंडला (गोंडवाना) प्रदेशस्य सा साम्राज्ञी अभवत्।
= गढ़मंडला प्रदेश की वह रानी बानी।

मुगलशासकः अकबरः तस्याः प्रदेशे आक्रमणं कृतवान्।
= मुगलशासक अकबर ने उनके प्रदेश पर आक्रमण कर दिया।

सा स्वयमेव पुरुषवेशं धृत्वा मुगलसैनिकैः सह युद्धम् अकरोत् ।
= अपनेआप पुरुषवेश धारण कर के मुगल सैनिकों के साथ युद्ध किया।

सा युद्धे वीरगतिं प्राप्तवती।
= युद्ध में उन्हें वीरगति प्राप्त हुई।

जबलपुरे अधुना तस्याः नाम्ना विश्वविद्यालयः अस्ति।
= जबलपुर में उनके नाम से विश्वविद्यालय है।

महाराज्ञै दुर्गावत्यै नमः।

ओ३म्

622. संस्कृत वाक्याभ्यासः

बहूनि दिनानि अभवन्।
= बहुत दिन हो गए

मया किमपि न लिखितम्।
= मेरे द्वारा कुछ भी नहीं लिखा गया।

अद्य सोमवसारः अस्ति।
= आज सोमवार है।

अद्य आरभ्य पुनः लेखिष्यामि।
= आज से पुनः लिखूँगा।

संस्कृतपाठः सर्वेभ्यः रोचते।
“= संस्कृत पाठ सबको पसंद आता है।

मह्यमपि संस्कृतलेखनं रोचते।
= मुझे भी संस्कृत लेखन पसंद है।

अविराममेव लेखिष्यामि।
= विराम बिना के लिखूँगा।

दीर्घ-विरामार्थं क्षमां याचे।
= लम्बे विराम के लिये क्षमा चाहता हूँ

ओ३म्

623. संस्कृत वाक्याभ्यासः

अद्य अहं पुनः महापणं गतवान्।
= आज मैं फिर से बिग बाजार गया।

सायंकाल-पर्यन्तं बहु घर्मः आसीत्।
= शाम तक बहुत गर्मी थी।

प्रस्वेदः शरीरात् निःसरति स्म।
= पसीना शरीर से बह रहा था।

भ्रमणार्थं बहिः गतवान् तथापि प्रस्वेदः वहति स्म।
= घूमने गया फिर भी पसीना बह रहा था।

मार्गे एकं नूतनं महापणं दृष्टवान्।
= रास्ते में एक नया मॉल देखा।

अहं महापणं प्रविष्टवान्।
= मैं मॉल में घुस गया

तत्र वातानुकूलिते वातावरणे सर्वत्र अटनं कृतवान्।
= वहाँ वातानुकूलित वातावरण में सब जगह घूमा।

तत्र बहूनि वस्तूनि लभ्यन्ते।
= वहाँ बहुत सी वस्तुएँ मिलती हैं।

ततः पतञ्जलि-दन्तलेपनं क्रीत्वा बहिः आगतवान्।
= वहाँ से पतंजलि का दंतपेस्ट खरीद कर बाहर आ गया।

विशाले आपणे बहु सम्मर्दः आसीत्।
= विशाल मॉल में बहुत भीड़ थी।

ओ३म्

624. संस्कृत वाक्याभ्यासः

वीरविनायकस्य सावरकरस्य जन्म नासिकस्य समीपे स्थिते भागुर ग्रामे अभवत्।
= वीर विनायक सावरकर का जन्म नासिक।के पास स्थित भागुर गाँव में हुआ था।

तस्य मातुः नाम राधाबाई आसीत्।
= उनकी माँ का नाम राधाबाई था।

तस्य पितुः नाम दामोदरपन्तः सावरकरः आसीत्।
= उनके पिता का नाम दामोदर पंत सावरकर था।

बाल्यावस्थातः सः स्वातंत्र्यादोलने भागं गृह्णाति स्म।
= बचपन से ही वो स्वतंत्रता आंदोलन में हिस्सा लेते थे।

सः उच्चशिक्षां प्राप्य विधिवेत्ता अभवत्।
= उच्चशिक्षा प्राप्त करके वो कानून के जानकार बन गए।

मदनलाल-धींगरा यदा आङ्गलाधिकारिणः कर्जनस्य हत्यां कृतवान् तदा …..
= मदनलाल धींगरा ने जब आंग्ल अधिकारी कर्जन की हत्या कर दी तब …

विनायक-सावरकरः धींगरायै वैधानिकं सहयोगं दत्तवान्।
= विनायक सावरकर ने ढींगरा को कानूनी सहायता दी।

तेन आँग्लजनाः रुष्टाः अभवन्।
= उससे अंग्रेज रुष्ट हुए।

वीरसावरकरं कारागारं प्रेषितवन्तः।
= वीर सावरकर को जेल में भेज दिया।

अंदमाननिकोबारे सेलुलरकारागारे सः दश वर्षाणि यावत् आसीत्।
= अंडमान निकोबार में सेलुलर जेल में वे दस वर्ष तक थे।

तत्र सः बहुविधां यातनां प्राप्तवान्।
= वहाँ उन्होंने बहुविध यातना पाई।

अद्य वीरसावरकरस्य जयन्ति: अस्ति।

वीराय विनायकाय सावरकराय नमः।

ओ३म्

625. संस्कृत वाक्याभ्यासः

ह्यः एका पीड़ादायिनी घटना सञ्जाता।
= कल एक पीड़ादायक घटना घटी ।

सूरते एकस्मिन् प्रशिक्षणवर्गे अग्निः प्रज्जवलिता।
= सूरत में एक कोचिंग क्लास में आग लग गई।

शीघ्रमेव अग्निः समग्रे भवने प्रसरिता जाता।
= शीघ्र ही आग सारे भवन में फैल गई।

प्रशिक्षणवर्गे ये छात्राः आसन् ते विचलिताः अभवन्।
= प्रशिक्षण वर्ग में जो छात्र थे वे विचलित हो गए।

सोपाने अपि अग्निज्वाला वर्धते स्म।
= सीढ़ी में भी आग की लपट बढ़ रही थी।

युवकाः युवत्यः उपरिष्टात् एव कूर्दितवन्तः।
= युवक युवतियाँ ऊपर से ही कूद गए।

जीवनं रक्षितुं सर्वे प्रयासम् अकुर्वन्।
= जीवन की रक्षा के लिये सबने प्रयास किया।

तृतीयात् अट्टात् ये छात्राः कूर्दितवन्तः तेषु केचन मृताः जाताः।
= तीसरी मंजिल से जो छात्र कूदे उनमें से कुछ मर भी गए।

केषांचन छात्राणां अस्थीनि भग्नानि अभवन्।
= कुछ छात्रों की हड्डियाँ टूट गईं।

प्रतिभावन्तः छात्राः दिवंगताः अभवन्।
= प्रतिभावान छात्र दिवंगत हो गए।

वयं शोकसंतप्तेभ्यः परिवारजनेभ्यः अस्माकं संवेदनाः अर्पयामः
= हम शोकसंतप्त परिवार जनों को हमारी संवेदनाएँ अर्पित करते हैं।

ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः।

ओ३म्

626. संस्कृत वाक्याभ्यासः

ह्यः नूतनम् अनुभवं प्राप्तवान् ।
= कल नया अनुभव प्राप्त किया।

मतगणनायाः महानायोजने अहमपि सहभागी अभवम्।
= मतगणना के महान आयोजन में मैं भी सहभागी बना।

सूक्ष्मनिरीक्षकरूपेण मया कार्यं करणीयम् आसीत्।
= माइक्रो ऑब्जर्वर के रूप में मुझे काम करना था।

संवाददातृभिः सह मतगणनायाः निरीक्षणं मया करणीयम् आसीत्।
= संवाददाताओं के साथ मतगणना का निरीक्षण मुझे करना था।

सुदृढ़कक्षतः कथं मतयन्त्राणि आनयन्ति ?
= स्ट्रांग रूम से कैसे मत मशीन ला रहे हैं ?

कथं ते पट्टिकां त्रोटयन्ति ?
= कैसे वे सील तोड़ते हैं ?

कथं ते प्रत्याशीनां मतानां संख्याम् उद्घोषयन्ति ?
= कैसे वे उम्मीदवारों के वोटों की संख्या उद्घोषित करते हैं ?

सुरक्षा व्यवस्था कीदृशी भवति ?
= सुरक्षा व्यवस्था कैसी होती है ?

व्यवस्थां दृष्ट्वा निःसंदेहम् अहं वदामि ….
= व्यवस्था देखकर निःसंदेह मैं कहता हूँ …

अस्माकं निर्वाचनायोगः निष्पक्षभावेन कार्यं करोति।
= हमारा निर्वाचन आयोग निष्पक्ष भाव से काम करता है।

ओ३म्

627. संस्कृत वाक्याभ्यासः

अधुना भुजं गमिष्यामि।
= अभी भुज जाऊँगा।

रात्रौ तत्रैव स्थास्यामि।
= रात में वहीं रुकूँगा।

रात्रौ तत्रैव स्वप्स्यामि।
= रात में वहीं सोऊँगा।

श्वः प्रातः चतुर्वादने जागरिष्यामि।
= कल सुबह चार बजे उठूँगा।

सपादचतुर्वादने स्नास्यामि।
= सवा चार बजे नहाऊँगा।

सार्धचतुर्वादने ध्यानं करिष्यामि।
= साढ़े चार बजे ध्यान करूँगा।

अनन्तरं मतगणनाकेन्द्रं गमिष्यामि।
= बाद में मतगणना केंद्र जाऊँगा।

सपादपञ्चवादने मतगणनाकेन्द्रं प्राप्स्यामि।
= सवा पाँच बजे मतगणना केंद्र पहुँच जाऊँगा।

मतगणनाकेन्द्रे अहं “सूक्ष्मनिरीक्षकस्य” दायित्वं निर्वक्ष्यामि।
= मतगणना केंद्र में माइक्रो ऑब्जर्वर का दायित्व निभाऊँगा।

आदिनं मतानि गणयिष्यामि।
= सारा दिन मत गिनूँगा।

ओ३म्

628. संस्कृत वाक्याभ्यासः

कच्छजनपदे हबाय नामकः एकः ग्रामः अस्ति।
= कच्छ जिले में हबाय नाम का एक गाँव है।

ह्यः तत्र गतवान् अहम्।
= कल मैं वहाँ गया था।

हबायग्रामं परितः पर्वताः सन्ति।
= हबाय गाँव के चारों ओर पर्वत हैं।

पर्वतानाम् उपत्यकायां ग्रामः वर्तते।
= पर्वत की तलहटी में गाँव है।

ग्रामे आहिरजनाः निवसन्ति।
= गाँव में आहिर लोग रहते हैं।

ग्रामे एकं वाघेश्वरीमन्दिरम् अस्ति।
= गाँव में एक वाघेश्वरी मंदिर है।

व्याघ्रासीनायाः अम्बे मातुः दर्शनं जनाः कुर्वन्ति स्म।
बाघ पर आसीन अम्बे माँ का सभी दर्शन कर रहे थे।

तत्र एका यज्ञशाला अपि अस्ति।
= वहाँ एक यज्ञशाला भी है।

प्रतिदिनं तत्र यज्ञः अपि क्रियते।
= प्रतिदिन वहाँ यज्ञ किया जाता है।

गोशालायां बहव्यः धेनवः सन्ति।
= गौशाला में बहुत सी गौएँ हैं।

ग्रामे बहु शान्तिः आसीत्।
= गाँव में बहुत शांति थी

ओ३म्

629. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सा अञ्जना भगिनि अस्ति।
= वह अंजना बहन है।

सा प्रतिदिनं गीतापाठं करोति।
= वह प्रतिदिन गीतापाठ करती है।

सा उच्चैः गीताश्लोकं गायति।
= वह जोर से गीता का श्लोक गाती है।

तस्याः चतुर्वषीयः पुत्रः श्लोकं श्रृणोति।
= उसका चार वर्ष का बेटा श्लोक सुनता है।

अञ्जनायाः पुत्रः श्लोकम् अनुगायति।
= अंजना का बेटा श्लोक का अनुगान करता है।

सः बालकः त्रुटिं करोति चेत् अञ्जना पुनः गापयति।
= वह बालक दोष करता है तो अंजना फिर से गवाती है।

अञ्जनायाः पुत्रः पुनः श्लोकं गायति।
= अंजना का बेटा फिर से श्लोक गाता है।

सः बालकः मातरं पृच्छति “अम्ब ! अधुना शुद्धं खलु ?
= वह बालक माँ को पूछता है – ” माँ अब शुद्ध है न ?

माता वदति – “आं वत्स ! अधुना शुद्धम्”
= माँ बोलती है – “हाँ बेटा ! अब शुद्ध है “

माता पुनः गापयति।
= माँ फिर से गवाती है।

अनुद्वेगकरं वाक्यं सत्यं प्रियहितं च यत्‌।
स्वाध्यायाभ्यसनं चैव वाङ्‍मयं तप उच्यते॥

ओ३म्

630. संस्कृत वाक्याभ्यासः

अद्य निर्वाचनस्य अन्तिमः चरणः अस्ति।
= आज निर्वाचन का अंतिम चरण है।

यत्र यत्र मतदानम् अवशिष्टं तत्र तत्र मतदानं प्रचलति।
= जहाँ जहाँ मतदान बाकी है वहाँ मतदान हो रहा है।

अधुना मध्याह्ने अपि जनाः मतदानार्थं गच्छन्ति।
= अभी दोपहर में भी लोग वोट देने जा रहे हैं।

जनाः अधुना जागरूकाः अभवन्
= लोग अब जागरूक हो गए हैं

मतदानं तु सर्वैः करणीयम्।
= मतदान तो सबको करना चाहिये।

सुयोग्याय प्रत्याशिणे मतं देयम्।
= सुयोग्य प्रत्याशी को मत देना चाहिये।

सुयोग्यः जनः एव जनानां कार्यं करोति।
= सुयोग्य व्यक्ति ही काम करता है।

त्रयोविंशतिः दिनाँके परिणामः आगमिष्यति।
= तेईस तारीख को परिणाम आएगा।

तावद् वयं प्रतीक्षां कुर्मः ।
= तब तक हम प्रतीक्षा करते हैं

ओ३म्

631. संस्कृत वाक्याभ्यासः

निशा अद्यापि पुत्रीं विद्यालयं प्रापयितुं गच्छति।
= निशा आज भी बेटी को विद्यालय छोड़ने जाती है।

मार्गे सा पुत्र्या सह वार्तालापं कुर्वती आसीत्।
= रास्ते में वह बेटी के साथ बात कर रही थी।

निशायाः पुत्री मार्गस्य अतिकोणे चलन्ती आसीत्।
= निशा की बेटी मार्ग के बहुत किनारे चल रही थी।

मार्गस्य कोणे कण्टकिताः द्रुमाः आसन्।
= रास्ते के किनारे कँटीले पेड़ थे।

पुत्र्याः चोलः कण्टके सक्तः भवति।
= बेटी की फ्रॉक काँटे में फँस जाती है।
( Stuck = सक्तः – देखिये अंग्रेजी में भी जो Verb है वो संस्कृत से कितनी मिलती जुलती है )

निशा पुत्रीं मोक्तुं प्रयासं करोति।
= निशा बेटी को छुड़ाने का प्रयास करती है।

निशा पुत्रीं वदति ” मा बिभीहि”
= निशा बेटी को बोलती है ” मत डरना”

अहं कण्टकं निष्कासयिष्यामि।
= मैं काँटा निकाल दूँगी।

पुत्री वदति – ” अहं न बिभेमि”
= बेटी बोलती है – ” मैं नहीं डरती “

मम गुणवती माता मया सह अस्ति चेत् अहं किमर्थं भेष्यामि?
= मेरी गुणवती माँ मेरे साथ है तो मैं क्यों डरूँगी ?

निशा पुत्र्याः चोलं हस्तेन गृह्णाति ।
निशा पुत्री का फ्रॉक हाथ से पकड़ती है।

कण्टकं चोलात् निष्कासयति।
= काँटे को फ्रॉक से निकालती है।

निशा अवदत् -” जीवने कण्टकाः अपि मिलन्ति।”
= निशा बोली ” जीवन में काँटे भी मिलते हैं।

कण्टकैः न भेतव्यम्।
= काँटों से नहीं डरना चाहिये।

ओ३म्

632. संस्कृत वाक्याभ्यासः

निशा पुत्रीं विद्यालयं प्रापयितुं गच्छति।
= निशा बेटी को विद्यालय पहुँचाने जाती है।

निशा यानेन न प्रापयति।
= निशा वाहन से नहीं पहुँचाती है।

निशाम् अनेके जनाः निवेदयन्ति ” आगच्छतु , उपविशतु मम याने”
= निशा को अनेक लोग निवेदन करते हैं ” आइये , हमारे वाहन में बैठिये”

निशा प्रेम्णा निषेधयति।
= निशा प्रेम से मना कर देती है।

सा पादाभ्यां पुत्र्या सह चलति
= वह बेटी के साथ पैदल चलती है।

मार्गे निशा काव्यं गायति।
= मार्ग में निशा कविता गाती है।

पुत्री अपि कवितां गायति।
= बेटी भी कविता गाती है।

पुत्री शीघ्रमेव काव्यं स्मरति।
= पुत्री शीघ्र ही कविता याद कर लेती है।

निशा सारणिम् अपि वदति।
= निशा पहाड़े भी बोलती है।

द्वे एके द्वे

द्वे द्वे चत्वारि।

द्वे त्र्यौ षट्

द्वे चतुरे अष्ट

द्वे पञ्चे दश

द्वे षटे द्वादश

द्वे सप्ते चतुर्दश

द्वे अष्टे षोडश

द्वे नवे अष्टादश

द्वे दशे विंशतिः

पुत्री सारणिम् अपि कण्ठस्थं करोति।
= पुत्री पहाड़े भी कंठस्थ करती है।

ओ३म्

633. संस्कृत वाक्याभ्यासः

परीक्षाभवने त्रीणि द्वाराणि सन्ति।
= परीक्षाभवन में तीन दरवाजे हैं।

छात्राः परीक्षाभवनं प्रविशन्ति।
= छात्र परीक्षा भवन में प्रवेश करते हैं।

प्रवेशात् पूर्वं सर्वेषां परीक्षणं भवति।
= प्रवेश से पहले सबकी चेकिंग होती है।

त्रिषु द्वारेषु द्वारपालाः तिष्ठन्तः सन्ति।
= तीनों द्वारों पर गेटकीपर खड़े हैं।

द्वारपालः – परीक्षणं विना कोsपि अन्तः न गमिष्यति।
= चेकिंग के बिना कोई भी अंदर नहीं जाएगा।

चलभाषम् अन्तः मा नयन्तु।
= मोबाइल अंदर मत ले जाईये।

अत्र चलभाषरक्षणकेन्द्रम् अस्ति।
= यहाँ मोबाइल रक्षा केंद्र है।

सर्वे स्वं स्वं चलभाषं तत्रैव स्थापयन्तु।
= सभी अपना अपना मोबाइल वहीं रखिये।

परीक्षायाः अनन्तरं चलभाषं स्वीकुर्वन्तु।
= परीक्षा के बाद मोबाइल ले लीजिये।

सर्वेभ्यः परीक्षायाः शुभकामनाः।

ओ३म्

634. संस्कृत वाक्याभ्यासः

जयपालः सायंकाले गृहात् बहिः आसन्दान् स्थापयति।
= जयपाल जी शाम को घर के बाहर कुर्सियाँ रखते हैं।

एकस्मिन् आसन्दे सः उपविशति।
= एक कुर्सी पर वह बैठते हैं।

शनैःशनैः सर्वे निवृत्ताः जनाः आगच्छन्ति।
= धीरे धीरे सारे निवृत्त लोग आते हैं।

विविधेषु विषयेषु ते चर्चां कुर्वन्ति।
= विविध विषयों पर वे चर्चा करते हैं।

विद्यार्थीकालस्य घटनाः स्मरन्ति।
= विद्यार्थी काल की घटनाओं को याद करते हैं।

अद्य ते स्वं स्वं संस्कृतशिक्षकं स्मरन्ति।
= आज वे अपने अपने संस्कृत शिक्षक को याद कर रहे हैं।

एकः निवृत्तः सज्जनः श्लोकगानं स्मरति।
= एक निवृत्त सज्जन श्लोकगान याद करता है।

सः श्लोकं गायति।
= वह श्लोक गाता है।

*रामो राजमणि: सदा विजयते रामं रमेशं भजे,*
*रामेणाभिहता निशाचरचमू रामाय तस्मै नम:।*
*रामान्नास्ति परायणं परतरं रामस्य दासोस्म्यहम्,*
*रामे चित्तलय: सदा भवतु मे भो राम मामुद्धर ॥*

तस्य श्लोकगानं श्रुत्वा अन्यः सज्जनः अपि गायति।
= उसका श्लोकगान सुनकर दूसरा सज्जन भी गाता है।

*साहित्यसङ्गीतकलाविहीनः साक्षात् पशुः पुच्छविषाणहीनः!*
*तृणं न खादन्नपि जीवमानः ,तद्भागधेयं परमं पशुनाम्!*

जयपालः अपि गायति।
= जयपाल जी भी गाते हैं।

*न चोरहार्य न राजहार्य न भ्रतृभाज्यं न च भारकारि !*
*व्यये कृते वर्धति एव नित्यं विद्याधनं सर्वधनप्रधानम् !!*

अद्य तु श्लोकसन्ध्या अभवत्।
= आज तो श्लोक संध्या हो गई।

ओ३म्

635. संस्कृत वाक्याभ्यासः

ह्यः एकं भोजनसमारोहं गतवान् अहम्।
= कल एक भोजनसमारोह में मैं गया था।

तत्र अनेकाः भोजनवेदिकाः आसन्।
= वहाँ अनेक भोजन काउंटर थे।

गुजराती-भोजनवेदिकायां गुजराती भोजनं लभते स्म।
= गुजराती भोजन काउंटर पर गुजराती भोजन मिल रहा था।

पंजाबी-भोजनवेदिकायां पंजाबी भोजनम् उपलब्धम् आसीत्।
= पंजाबी भोजन काउंटर पर पंजाबी भोजन उपलब्ध था।

तथैव दक्षिणभारतीयं भोजनं , राजस्थानीयं भोजनं , सिन्धीभोजनम् उपलब्धम् आसीत्।
= उसी प्रकार दक्षिणभारतीय भोजन , राजस्थानी भोजन , सिंधी भोजन उपलब्ध था।

सर्वे स्वरुचि-अनुसारं खादन्ति स्म।
= सभी अपनी रुचि से खा रहे थे।

एकस्यां वेदिकायां फलानि एव आसन्।
= एक काउंटर पर फल ही थे।

बहवः जनाः केवलं फलानि एव खादन्ति स्म।
= बहुत से लोग केवल फल ही खा रहे थे।

एकस्यां वेदिकायां केवलं दुग्धं मिलति स्म।
= एक काउंटर पर केवल दूध था।

उष्णं दुग्धं मह्यं बहु अरोचत।
= गरम दूध मुझे बहुत अच्छा लगा।

ओ३म्

636. संस्कृत वाक्याभ्यासः

द्विचक्रिकाचालनम् अधुना बहु वर्धितम्।
= साइकिल चलाना अब बढ़ गया है।

ज्येष्ठाः किं , कनिष्ठाः किं सर्वे द्विचक्रिकां चालयन्ति।
= बड़े क्या , छोटे क्या सभी साइकिल चलाते हैं।

प्रातः भ्रमणार्थं जनाः निर्गच्छन्ति।
= सुबह घूमने के लिये लोग निकलते हैं।

तैः सह द्विचक्रिकाचालकाः अपि निर्गच्छन्ति।
= उनके साथ साइकिल चलाने वाले भी निकलते हैं।

युवकाः वेगेन द्विचक्रिकां चालयन्ति।
= युवक गति से साइकिल चलाते हैं।

शिरसि शिरस्त्राणं धारयन्ति।
= सिर पर हेलमेट पहनते हैं।

यदाकदा सम्मुखात् यानम् आगच्छति।
= कभी कभी सामने से वाहन आता है।

यदा सम्मुखात् यानम् आगच्छति ….
= जब सामने से वाहन आता है ….

तदा ते द्विचक्रिकां मार्गस्य वामकोणे नयन्ति।
= तब वे साइकिल को रास्ते के बाएँ ले जाते हैं।

मुम्बईनगरे युवकाः मध्यरात्रौ द्विचक्रिकां चालयन्ति।
= मुम्बई नगर में युवक आधी रात को साइकिल चलाते हैं।

द्विचक्रिका ध्यानपूर्वकं चालनीया भवति।
= साइकिल ध्यान से चलानी चाहिये।

ओ३म्

637. संस्कृत वाक्याभ्यासः

शिक्षिका – त्वं तु बहु मधुरं गायसि।
= तुम तो बहुत मीठा गाते हो।

कः / का पाठयति ?
= कौन पढ़ाता / पढ़ाती है ?

छात्रः – मम माता पाठयति।
= मेरी माँ पढ़ाती है।

शिक्षिका – तव अक्षराणि अपि सुन्दराणि सन्ति।
= तुम्हारे अक्षर भी सुंदर हैं।

छात्रः – मम माता अभ्यासं कारयति।
= मेरी माँ अभ्यास कराती हैं।

शिक्षिका – त्वम् अल्पाहारम् अपि गृहात् एव आनयसि।
= तुम नाश्ता भी घर से ही लाते हो।

छात्रः – मम माता बहु स्वादिष्टं पचति।
= मेरी माँ बहुत स्वादिष्ट बनाती है।

शिक्षिका – तव गणितज्ञानम् अपि श्रेष्ठम् अस्ति।
= तुम्हारा गणित ज्ञान भी अच्छा है।

छात्रः – मम माता श्रेष्ठा शिक्षिका अस्ति।
= मेरी माँ अच्छी शिक्षिका है।

मम माता गृहे एव सर्वं पाठयति।
= मेरी माँ घर में ही सब कुछ पढ़ाती है।

मम माता बहु सुशिक्षिता अस्ति।
= मेरी माँ बहुत पढ़ीलिखी है।

शिक्षिका – अद्य मातृदिनम् अस्ति।
= आज मातृदिन है।

तव मात्रे नमः।
= तुम्हारी माँ को नमन।

छात्रः – सर्वाभ्यः मातृभ्यः नमः।
= सभी माताओं को नमन।

ओ३म्

638. संस्कृत वाक्याभ्यासः

एका भगिनी लोकयाने यात्रां कुर्वती अस्ति।
= एक बहन बस में यात्रा कर रही है।

तस्याः अङ्के लघ्वी बालिका अस्ति।
= उसकी गोदी में छोटी बच्ची है।

सा बालिका यानात् बहिः हस्तं निष्कासयति।
= वह बालिका बस से हाथ बाहर निकालती है।

वातायनात् बहिः बालिकायाः हस्तं दृष्ट्वा यानचालकः उच्चैः वदति।
= खिड़की से बाहर बालिका का हाथ देखकर ड्राइवर जोर से बोलता है।

कस्य/कस्याः हस्तः बहिः अस्ति ?
= किसका हाथ बाहर है ?

हस्तम् अन्तः करोतु।
= हाथ अंदर करिये।

एकः यात्री चालकं सूचयति।
= एक यात्री ने ड्राइवर को सूचित किया।

“बालिकायाः हस्तः बहिः अस्ति”
= बालिका का हाथ बाहर है।

चालकः बालिकायाः मातरं निवेदयति।
= ड्राइवर बालिका की माँ से निवेदन करता है।

ओ भगिनि ! बालिकायाः हस्तम् अन्तः करोतु।
= ओ बहन , बालिका का हाथ अंदर करिये।

सा भगिनी बालिकायाः हस्तम् अन्तः नयति।
= वह बहन बालिका का हाथ अंदर लेती है।

ओ३म्

639. संस्कृत वाक्याभ्यासः

महाराणा प्रतापः राजपूतवंशस्य वीरः नृपः आसीत्।
= महाराणा प्रताप राजपूत वंश के वीर राजा थे।

पञ्चशतं वर्षेभ्यः पूर्वं मुगलराजा अकबरेण सह तेन युद्धं कृतम्।
= पाँच सौ वर्ष पहले मुगल राजा अकबर के साथ उन्होंने युद्ध किया।

अनेकवारं मुगलराजानः महाराणा प्रतापेन पराजिताः अभवन्।
= अनेक बार मुगल राजा महाराणा प्रताप से पराजित हुए।

कुम्भलगढ़े महाराणाप्रतापस्य जन्म अभवत्।
= कुम्भलगढ़ में महाराणा प्रताप का जन्म हुआ।

तस्य मातुः नाम राज्ञी जयवंत कँवर आसीत्।
= उनकी माँ का नाम रानी जयवंत कँवर था।

महाराणा उदयसिंहः तस्य पिता आसीत्।
= महाराणा उदयसिंह उनके पिता थे।

हल्दीघाटीयुद्धं बहु सुप्रसिद्धम् अस्ति।
= हल्दी की घाटी का युद्ध बहुत प्रसिद्ध है।

महाराणाप्रतापस्य अश्वः चेतकः अपि बहु बलिष्ठः आसीत्।
= महाराणा प्रताप का घोड़ा चेतक भी बहुत बलवान था।

चेतकेन प्राणदानं कृत्वा महाराणाप्रतापस्य रक्षा कृता।
= चेतक ने प्राणदान करके महाराणा प्रताप की रक्षा की।

अद्य महाराणाप्रतापस्य जयन्तिः अस्ति।
= आज महाराणा प्रताप की जन्मजयंति है।

वयं तं महावीरं वन्दामहे।

ओ३म्

640. संस्कृत वाक्याभ्यासः

अधुना उपनेत्रमयं जगत् अभवत्।
= अब चश्मेवाली दुनिया हो गई है।

सर्वे उपनेत्रं धारयन्ति।
= सभी चश्मा पहनते हैं।

अहमपि उपनेत्रं धारयामि।
= मैं भी चश्मा पहनता हूँ।

बाल्यकालात् एव उपनेत्रम् आवश्यकं जातम्।
= बचपन से ही चश्मा आवश्यक हो गया है।

बाल्यात् प्रभृतिः एव दृष्टिः क्षीणा भवति।
= बचपन से ही दृष्टि कमजोर हो जाती है।

उद्याने ये बालकाः क्रीडन्ति तेषां नेत्रयोः उपनेत्रं वयं पश्यामः।
= बगीचे में जो बच्चे खेलते हैं उनकी आँखों में भी हम चश्मा देखते हैं।

कारणं किम् ?
= क्या कारण है ?

सर्वे चलभाषस्य उपयोगम् अधिकं कुर्वन्ति।
= सभी मोबाइल का उपयोग अधिक करते हैं।

पौष्टिकं भोजनं न खादन्ति।
= पौष्टिक भोजन नहीं खाते हैं।

जनाः गोदुग्धं न पिबन्ति।
= लोग गाय का दूध नहीं पीते हैं

सूर्यनमस्कारं न कुर्वन्ति।
= सूर्यनमस्कार नहीं करते हैं।

हरितानि शाकानि न खादन्ति।
= हरी सब्जियाँ नहीं खाते हैं।

शीतलेन जलेन स्नानं न कुर्वन्ति।
= ठंडे पानी से नहीं नहाते हैं।

अद्य एकः वृद्धः जनः एतानि कारणानि उक्तवान्।
= आज एक वृद्ध जन ने ये कारण बताए।

ओ३म्

641. संस्कृत वाक्याभ्यासः

शिखा द्विचक्रिकां चालयित्वा विद्यालयात् गृहम् आगच्छति।
= शिखा साइकिल चलाकर विद्यालय से घर आती है।

मार्गे गोमयं पतितम् आसीत्।
= रास्ते में गोबर गिरा था।

अनवधानेन सा गोमयस्य उपरिष्टात् द्विचक्रिकां चालयति।
= बेध्यानी में वह गोबर के ऊपर से साइकिल चलाती है।

तस्याः द्विचक्रिका मलिना भवति।
= उसकी साइकिल गंदी हो जाती है।

शिखा गृहम् आगत्य भोजनं करोति।
= शिखा घर पर आकर भोजन करती है।

अनन्तरं सा द्विचक्रिकां स्वच्छां करोति।
= बाद में वह साइकिल साफ करती है।

सा जलेन स्वच्छं न करोति।
= वह पानी से साफ नहीं करती है।

सा कर्गदेन स्वच्छां करोति।
= वह कागज से साफ करती है।

अनावृष्टेः कारणात् जलं न्यूनम् अस्ति।
= अनावृष्टि के कारण पानी कम है।

अनन्तरं सा वस्त्रम् आर्द्रं कृत्वा द्विचक्रिकां प्रौञ्छति।
= बाद में वह कपड़ा गीला करके साइकिल पोंछती है।

ओ३म्

642. संस्कृत वाक्याभ्यासः

खगानां कृते मृत्तिकापात्रे जलं स्थापितम् अस्ति।
= पक्षीयों के लिये मिट्टी के पात्र में पानी रखा है

चटकाः आगच्छन्ति।
= चिड़ियाएँ आती हैं।

जलं पिबन्ति।
= पानी पीती हैं ।

उड्डयन्ते।
= उड़ जाती हैं।

काश्चन चटकाः जले स्नान्ति।
= कुछ चिड़ियाएँ पानी में नहाती हैं।

यदाकदा शुकाः अपि जलं पातुम् आगच्छन्ति।
= कभी कभी तोते भी पानी पीने आते हैं।

कपोताः न आगच्छन्ति।
= कबूतर नहीं आते हैं।

कपोतानां कृते जलं कपोतगृहे स्थापितम् अस्ति।
= कबूतरों के लिये कबूतरघर में पानी रखा है।

वृक्षेषु अपि जलपात्राणि लम्बन्ते।
= वृक्षों पर भी जलपात्र लटक रहे हैं।

पक्षीणां सर्वे सेवां कुर्वन्ति।
= पक्षियों की सभी सेवा करते हैं।

ओ३म्

643. संस्कृत वाक्याभ्यासः

चक्रवातस्य कारणात् बहु हानिः अभवत्।
= चक्रवात के कारण बहुत हानि हुई है।

केषाञ्चन जनानां गृहाणां छदयः नष्टा जाता।
= कुछ लोगों के घर की छतें नष्ट हो गई हैं।

गृहाणां द्वाराणि उड्डीतानि।
= घरों के दरवाजे उड़ गए हैं।

अनेके वृक्षाः अपतन्।
= अनेक वृक्ष गिर गए हैं।

अनेके स्तम्भाः अपि अपतन्।
= अनेक खम्भे भी गिर गए हैं।

यनानि अपि वायुवेगेन भञ्जितानि।
= वायु के वेग से वाहन भी टूट गए।

वायुप्रवाहे कोsपि स्थातुं न शक्नोति स्म।
= वायु के प्रवाह में कोई भी खड़ा नहीं हो पा रहा था।

कृषिक्षेत्रेषु सस्यं नष्टं जातम्।
= खेतों में फसल नष्ट हो गई है।

तथापि जनाः पुनर्स्थापनार्थं सिद्धाः सन्ति।
= फिर भी लोग पुनः स्थापित होने के लिये तैयार हैं।

जनाः उत्साहं न त्यक्तवन्तः।
= लोगों ने उत्साह नहीं छोड़ा है।

आत्मश्रमेण नवनिर्माणं करिष्यन्ति जनाः।
= आत्मश्रम से लोग नया निर्माण करेंगे।

एतस्यैव नाम जीवनम्।
= इसी का नाम जीवन है।

ओ३म्

644. संस्कृत वाक्याभ्यासः

बङ्गाल समुद्रवङ्के झंझावातः समागतः ।
= बंगाल की खाड़ी में तूफान आया है।

वायुः बहु वेगेन प्रवहति।
= वायु बहुत तेजी से बह रही है।

अनेके वृक्षाः दोलायन्ते।
= अनेक वृक्ष हिल रहे हैं।

अनेके वृक्षाः अपतन्।
= अनेक वृक्ष गिर गए।

कुटीराणां त्रपुफलकानि, तृणछदिः च उड्डयन्ते।
= झोपड़ियों की टीन और छप्पर उड़ रहे हैं।

समुद्रे जलतरङ्गाः उपरि उपरि उत्प्लावन्ते।
= समुद्र में लहरें ऊँचे ऊँचे उछल रही हैं।

जनजीवनम् अस्तंव्यस्तं जातम्।
=जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है।

सर्वाणि यनानि स्थगितानि।
= सभी वाहन रुक गए हैं।

ओरिस्सा , आन्ध्रप्रदेशे च जनाः सुरक्षितेषु स्थानेषु प्रेषिताः।
= ओरिस्सा और आंध्रप्रदेश में लोग सुरक्षित स्थानों पर भेज दिये गए हैं।

वयं सर्वेषां जीवनरक्षार्थं प्रार्थयामहे।

ओ३म्

645. संस्कृत वाक्याभ्यासः

विशालः रेलयानेन यात्रां कुर्वन् अस्ति।
= विशाल रेल से यात्रा कर रहा है।

अल्पाहारस्य समयः जातः।
= नाश्ते के समय हो गया है।

एकः सहयात्री रेलस्थानकात् पूरिकाः शाकं च अनायति।
= एक यात्री रेलवे स्टेशन से पूड़ियाँ और सब्जी लाता है।

सहयात्री विशालं वदति – “त्वमपि स्वीकुरु”
= सहयात्री विशाल से कहता है ” तुम भी खाओ”

विशालः स्यूतात् रोटिकाः निष्कसयति।
= विशाल थैले से रोटियाँ निकालता है।

शाकं निष्कासयति।
= सब्जी निकालता है।

सन्धानम् अपि निष्कासयति।
= अचार भी निकालता है।

पर्पटम् अपि निष्कासयति।
= पापड़ भी निकालता है।

विशालः वदति – “भवान् खादतु।”
= विशाल बोलता है – ‘आप खाईये”

सः सहयात्री चकितः भवति।
= वह यात्री चकित हो जाता है।

यात्री – कुतः अनीतवान् ?
= कहाँ से लाए ?

विशालः – मम माता दत्तवती।
= मेरी माँ ने दिया है।

= प्रातः पञ्चवादने उत्थाय पक्तवती।
= प्रातः पाँच बजे उठकर बनाया है।

– आपणात् भोजनं न क्रयणीयम्।
= बाजार से भोजन नहीं खरीदना चाहिये।

– अन्यस्मात् किमपि न स्वीकरणीयम्।
= दूसरों से कुछ नहीं लेना चाहिये।

यात्री – सत्यमेव मात्रा दत्तं भोजनं स्वादिष्टम् अस्ति।
= सच में माँ के द्वारा दिया भोजन स्वादिष्ट है।

धन्यवाद अम्माजी ।

अम्माजी को सादर वन्दन।

ओ३म्

646. संस्कृत वाक्याभ्यासः

वयं प्रतिदिनं किमपि न किमपि अवश्यमेव क्रीणामः।
= हम प्रतिदिन कुछ न कुछ खरीदते हैं।

क्रयणम् इति अस्माकं जीवनस्य भागः।
= खरीदना यह हमारे जीवन का हिस्सा है।

वस्तु रोचते चेत् वयं तस्य प्रशंसां कुर्मः।
= वस्तु पसंद आती है तो हम उसकी प्रशंसा करते हैं।

वयं वस्तुनः उत्पादकस्य प्रशंसां कुर्मः।
= हम उस वस्तु के उत्पादक की प्रशंसा करते हैं।

वयं वस्तुनः निर्मातुः प्रशंसां कुर्मः।
= हम उस वस्तु के निर्माता की प्रशंसा करते हैं।

कदापि वयं श्रमिकस्य प्रशंसां न कुर्मः।
= कभी भी हम श्रमिक की प्रशंसा नहीं करते हैं।

उद्योगेषु श्रमिकाः उद्यमं कुर्वन्ति।
= कारखानों में श्रमिक मेहनत करता है।

वयं यस्य कस्यापि वस्तुनः उपयोगं कुर्मः तस्य निर्माणं श्रमिकः एव करोति।
= हम जिस किसी भी वस्तु का उपयोग करते हैं उसका निर्माण श्रमिक ही करता है।

कृषिक्षेत्रे अपि श्रमिकाः कार्यं कुर्वन्ति।
= खेत में भी श्रमिक काम करते हैं

देशस्य उन्नतिः अपि श्रमिकैः एव भवति।
= देश की उन्नति भी श्रमिकों द्वारा होती है।

वयं सर्वे अपि श्रमिकाः स्मः।
= हम सब भी श्रमिक हैं।

अद्य श्रमिकदिनम् अस्ति।
= आज मजदूर दिन है।

सर्वेभ्यः संस्कृतश्रमिकेभ्यः शुभकामनाः ।
= सभी संस्कृत श्रमिकों को शुभकामनाएँ।

ओ३म्

647. संस्कृत वाक्याभ्यासः

पारसः वस्त्रविक्रेता अस्ति।
= पारस वस्त्रविक्रेता है।

सः ग्राहकान् वस्त्राणि दर्शयति।
= वह ग्राहकों को वस्त्र दिखाता है।

विविधानां वर्णानां वस्त्राणि दर्शयति।
= विविध रंगों के वस्त्र दिखाता है।

सः युतकस्य वस्त्राणि दर्शयति।
= वह शर्ट के कपड़े दिखाता है।

सः उरूकस्य वस्त्राणि दर्शयति।
= वह पेंट के कपड़े दिखाता है।

सः ग्राहकं पृच्छति।
= वह ग्राहक से पूछता है।

कियत् वस्त्रं ददानि ?
= कितना कपड़ा दूँ ?

युतकं निर्मास्यति वा करांशुकम् ?
= शर्ट बनाएँगे या कुर्ता ?

युतकम् ?
=शर्ट ??

तर्हि सार्धद्विहस्त-परिमितं वस्त्रं पर्याप्तम्।
= तो ढाई मीटर कपड़ा पर्याप्त है।

पारसः वस्त्रं माति।
= पारस कपड़ा मापता है।

सः वस्त्रं कर्तयित्वा ग्राहकाय ददाति।
= वह वस्त्र काट कर ग्राहक को देता है।

ओ३म्

648. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सा सर्वान् ग्राहकान् इक्षुदण्डस्य रसं पाययति।
= वह सभी ग्राहकों को गन्ने का रस पिलाती है।

तस्याः पतिः चषके (चषकेषु) रसं पूरयति।
= उसका पति गिलास में रस भरता है।

सा / सः रसं कथं निष्कासयति ?
= वह रस कैसे निकालती / निकालता है ?

सा रसनिष्पीडनयन्त्रं हस्तेन चालयति।
= वह रस पीलने का यंत्र हाथ से चलाती है।

तस्याः पतिः इक्षुदण्डं यन्त्रे निक्षिपति।
= उसका पति गन्ने को मशीन में डालता है।

गोलकयोः मध्ये इक्षुदण्डस्य पेषणं भवति।
= दो गोलक के बीच गन्ना पिसता है।

इक्षुरसः पात्रे निर्झरति।
= गन्ने का रस बर्तन में झरता है।

ग्रीष्मकाले प्रायः सर्वे इक्षुरसं पिबन्ति।
= गर्मी में प्रायः सभी गन्ने का रस पीते हैं।

सा रसे हिमम् अपि स्थापयति।
= वह रस में बरफ़ भी डालती है।

आगच्छन्तु इक्षुरसं पिबाम।
= आईये गन्ने का रस पीते हैं।

ओ३म्

649. संस्कृत वाक्याभ्यासः

भार्गवी – शीघ्रं चल … अन्धकारः अवर्धत।
= जल्दी चलो …. अंधेरा बढ़ गया है।

– निर्जनः मार्गः अस्ति।
= रास्ता निर्जन है।

– मार्गे श्वानः अपि बुक्कन्ति।
= रास्ते में कुत्ते भी भौंकते हैं।

– अहं तु चलभाषम् अपि न अनीतवती।
= मैं तो मोबाइल भी नहीं लाई।

आभा – मम पार्श्वे करदीपः अस्ति।
= मेरे पास टार्च है।

भार्गवी – निष्कासय।
= निकालो।

आभा करदीपं निष्कासयति।
= आभा टार्च निकालती है।

आभा – ओह .. विद्युतकोषः मन्दः अस्ति।
= ओह … सेल धीमा है।

– चलतु … एवमेव चल।
= चलिये … ऐसे ही चलिये।

भार्गवी – अर्धहोरा अनन्तरं गृहं प्राप्स्यामः।
= आधा घण्टे बाद घर पहुँचेंगे।

आभा – तावत् गायत्रीमन्त्रं जपतु।
= तब तक गायत्री मंत्र जपिये।

– अग्रे किमपि मा वदतु।
= आगे कुछ भी मत बोलिये।

– अग्रे किमपि मा चिन्तयतु।
= आगे कुछ भी मत सोचिये।

ओ३म्

650. संस्कृत वाक्याभ्यासः

अभ्यासं करोतु नोचेत् असफलः भविष्यति।
= अभ्यास करिये नहीं तो असफल हो जाएँगे।

पुत्र! ध्यानपूर्वकम् आरोह नोचेत् पतिष्यसि।
= पुत्र , ध्यान से चढ़ो नहीं तो गिर जाओगे।

आतपे मा भ्रम नोचेत् रुग्णः भविष्यसि।
= धूप में मत घूमो नहीं तो बीमार पड़ जाओगे।

माता अनुमतिं ददाति चेत् गच्छ नोचेत् मा गच्छ।
= माँ अनुमति देती है तो जाना नहीं तो नहीं जाना

फलानि प्रक्षाल्य खादतु नोचेत् रसायनम् अन्तः गमिष्यति।
= फल धो कर खाईये नहीं तो केमिकल अंदर चला जाएगा।

वेक्षेभ्यः जलं ददातु नोचेत् वृक्षाः शुष्काः भविष्यन्ति।
= वृक्षों को पानी दीजिये नहीं तो वृक्ष सूख जाएँगे।

मम भार्यां मा वदतु नोचेत् सा क्रोत्स्यति।
= मेरी पत्नी को मत कहियेगा नहीं तो वो गुस्सा करेगी।

तस्य अपराधस्य प्रमाणं देहि नोचेत् क्षमां याच।
= उसके अपराध का प्रमाण दो नहीं तो क्षमा माँगो।

प्रकाशं करोतु नोचेत् सः बालकः भेष्यति।
= प्रकाश करो नहीं तो वह बालक डरेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *