००२३ सरल संस्कृत अनुवाद अभ्यास पाठ ४४३ से ४७०

ओ३म्

443. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सः पठन् आसीत्। 
= वह पढ़ रहा था।

सद्यः एव तस्य उदरे पीड़ा जाता। 
= अचानक उसके पेट में दर्द शुरू हुआ।

सः त्वरितमेव उत्थितवान्।
= वह तुरन्त खड़ा हो गया।

मातुः समीपं गतवान्। 
= माँ के पास गया।

माता तस्मै यवानीं गुडं श्यामलवणं च सम्मेल्य दत्तवती। 
= माँ ने उसे अजवाइन गुड़ और काला नमक मिला कर दिया।

एक होरा पर्यन्तं सः विश्रामं कृतवान्।
= एक घंटा तक उसने आराम किया।

अनन्तरं सः शौचलयं गतवान्।
= बाद में वह शौचलय गया।

उदरं स्वच्छम् अभवत्।
= पेट साफ हो गया।

सः स्वस्थः अभवत्। 
= वह स्वस्थ हो गया।

प्रायः बुद्धिमत्यः मातरः गृहोपचारमेव कुर्वन्ति।
= प्रायः बुद्धिमती माताएँ घर में ही उपचार करती हैं।

लाभः अपि भवति।
= लाभ भी होता है।

ओ३म्

444. संस्कृत वाक्याभ्यासः

माता – चल पुत्र ! रुग्णालयं चल।
= चलो बेटा ! अस्पताल चलो।

पुत्रः – किमर्थम् ? 
= क्यों ?

माता – तव मतुलः रुग्णः अस्ति।
= तुम्हारे मामा बीमार हैं।

पुत्रः – आं चलामि।
= हाँ चलता हूँ।

माता – तव कृते कूप्यां जलं स्वीकृतवती।
= तुम्हारे लिये बोतल में पानी ले लिया है।

मातुलस्य चषकेन जलं मा पिब ।
= मामा के गिलास से पानी मत पीना।

– सः तु रुग्णः।
= वो तो बीमार है।

-रुग्णस्य चषकेन जलं न पेयम् ।
= बीमार के गिलास से पानी नहीं पीना चाहिये।

पुत्रः – सः तु मम मातुलः अस्ति। 
= वह तो मेरे मामा जी हैं।

माता – सः तव मातुलः … तद् सत्यम् ।
= वो तुम्हारे मामाजी हैं … वो सच है।

– अधुना सः रुग्णः।
= अभी वो बीमार है।

ओ३म्

445. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सः दिनदर्शिकां पश्यति।
= वह कैलेण्डर देखता है।

चिन्तयति। 
= विचारता है। 🤔

“श्वः अवकाशः अस्ति।” 
= कल छुट्टी है ।

परश्वः अवकाशः नास्ति।
= परसों छुट्टी नहीं है।

प्रपरश्वः अपि अवकाशः नास्ति। 
= नरसों भी छुट्टी नहीं है।

अनन्तरं दिनद्वयम् अवकाशः अस्ति। 
= बाद में दो दिन छुट्टी है।

तर्हि सोमवासरस्य मङ्गलवासरस्य च अवकाशावेदनं ददामि।
= तो सोमवार और मंगलवार की छुट्टी का आवेदन देता हूँ।

षट् दिनानां कृते गृहं गमिष्यामि। 
= छः दिनों के लिये घर जाऊँगा।

भ्रातृद्वितीया: अनन्तरम् आगमिष्यामि।
= भाई दूज के बाद आऊँगा।

सः मां पृच्छति।
= वह मुझसे पूछता है।

भवान् अवकाशे अस्ति वा ? 
= आप छुट्टी पर हैं क्या ?

अहम् उक्तवान् ” न अहम् अवकाशे नास्मि।” 
= मैंने कहा ” नहीं मैं छुट्टी पर नहीं हूँ।

सः अवकाशस्य आवेदनं ददाति। 
= वह छुट्टी का आवेदन देता है।

ओ३म्

446. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सङ्केतेन मा वद
= इशारों से मत बोलो ।

वाण्या वद। 
= वाणी से बोलो

वाचा वद ।
= वाणी से बोलो ।

वाचा ( वाण्या) यद्किमपि वक्तव्यम् उत्तमम् एव वक्तव्यम्। 
= वाणी से जो भी बोलें अच्छा ही बोलें।

अस्माकं मधुरां वाणीं ( वाचम् ) श्रुत्वा जनाः मोदन्ते। 
= हमारी मधुर वाणी सुनकर लोग खुश होते हैं।

कर्कशां वाणीं ( वाचम् ) श्रुत्वा जनाः रुष्टाः भवन्ति। 
= कर्कश वाणी सुनकर लोग नाराज होते हैं।

गुरवः वाचा एव उपदेशं ददति। 
= गुरु वाणी से ही उपदेश देते हैं ।

सः वाचा यत्किमपि वदति तद् कार्यम् अवश्यमेव करोति।
= वह वाणी से जो कुछ भी बोलता है वो काम अवश्य करता है।

मनसा वाचा कर्मणा सः एकसमानः अस्ति।
= मन वचन और कर्म से वह एकसमान है।

गुरोः वाचः ज्ञानं निस्सरति। 
= गुरु की वाणी से ज्ञान निकलता है।

तस्य वाचि पवित्रता वर्तते ।
= उसकी वाणी में पवित्रता है।

अद्य वाक्द्वादशी अस्ति। 
= आज वाणी द्वादशी है।

ओ३म्

447. संस्कृत वाक्याभ्यासः

* धनम् आनीतवान् वा ? 
= धन लाए क्या ?

** न , अहं तु पुस्तकम् आनीतवान्।
= नहीं , मैं तो पुस्तक लाया हूँ ।

* पुस्तकं लेहानि वा ?? 
= पुस्तक चाटूँ क्या ?

त्वं धनं न जानासि ?? 
= तुम धन नहीं जानते ??

** जानामि अहं …. 
= जानता हूँ मैं …

विद्या अपि धनम् अस्ति।
= विद्या भी धन है ।

संस्कारः अपि धनं भवति। 
= संस्कार भी धन होता है।

संतोषः तु परमं धनम् ।
= संतोष तो परम धन है।

सद्गुणः अपि धनमेव ।
= सद्गुण भी धन ही है।

सर्वदा धनं धनं न करणीयम् ।
= हमेशा धन धन नहीं करना चाहिये।

* ओह , अहं तु मुद्रा एव धनंम् , आभूषणमेव धनं भवति इति मन्ये स्म। 
= ओह , मैं तो नोट ही धन है , आभूषण ही धन है ऐसा मानता था।

*त्वं तु … संस्कारधनिकः । 🙏🙏
= तुम तो … संस्कार धनी हो।

धनत्रयोदशी पर्वणः सर्वेभ्यः मङ्गलकामनाः।

ओ३म्

448. संस्कृत वाक्याभ्यासः

श्यामवर्णीयम् उरुकं सर्वेभ्यः रोचते। 
= काली पैन्ट सबको पसन्द होती है।

कज्जलं श्यामवर्णीयं भवति।
= काजल भी काला होता है।

पुस्तकेषु प्रायः श्यामवर्णेन एव लिख्यते।
= पुस्तक में प्रायः काले रंग से लिखा जाता है।

सूर्योपनेत्रं श्यामवर्णीयम् एव धार्यते।
= धूप का चश्मा काला ही पहना जाता है।

युवावस्थापर्यन्तं केशाः अपि श्यामवर्णीयाः भवन्ति।
= युवावस्था तक बाल भी काले होते हैं।

पाकशालायाम् ऋजीषम् अपि श्यामवर्णीयं भवति। 
= रसोई में तवा भी काला होता है।

यानानां चक्राणि श्यामवर्णीयानि भवन्ति। 
= वाहनों के पहिये काले होते हैं ।

श्यामफलके शिक्षिका / शिक्षकः लिखति। 
= काले बोर्ड पर शिक्षिका / शिक्षक लिखती / लिखता है।

अतः श्यामवर्णेन सह भेदभावः न करणीयः। 
= इसलिये काले रंग से भेदभाव नहीं करना चाहिये।

मनः श्यामं न भवेत्। 
= मन काला न हो ।

अद्य श्यामचतुर्दशी अस्ति। 
= आज काली चौदस है।

ओ३म्

449. संस्कृत वाक्याभ्यासः

रात्रौ कति जनाः दीपान् प्रज्जवालितवन्तः। 
= रात में कितने लोगों ने दीप जलाए।

मम सर्वाणि मित्राणि ज्वालितवन्तः। 
= मेरे सभी मित्रों ने प्रज्ज्वलित किये।

कति दीपाः आसन् ? 
= कितने दीप थे ?

सुरेशस्य गृहे दीपावल्याम् एकादश दीपाः आसन्। 
= सुरेश के घर दीपों की आवलि में ग्यारह दीप थे।

ममतायाः गृहे दीपावल्याम् एकापञ्चाशत् दीपाः आसन्। 
= ममता के घर दीपों की आवलि में इक्यावन दीप थे।

कुत्र प्रज्जवालितवन्तः ।
= कहाँ प्रज्ज्वालितकिये।

गृहाङ्गणे प्रज्जवालितवन्तः।
= घर के आँगन में प्रज्ज्वलित किये।

शशांकस्य गृहे रंगावल्यां दीपा: प्रज्जवालिताः 
= शशांक के घर में रंगोली पर दीप प्रज्ज्वलित किये थे।

क्षितिजः द्वारे द्वौ दीपौ स्थापितवान्। 
= क्षितिज ने दरवाजे पर दो दीप रखे ।

सुशीला तुलसीपादपस्य पार्श्वे एकं दीपं स्थापितवती। 
= सुशीला ने तुलसी के पौधे के पास एक दीप रखा।

मम मित्रेषु कोsपि चाइनादीपं न क्रीतवान्।
= मेरे मित्रों में से किसी ने भी चाइना का दीप नहीं खरीदा।

ओ३म्

450. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सा शन्नोदेवी माता अस्ति।
= वह शन्नोदेवी माँ है।

सा पञ्चनवतिः वर्षीया अस्ति। 
= वो पच्चानवे वर्ष की हैं।

तस्याः पञ्च पुत्राः चतस्रः पुत्र्यः च सन्ति। 
= उनके पाँच पुत्र और चार बेटियाँ हैं।

सर्वे विविधेषु नगरेषु निवसन्ति।
= सभी अलग अलग नगरों में रहते हैं।

अद्य सर्वे मूलनिवासस्थले एकत्रिताः अभवन्। 
= आज सभी मूलनिवास स्थान पर एकत्रित हुए हैं।

सर्वे एकसाकं यज्ञं कुर्वन्तः सन्ति। 
= सभी एक साथ यज्ञ कर रहे हैं।

भ्रातृणां भगिनीनां मेलनं बहूनि दिनानि अनन्तरम् अभवत्।
= भाइयों बहनों का मिलना बहुत दिनों बाद हुआ है।

सर्वेषां बालकाः अपि समागताः।
= सभी के बच्चे भी आए हैं।

ते अपि यज्ञं कुर्वन्तः सन्ति।
= वो भी यज्ञ कर रहे हैं।

भ्रातृद्वितीयायाः सर्वेभ्यः /सर्वाभ्यः मङ्गलकामनाः।

ओ३म्

451. संस्कृत वाक्याभ्यासः

नूतनानि वस्त्राणि सः धारितवान्। 
= उसने नए वस्त्र पहने।

सर्वे प्रशंसां कृतवन्तः। 
= सबने प्रशंसा की।

सर्वे पृष्टवन्तः । 
= सबने पूछा।

कुतः क्रीतवान् ? 
= कहाँ से खरीदे ?

मूल्यं किम् अस्ति ? 
= कीमत क्या है ?

सः आपणस्य नाम उक्तवान्। 
= उसने दूकान का नाम बताया।

सः मूल्यम् अपि उक्तवान्।
= उसने कीमत भी कही।

सर्वे उक्तवन्तः – वस्त्राणां संयोजनं बहु योग्यम् अस्ति। 
= सभी ने कहा – कपड़ों की फिटिंग अच्छी है।

सर्वेषां प्रशंसां श्रुत्वा सः प्रसन्नः अभवत्।
= सबकी प्रशंसा सुनकर वह खुश हुआ।

अद्य तृतीयं दिनम् अस्ति 
= आज तीसरा दिन है

सः तानि एव वस्त्राणि धारयित्वा बहिः गतवान्। 
= वो वही कपड़े पहनकर बाहर गया है।

ओ३म्

452. संस्कृत वाक्याभ्यासः

* तत्र बहु अन्धकारः आसीत्।
= वहाँ बहुत अँधेरा था।

** कुत्र ? 
= कहाँ ?

* भूगर्भे ।
= भूगर्भ में ( बेसमेन्ट में )

** किमर्थम् ? 
= क्यों ?

* यतोहि तत्र दीपगोलकम् न आसीत्।
= क्योंकि वहाँ बल्ब नहीं था।

तत्र दण्डदीपः न आसीत्। 
= वहाँ ट्यूबलाइट नहीं थी।

कस्य अपि पार्श्वे करदीपः न आसीत्।
= किसी के पास टॉर्च नहीं थी।

तत्र वातायानम् अपि न आसीत्।
= वहाँ खिड़की भी नहीं थी।

प्रकाशव्यवस्था न आसीत्।
= प्रकाश की व्यवस्था नहीं थी।

सूर्यप्रकाशः अपि न आसीत्। 
= सूर्यप्रकाश भी नहीं था।

अतः तत्र अन्धकारः आसीत्। 
= इसलिये वहाँ अँधेरा था।

( “आसीत् ” प्रयोगः )

ओ३म्

453. संस्कृत वाक्याभ्यासः

राजेशः पनवेल-नगरे निवसति।
= राजेश पनवेल में रहता है।

पनवेले सः केन्द्रीय-विद्यालये शिक्षकः अस्ति। 
= पनवेल में वह केंद्रीय विद्यालय में शिक्षक है।

सः संस्कृतशिक्षकः अस्ति। 
= वह संस्कृत शिक्षक है।

पाठनसमये सः हस्ते पुस्तकं न स्थापयति।
= पढ़ाते समय वह हाथ में पुस्तक नहीं रखता है।

सः सर्वान् पाठान् अभिनयं कृत्वा पाठयति। 
= वह सभी पाठ अभिनय करके पढ़ाता है।

तस्य छात्राः अपि अभिनयं कृत्वा उत्तरं ददति।
= उसके छात्र भी अभिनय करके उत्तर देते हैं।

सः प्रतिदिनं श्लोकान् वा गीतम् गापयति।
= वह प्रतिदिन श्लोक या गीत गवाता है।

सः एकं वाक्यं वदति।
= वह एक वाक्य बोलता है।

छात्राः तस्य अनुकरणं कुर्वन्ति।
= छात्र उसका अनुकरण करते हैं।

छात्राः नूतनानि वाक्यानि अपि वदन्ति।
= छात्र नए वाक्य भी बोलते हैं।

छात्राः राजेशस्य पाठन पद्धत्या प्रसन्नाः सन्ति।
= छात्र राजेश की पढ़ाने की पद्धति से खुश हैं।

ओ३म्

454. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सः सहारनपुरतः दूरवाणीं कृतवान्। 
= उसने सहारनपुर से फोन किया।

* नमो नमः महोदय !

** नमो नमः ।

* कथम् अस्ति भवान् ? 
= कैसे हैं आप ?

** अहं कुशली अस्मि। 
= मैं ठीक हूँ।

– भवान् कः ? 
= आप कौन ?

अहं सहारनपुरतः वदामि।
= मैं सहारनपुर से बोल रहा हूँ।

मम नाम राजेन्द्रकुमारः ।

अहं पूर्वमाध्यमिक-विद्यालये शिक्षकः अस्मि। 
= मैं पूर्व माध्यमिक विद्यालय में शिक्षक हूँ ।

संस्कृतं पाठयामि। 
= संस्कृत पढ़ाता हूँ।

** एवं वा ? 
= ऐसा क्या ?

* प्रतिदिनं भवतः पाठान् पठामि।
= प्रतिदिन आपके पाठ पढ़ता हूँ।

तेन अभ्यासं करोमि। 
= उससे अभ्यास करता हूँ।

बहु लाभः भवति। 
= बहुत लाभ होता है।

भवतः धन्यवादः ।
= आपका धन्यवाद ।

** स्वागतम् ।

ओ३म्

455. संस्कृत वाक्याभ्यासः

गोंडलनगरस्य समीपे वीरपुरम-ग्रामः अस्ति। 
= गोंडल शहर के पास वीरपुर गाँव है।

द्विशतं विंशतिः वर्षेभ्यः पूर्वं वीरपुरे बापा-जलारामस्य जन्म अभवत् ।
= दो सौ बीस वर्ष पहले वीरपुर में जलाराम बापा का जन्म हुआ था।

जलारामस्य पितुः नाम प्रधान ठक्करः आसीत्। 
= जलाराम के पिता का नाम प्रधान ठक्कर था।

जलारामस्य मातुः नाम राजबाई ठक्करः आसीत्। 
= जलाराम जी की माँ का नाम राजबाई ठक्कर था।

जलारामः ईश्वरभक्तः , धर्मपरायणः , सेवाभावी च आसीत्। 
= जलाराम जी ईश्वरभक्तः , धर्मपरायणः और सेवाभावी थे।

सः गोसेवां करोति स्म। 
= वह गौसेवा करते थे।

सः मूकानां पशूनां सेवां करोति स्म। 
= वे मूक पशुओं की सेवा करते थे।

वीरपुरे सः सर्वेषां कृते अन्नक्षेत्रं चालयति स्म। 
= वीरपुर में सबके लिये अन्नक्षेत्र चलाते थे।

तद् अन्नक्षेत्रम् अद्यापि चलति। 
= वो अन्नक्षेत्र आज भी चलता है।

वीरपुरे अन्नक्षेत्रे प्रतिदिनम् अनेके जनाः भोजनं कुर्वन्ति। 
= वीरपुर में अन्नक्षेत्र में प्रतिदिन अनेक लोग भोजन करते हैं।

अद्य जलारामस्य जन्मजयन्ति अस्ति। 
= आज जलाराम जी की जन्मजयन्ति है।

ओ३म्

456. संस्कृत वाक्याभ्यासः

अहं लोकयाने आसम् ।

संस्कृतगीतं गायन् आसम् ।

एका बालिका मम गीतं श्रृणोति स्म।

सा मातरम् अवदत्।

सः दादा गीतं गायति।

अहं श्रोतुम् इच्छामि।

सा बालिका मम अङ्के आगत्य उपविष्टवती।

सा ध्यानपूर्वकं संस्कृतगीतं श्रुतवती।

ओ३म्

457. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सः बहु श्रान्तः आसीत्। 
= वह बहुत थका हुआ था।

रात्रौ चतुर्वादन पर्यन्तं सः कार्यं कृतवान्। 
= रात में चार बजे तक उसने कार्य किया।

तस्य गृहे चतुर्दश अतिथयः आगतवन्तः।
= उसके घर चौदह अतिथि आए थे।

तस्य अतिथयः रेलयानेन , लोकयानेन गच्छन्ति स्म। 
= उसके अतिथि रेल से , बस से जा रहे थे।

एकं रेलयानम् एकादशवादने आसीत्। 
= एक रेल ग्यारह बजे थी।

तेन यानेन सप्त जनाः अगच्छन्। 
= उस गाड़ी से सात जने गए।

एकं रेलयानं सार्धएकवादने आसीत्
= एक रेल डेढ़ बजे थी।

तेन यानेन चत्वारः अतिथयः अगच्छन्। 
= उस गाड़ी से चार अतिथि गए।

लोकयानं सपादत्रिवादने गच्छन् आसीत्। 
= बस सवातीन बजे जानी थी।

लोकयानेन त्रयः अतिथयः गतवन्तः। 
= बस से तीन अतिथि गए।

सः गृहम् आगत्य स्नानं कृतवान्।
= उसने घर आकर स्नान किया।

तदनन्तरं सः शयनं कृतवान्। 
= उसके बाद वह सोया।

तथापि सः प्रातः सार्धपञ्चवादने उत्थितवान्। 
= फिर भी वह सुबह साढ़े पाँच उठ गया।

ओ३म्

458. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सा अश्वचालनं शिक्षते ।
= वह घोड़ा चलाना सीख रही है।

सा प्रतिदिनम् अश्वम् आरोहति।
= वह प्रतिदिन घोड़े पर चढ़ती है।

आरोहणात् पूर्वं सा अश्वारोहणस्य गणवेशं धारयति।
= घोड़े पर चढ़ने से पहले वह अश्वारोहण का गणवेश पहनती है।

शिरसि शिरस्त्राणं धारयति। 
= सिर पर हेल्मेट पहनती है।

पादयोः पादत्राणं धारयति। 
= पैरों में बूट पहनती है।

अनन्तरं सा प्रेम्णा अश्वम् आरोहति। 
= उसके बाद वह प्रेम से घोड़े पर चढ़ती है।

सा अश्वाभिधानीं हस्ते गृह्णाति। 
= वह घोड़े की लगाम हाथ में लेती है।

अश्वपाशं हस्ते गृहीत्वा सा अश्वं चालयति।
= घोड़े की लगाम हाथ में लेकर वह घोड़े को चलाती है।

अश्वपाशेन सा अश्वाय आदेशं ददाति।
= लगाम से वह घोड़े को आदेश देती है।

तस्याः आदेशं अश्वः अपि मन्यते।
= उसके आदेश को घोड़ा भी मानता है।

सा अश्वे बहु स्निह्यति। 
= वह घोड़े को बहुत प्यार करती है।

ओ३म्

459. संस्कृत वाक्याभ्यासः

एतद् तव 
= ये तुम्हारा

एतद् मम 
= ये मेरा

एतद् भवतः (पुंलिङ्ग )
= ये आपका

एतद् भवत्याः ( स्त्रीलिंग )
= ये आपका

एतद् तस्य (पुंलिङ्ग )
= ये उसका

एतद् तस्याः ( स्त्रीलिंग )
= ये उसका

एतद् एतस्य (पुंलिङ्ग )
= ये इसका

एतद् एतस्याः ( स्त्रीलिंग )
= ये इसका

एतद् कस्य (पुंलिङ्ग )
= ये किसका

एतद् कस्याः ( स्त्रीलिंग )
= ये किसका

एतद् सर्वेषाम् 
= ये सबका

एतद् भवतः (पुंलिङ्ग )
= ये आपका

एतद् अस्माकम् 
= ये हमारा

ओ३म्

460. संस्कृत वाक्याभ्यासः

बङ्गाल राज्ये गङ्गानदी समुद्रे विलीना भवति। 
= बंगाल में गंगानदी समुद्र में विलीन होती है।

गङ्गानद्याः मुखभूमौ सुन्दरवनम् अस्ति।
= गङ्गा नदी के डेल्टा में सुंदरवन है।

सुन्दरवने बहुविधाः वृक्षाः सन्ति।
= सुन्दरवन में बहुत प्रकार के वृक्ष हैं।

सुन्दरवने राजसीयः बङ्गव्याघ्राः वसन्ति।
= सुन्दरवन में रॉयल बंगाल टाइगर रहते हैं।

सुन्दरवने अनेके सरीसृपाः अपि वसन्ति। 
= सुंदरवन में अनेक सरीसृप भी रहते हैं।

वने कच्छपाः अपि सन्ति। 
= वन में कछुए भी हैं।

विविधाः खगाः अपि वसन्ति।
= विविध पक्षी भी रहते हैं।

तत्रत्ये जले मकराः वसन्ति।
= वहाँ के पानी में मगरमच्छ रहते हैं।

सागरस्य लवणीये जले अपि मकराः वसन्ति।
= सागर के नमकीन पानी में भी मगरमच्छ रहते हैं।

सुन्दरवने सर्वदा पशूनां खगानां च रवः श्रूयते।
= सुन्दरवन में हमेशा पशुओं पक्षियों की आवाजें सुनाई देती हैं।

जनाः अत्र नौकाविहारम् अपि कुर्वन्ति।
= लोग यहाँ नौकाविहार भी करते हैं।

सुन्दरवनम् अस्माकं राष्ट्रीयम् उद्यानम् अस्ति। 
= सुन्दरवन हमारा राष्ट्रीय उद्यान है।

ओ३म्

461. संस्कृत वाक्याभ्यासः

नीरवः लोकयानेन यात्रां कुर्वन् अस्ति। 
= नीरव बस से यात्रा कर रहा है।

सः यानस्य दक्षिणभागे उपविष्टः अस्ति। 
= वह वाहन के दाहिने भाग में बैठा है।

यदा सः यात्रां करोति तदा तं निद्रा आगच्छति। 
= जब वह यात्रा करता है तब उसे नींद आ जाती है।

अद्य अपि सः निद्रां कुर्वन् अस्ति।
= आज भी वह नींद कर रहा है।

निद्रायां नीरवस्य दक्षिणहस्तः वातायनात् बहिः आगतः ।
= नींद में नीरव का दाहिना हाथ खिड़की से बाहर आ गया है।

यानचालकः उच्चैः अवदत्।
= ड्राइवर जोर से बोला

“हस्तम् अन्तः करोतु।” 
= हाथ अन्दर करिये।

” कस्य हस्तः बहिः अस्ति ?” 
= किसका हाथ बाहर है ?

सः न श्रृणोति।
= वह नहीं सुनता है।

अतः नीरवस्य सहयात्री तं वदति।
= इसलिये नीरव का सहयात्री उसे कहता है।

” हस्तम् अन्तः करोतु” 
= हाथ अंदर करिये।

भवान् निद्राधीनः अस्ति।
= आप निद्राधीन हैं।

दुर्घटना भवितुं शक्यते।
= दुर्घटना हो सकती है।

ओ३म्

462. संस्कृत वाक्याभ्यासः

पुत्रः – तात ! एकशतं रूप्यकम् इच्छामि। 
= पिताजी ! सौ रुपया चाहिये।

पिता – किमर्थम् एकशतम् ? 
= किसलिये एक सौ ?

पुत्रः – ददातु न …. 
= दीजिये न ….

पिता – दास्यामि पुत्र ! पूर्वं प्रयोजनं वद ।
= दूँगा बेटा ! पहले प्रयोजन बताओ।

पुत्रः – एकं पुस्तकं क्रयणीयम् अस्ति। 
= एक पुस्तक खरीदनी है।

पिता – चल , आवां द्वौ क्रीणावः ।
= चलो , हम दोनों खरीदते हैं।

पुत्रः – न तात ! मम सहपाठिनः पार्श्वे पुस्तकानि न सन्ति
= मेरे सहपाठी के पास पुस्तकें नहीं हैं ।

= अहं तस्मै दातुम् इच्छामि। 
= मैं उसे देना चाहता हूँ।

पिता – त्वं तव मित्रस्य सहयोगं कर्तुम् इच्छसि। 
= तुम तुम्हारे मित्र को सहयोग करना चाहते हो।

पुत्रः – आम् ।
= हाँ ।

पिता – तम् आह्वय । केवलं पुस्तकानि न अपितु लेखनी , टिप्पणीपुस्तकानि अपि दास्यामि। 
= उसे बुलाओ , केवल पुस्तकें ही नहीं अपितु पेन , कॉपी भी दूँगा।

सः पिता निर्धनस्य बालकस्य साहाय्यं करोति। 
= वह पिता निर्धन बालक का सहयोग करता है।

ओ३म्

463. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सः नूतनस्य कार्यालयस्य निर्माणं कारितवान् ।
= उसने नया कार्यालय बनवाया है।

कार्यालयस्य प्रवेशद्वारं बहु विशालम् अस्ति। 
= कार्यालय का प्रवेशद्वार बहुत विशाल है।

द्वारे पादरक्षाः अवतारयितुं स्थानम् अस्ति।
= दरवाजे पर चप्पलें उतारने का स्थान है।

उभयतः अनेके पादपाः सन्ति। 
= दोनों तरफ अनेक पौधे हैं।

सर्वप्रथमं स्वागतकक्षः अस्ति।
= सबसे पहले स्वागत कक्ष है।

एका युवतिः सर्वेषां स्वागतं करोति। 
= एक युवती सबका स्वागत करती है।

एकः सेवकः सर्वान् आगन्तुकान् जलं पाययति। 
= एक सेवक सभी आने वालों को पानी पिलाता है।

तस्मात् अग्रे कर्मकराणां प्रकोष्ठाः सन्ति। 
= उसके आगे कर्मचारियों के कमरे हैं।

अनन्तरं प्रबंधकस्य प्रकोष्ठः अस्ति। 
= उसके बाद मैनेजर का कमरा है।

सर्वेषां कृते सुखासन्दानि सन्ति। 
= सबके लिये रिवोल्विंग चेयर है।

तस्य कार्यालये सर्वे नम्रभावेन वार्तालापं कुर्वन्ति। 
= उसके कार्यालय में सभी नम्रभाव से बात करते हैं ।

ओ३म्

464. संस्कृत वाक्याभ्यासः

एकसहस्र पञ्चशतं सप्तवंशतिःतमे वर्षे गुरुनानकस्य जन्म अभवत्
= सम्वत पन्द्रह सौ सत्ताईस में गुरुनानक जी का जन्म हुआ।

कार्तिक मासस्य पूर्णिमा तिथिः आसीत्।
= कार्तिक महीने की पूर्णिमा तिथि थी।

गुरुनानकस्य जन्म तलवंडी नगरे अभवत्। 
= गुरुनानक जी का जन्म तलवंडी नगर में हुआ।

अधुना तद् नगरं नानकाना साहिब नाम्ना सुप्रसिद्धम् अस्ति।
= अब वह नगर नानकाना साहिब के नाम से प्रसिद्ध है।

सः गुरुग्रन्थं लिखितवान्। 
= उन्होंने गुरुग्रंथ लिखा।

करतारपुरस्य स्थापनाम् अपि गुरुनानकः एव कृतवान्। 
= करतारपुर की स्थापना भी गुरुनानक जी ने ही की ।।

अधुना करतारपुरं पाकिस्थाने अस्ति।
= अब करतारपुर पाकिस्तान में है।

सिक्ख-सम्प्रदायस्य स्थापना अपि गुरुनानकेन कृता।
= सिक्ख सम्प्रदाय की स्थापना भी गुरुनानक जी ने की।

सिक्खानां देवालयं वयं गुरुद्वारा नाम्ना जानीमः ।
= सिक्खों के देवालय को हम गुरुद्वारा नाम से जानते हैं।

अद्य गुरुद्वाराषु सर्वे सिक्ख जनाः प्रार्थनां करिष्यन्ति। 
= आज गुरुद्वारों में सभी सिख लोग प्रार्थना करेंगे।

अनन्तरं ते प्रसादवितरणं करिष्यन्ति।
= बाद में वे प्रसाद बाँटेंगे।

सर्वेभ्यः गुरुनानकजयन्तेः शुभकामनाः ।

ओ३म्

465. संस्कृत वाक्याभ्यासः

पतिः – त्वं गच्छ , अहम् आगच्छामि।
= तुम चलो , मैं आता हूँ।

पत्नी – कुत्र गच्छति भवान् ? 
= आप कहाँ जा रहे हैं ?

पतिः – फलानि आनेतुम् गच्छामि। 
= फल लाने जा रहा हूँ।

पत्नी – शीघ्रम् आगच्छतु … 
= जल्दी आईयेगा ….

हरिद्रालेपनं समये एव आरप्स्यते।
= हल्दी लेपन समय पर शुरू होगा।

पतिः – त्वं हरिद्रालेपनम् आरभस्व ।
= तुम हल्दी लेपन शुरू करो।

– अहं शीघ्रमेव आगमिष्यामि।
= मैं जल्दी से आऊँगा।

पत्नी – फलानि न आवश्यकानि। 
= फल आवश्यक नहीं हैं।

पतिः – न ,कस्यापि गृहं रिक्तहस्तः तु नैव गन्तव्यम् । 
= नहीं, किसी के भी घर खाली हाथ तो नहीं जाना चाहिये।

– अद्य तु तस्य गृहे माङ्गलिकं कार्यं भवति। 
= आज तो उसके घर मांगलिक काज हो रहा है।

ओ३म्

466. संस्कृत वाक्याभ्यासः

“मैंगते चंग्नेइजैंग मैरी कॉम” अस्माकं भारतीया भगिनी अस्ति।
= मैंगते चंग्नेइजैंग मैरी कॉम हमारी भारतीय बहन है।

तां सर्वे जनाः “मैरी कॉम” नाम्ना जानन्ति।
= उसे सभी “मैरी कॉम” नाम से जानते हैं।

सा मुष्टिमल्लक्रीडायां विश्वविजयिनी अभवत्।
= वह मुक्केबाजी के खेल में विश्वविजेता बनीं।

मुष्टिमल्लक्रीडायां सा षष्ठमवारं विश्वविजयिनी अभवत्।
= मुक्केबाजी में वह छठी बार विश्वविजेता बनी है।

मैरी कॉमस्य जन्म मणिपुर राज्ये अभवत्। 
= मैरी कॉम का जन्म मणिपुर राज्य में हुआ था।

सा राज्यसभायाः सदस्या अपि अस्ति।
= वह राज्यसभा की सदस्य भी है।

सा अर्जुनपुरस्कारेण सम्मानिता जाता ।
= वह अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित हुई हैं।

ओ३म्

467. संस्कृत वाक्याभ्यासः

संस्कृतं प्रति बहूनां रुचिः अवर्धत। 
= संस्कृत के प्रति बहुतों की रुचि बढ़ी है।

न केवलं ज्येष्ठाः अपितु युवकाः / युवत्यः अपि संस्कृतं पठन्ति। 
= न केवल बड़े अपितु युवक / युवतियाँ भी संस्कृत पढ़ते हैं।

संस्कृते वदन्ति अपि। 
= संस्कृत में बोलते भी हैं।

संस्कृत गीतं श्रृण्वन्ति / गायन्ति च।
= संस्कृत गीत सुनते और गाते हैं।

यदा संगोष्ठिः भवति तदा युवकाः / युवत्यः आगच्छन्ति।
= जब बैठक होती है तब युवक / युवतियाँ आते हैं।

अनेके जनाः “संस्कृतवार्तावलीम् अपि पश्यन्ति।
= अनेक लोग “संस्कृतवार्तावली” भी देखते हैं।

अनेके परिवाराः सन्ति यस्य सर्वेजनाः संस्कृतं जानन्ति , वदन्ति च।
= अनेक परिवार हैं जिसके सभी लोग संस्कृत जानते हैं और बोलते हैं।

तादृशानां परिवाराणां संख्या अवर्धत।
= ऐसे परिवारों की संख्या बढ़ी है।

अनेके प्रतिदिनम् अभ्यासं कुर्वन्ति।
= अनेक लोग प्रतिदिन अभ्यास करते हैं।

तेषाम् अनुकरणम् अन्ये जनाः कुर्वन्ति।
= उनका अनुकरण अन्य लोग करते हैं।

ओ३म्

468. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सः बहु कुपितः जातः ।
= वह बहुत गुस्सा हो गया।

यदा सः कोपायमानः जातः तदा तस्य नेत्रे रक्तवर्णीये जाते।
= जब वह क्रुद्ध हुआ तब उसकी दोनों आँखें लाल हो गईं।

तस्य सम्पूर्णं शरीरं कम्पते स्म। 
= उसका पूरा शरीर काँप रहा था।

क्रुध्यमानः सः अनर्गलं प्रलापं करोति स्म। 
= वह क्रुद्ध होकर अनर्गल बोल रहा था।

तस्य श्वासप्रश्वासः अपि वेगेन चलति।
= उसकी श्वांस भी तेज चल रही है।

तदानीम् एका माता आगच्छति।
= तभी एक माताजी आती हैं।

विरम … वत्स ! विरम ।
= रुको … बेटा ! रुको।

अधिकं क्रोधं मा कुरु। 
= अधिक क्रोध मत करो।

अत्र उपविश … 
= यहाँ बैठो …

नेत्रे निमीलय … 
= आँखें बन्द करो …

शान्तः भव …. 
= शान्त हो जाओ …

क्रोधेन रक्तचापः वर्धते।
= क्रोध से ब्लडप्रेशर बढ़ता है।

अतः क्रोधः न करणीयः।
= इसलिये क्रोध नहीं करना चाहिये।

ओ३म्

469. संस्कृत वाक्याभ्यासः

भवान् कं कम् आहूतवान् ? 
= आपने किस किसको बुलाया है ?

भवती कं कम् आहूतवती ? 
= आपने किस किसको बुलाया है ?

अहम् अमितम् ( अमितभ्रातरम् ) आहूतवान् ।

दुष्यंतम् आहूतवान् / आहूतवती।

जिगरम् आहूतवान् / आहूतवती।

हिमांशुम् आहूतवान् / आहूतवती।

जगदीशम् आहूतवान् / आहूतवती।

मेहुलम् आहूतवान् / आहूतवती।

संध्याम् (संध्याभगिनीम् ) आहूतवान् / आहूतवती।

ममताम् आहूतवान् / आहूतवती।

रागिणीम् आहूतवान् / आहूतवती।

ज्योत्स्नाम् आहूतवान् / आहूतवती।

शैलजाम् आहूतवान् / आहूतवती।

अधुना कः अवशिष्टः / का अवशिष्टा ? 
= अब कौन रह गया / कौन रह गई ?

नामानि लिखन्तु।

ओ३म्

469. संस्कृत वाक्याभ्यासः

कश्मीरे शारदापीठम् अस्ति। 
= कश्मीर में शारदा पीठ है।

तत्र सरस्वतीमातुः मन्दिरम् अस्ति।
= वहाँ माँ सरस्वती का मंदिर है।

पूर्वं तत्र अनेकानि वैदिक-गुरुकुलानि आसन् ।
= पहले वहाँ अनेक वेदिक गुरुकुल थे।

अधुना तद् पीठम् पाकिस्थानाधिकृते विस्तारे अस्ति।
= अब वो पीठ पाकिस्तान अधिकृत विस्तार में है।

शारदापीठं नीलमनद्याः (किशनगङ्गायाः) तटे अस्ति। 
= शारदापीठ नीलम नदी ( किशनगङ्गा) के तट पर है।

अधुना तत्र शारदापीठस्य भग्नावशेषाः दृश्यन्ते। 
= अब वहाँ शारदापीठ के भग्नावशेष दिखते हैं।

काश्मीरी पण्डिताः तत्र निवसन्ति स्म। 
= काश्मीरी पण्डित वहाँ रहते थे।

ते तत्र वेदपाठं कुर्वन्ति स्म। 
= वे वहाँ वेदपाठ करते थे।

ते शास्त्रार्थम् अपि कुर्वन्ति स्म।
= वे शास्त्रार्थ भी करते थे।

पुनः तत्र वैदिकं वातावरणं भवेत् इति वयं कामयामहे। 
= पुनः वहाँ वैदिक वातावरण हो यही हम कामना करते हैं।

ओ३म्

470. संस्कृत वाक्याभ्यासः

नासिकस्य समीपे एव हरिहर-दुर्गः अस्ति।
= नासिक के पास में ही हरिहर किला है।

तस्य अपरं नाम “हर्षगढ़” अपि अस्ति।
= उसका दूसरा नाम हर्षगढ़ भी है।

पर्वतोपरि अस्ति हरिहरदुर्गः।
= पर्वत के ऊपर हरिहर किला है।

पर्यटकाः , अनुधावकाः च पर्वतारोहणं कुर्वन्ति।
= पर्यटक और ट्रैकर पर्वतारोहण करते हैं।

अत्र ऋजुः आरोहणं करणीयं भवति। 
= यहाँ सीधी चढ़ाई करनी होती है।

अतएव हिमालयात् अपि हर्षगढ़स्य आरोहणं क्लिष्टम् अस्ति।
= अतः हर्षगढ़ का आरोहण हिमालय से भी अधिक कष्टकारी है।

आरोहणार्थं सोपानानि सन्ति। 
= चढ़ने के लिये सीढियाँ हैं।

पर्वतस्य उपरि गणेशमन्दिरम् अस्ति।
= पहाड़ के ऊपर गणेश मंदिर है।

एकं विशालं यज्ञकुण्डम् अस्ति।
= एक विशाल यज्ञकुंड है।

एकः जलाशयः अपि अस्ति।
= एक जलाशय भी है।

अवतरणसमये ध्यानं देयं भवति।
= उतरते समय ध्यान देना होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *