००२१ सरल संस्कृत अनुवाद अभ्यास पाठ ३२१ से ३५०

ओ३म्
३२१. संस्कृत वाक्याभ्यासः

अद्य नूतनं स्यूतम् आनीतवान्।
= आज नया थैला लाया।
आपणात् किमपि क्रेष्यामि तस्मिन् स्यूते एव आनेष्यामि।
= बाजार से कुछ भी खरीदूँगा उस थैले में ही लाऊँगा।
सः स्यूतः वस्त्रेण निर्मितम् अस्ति।
= वो थैला कपड़े से बना है।
कल्पकस्य नास्ति।
= प्लास्टिक का नहीं है।
अधुना कल्पकस्य स्यूतस्य उपयोगः समापनीयः।
= अब प्लास्टिक के थैले का उपयोग बंद करना है
सर्वे तथैव कुर्वन्तु।
= सभी वैसा ही करें।
कल्पकस्य स्यूतं बहु प्रतनु भवति।
= प्लास्टिक की थैली बहुत पतली होती है।
यदा क्षिपामः तदा उड्डयते
= जब फेंकते हैं तब उड़ती है।
स्यूते खाद्यसामग्री भवति चेत् धेनुः स्यूतेन सह सर्वं खादति।
= थैली में खाद्यसामग्री होती है तो गाय थैली के साथ खाती है।
पर्यावरणस्य अपि बहु हानिः भवति।
= पर्यावरण की भी बहुत हानि होती है।

ओ३म्
३२२. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सः यानचालकः ।
सः भारवाहनस्य चालकः।
भारवाहने श्रमिकाः भारं आरोहयन्ति।
याने यदा भारः आरुह्यते तदा चालकः रज्ज्वा बध्नाति।
एकवारं यानस्य निरीक्षणं करोति।
याने ईंधनस्य अपि निरीक्षणं करोति।
अनन्तरं याने उपविशति।
सः यानचालकः कदापि मद्यपानं न करोति।
सः यातायातस्य नियमान् पालयति।

ओ३म्
३२३. संस्कृत वाक्याभ्यासः

मम भ्रात्रीयः मुम्बई-नगरे निवसति।
= मेरा भतीजा मुंबई में रहता है।
सः रेलयानेन गच्छति स्म।
= वह रेल से जा रहा था।
सः समाचारं प्राप्तवान्।
= उसने समाचार पाया।
अंधेरी उपनगरे सेतु: पतितः।
= अंधेरी में पुल गिर गया है।
सः बोरीवली स्थानके अवतरितवान्।
= वह बोरीवली स्टेशन पर उतर गया।
अग्रे सः रक्षायानेन गतवान्।
= आगे वह रिक्शा से गया।
सः सुरक्षितः अस्ति।
= वह सुरक्षित है।
तेन सह चलभाषेण वार्तां कृतवान् अहम्।
= उसके साथ मैंने मोबाइल से बात की
महानगरे तु विविधाः घटनाः भवन्ति एव।
= महानगर में विविध घटनाएँ होती ही हैं।
तथापि जनाः तु सर्वदा कार्यरताः भवन्ति।
= फिर भी लोग हमेशा कार्यरत रहते हैं ।

ओ३म्
३२४. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सः शिशुः मातुः अङ्के अस्ति।
= वह बच्चा माँ की गोद में है।
मां वारं वारं पश्यति।
= मुझे बार बार देखता है।
मातुः शाटिकायां मुखं गोपायति।
= माँ की साड़ी में मुख छिपाता है।
पुनः शाटिकातः मुखं बहिः निष्कासयति।
= पुनः साड़ी से मुख बाहर निकालता है।
सः शाटिकातः मां लोकयति ।
= वह साड़ी से मुझे झाँकता है।
अहं तं दृष्ट्वा हसामि।
= मैं उसे देखकर हँसता हूँ।
सः अपि हसति।
= वह भी हँसता है।
अहं मम हस्तम् अग्रे करोमि तदा मुखं गोपायति।
= मैं हाथ आगे करता हूँ तब मुख छुपा लेता है।
लोकयाने तेनैव सह क्रीडायां समयः गतः।
= बस में उसके साथ खेल में समय गया
शिशोः निर्मलं हास्यं सर्वेभ्यः रोचते।
= बच्चे का निर्मल हास्य सबको पसंद आता है।
मनसि आगच्छति , अहमपि शिशुः भवेयम्
= मन में आता है मैं भी बच्चा बन जाऊँ।

ओ३म्
३२५. संस्कृत वाक्याभ्यासः

तत्र वर्षा भवति ।
अत्र न भवति ।
तत्र सर्वं जलमग्नं जातम् ।
तत्र सर्वम् आर्द्रं जातम् ।
अत्र तु सूर्यः तपति।
वायुः बहु वेगेन चलति।
मेघाः वायोः कारणात् डयन्ते।
नखत्राणा नगरे वृष्टियज्ञः भविष्यति।
दश दिनानि पर्यन्तं वृष्टियज्ञः भविष्यति।
कदाचित् वर्षा भवेत् ।

ओ३म्
३२६. संस्कृत वाक्याभ्यासः

कथञ्चिद् अपि तत्र प्रापणीयम् अस्ति।
= कैसे भी कर के वहाँ पहुँचना है।
मार्गे बहवः विघ्नाः सन्ति।
= रास्ते में बहुत सारे विघ्न हैं।
कण्टकपूर्णः मार्गः अस्ति।
= कँटीला रास्ता है।
गहनं वनम् अस्ति।
= घना वन है।
मार्गे हिंसकाः पशवः अपि मिलन्ति।
= रास्ते में हिंसक पशु भी मिलते हैं।
मार्गे अनेके पर्वताः अपि सन्ति।
= रास्ते में अनेक पर्वत भी हैं।
अधुना तु रात्रिकालः अस्ति।
= अभी तो रात का समय है।
बहु अन्धकारः अपि अस्ति।
= बहुत अँधेरा है।
ओह , मार्गे वर्षा अपि भवति।
= ओह , मार्ग में वर्षा भी हो रही है।
तथापि अहं प्राप्स्यामि।
= फिर भी मैं पहुँच जाऊँगा।
मम दृढ़निश्चयः , अहं शत्रून् मारयित्वा आगमिष्यामि ।
= मेरा दृढनिश्चय है मैं शत्रुओं को मार के आऊँगा।
– इत्थं प्रायः सर्वे वीराः सैनिकाः चिन्त्यन्ति।
= ऐसा प्रायः सभी वीर सैनिक सोचते हैं।

ओ३म्
३२७. संस्कृत वाक्याभ्यासः

गुहायां बालकाः सन्ति।
= गुफा में बच्चे हैं ।
कति बालकाः सन्ति ?
= कितने बच्चे हैं ?
गुहायाम् एकादश बालकाः सन्ति।
=गुफा में ग्यारह बच्चे हैं ।
ते सर्वे पादकन्दुक-क्रीडकाः सन्ति।
= वे सभी फुटबॉल खिलाड़ी हैं।
ते खेलन्तः गुहां गतवन्तः।
= वे खेलते खेलते गुफा में चले गए।
ते खेलन्तः गुहां प्रविष्टवन्तः।
= वे खेलते खेलते गुफा में प्रवेश कर गए।
वर्षायाः कारणात् गुहा जलमग्ना जाता।
= वर्षा के कारण गुफा जल से भर गई।
गुहा बहु दीर्घा अस्ति।
= गुफा बहुत लंबी है।
गुहा बहु गहना अस्ति।
= गुफा बहुत गहरी है।
गुहायाः मार्गः बहु संवृतः अस्ति।
= गुफा का मार्ग बहुत संकरा है।
बालकानां मोचनाय सर्वे प्रयत्नं कुर्वन्ति।
= बच्चों को छुड़ाने के लिये सभी प्रयत्न कर रहे हैं।
सर्वे प्रयत्नरताः सन्ति।

ओ३म्
३२८. संस्कृत वाक्याभ्यासः

* कः समयः ?
** सपाद अष्टवादनम् ।
* स्नानं ध्यानं च कृतवान् वा ?
** आम् । सप्तवादने एव सर्वं कृतवान्।
* अधुना किं करोति ?
** अधुना पुस्तकं पठामि।
* अल्पाहारं कदा करिष्यति ?
** पादोन नववादने ।
* किमर्थं पादोन नववादने ?
** सार्ध अष्टवादने दुग्धम् आगमिष्यति।
* तर्हि दुग्धं पास्यति वा चायम् ?
** दुग्धं पास्यामि।
* अल्पाहारे किम् अस्ति ?
** अल्पाहारे यवागू: अस्ति।
( यवागू: = दलिया )
* अहमपि आगमिष्यामि।
** आगच्छतु , स्वागतम् ।

ओ३म्
३२९. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सः बहु हासयति।
= वह बहुत हँसाता है।
सः हास्यकणिकाः वदति।
= वह चुटकुले बोलता है।
सः अभिनयं कृत्वा हास्यकणिकाः वदति।
= वह अभिनय करके चुटकुले बोलता है।
यदा सः हास्यकणिकां वदति ….
= जब वह चुटकुला बोलता है …
…. तदा तस्य मुखं बहु गंभीरं भवति।
= …. तब उसका मुख बहुत गंभीर रहता है।
हास्यकणिका समाप्ता भवति तदा सर्वे हसन्ति।
= चुटकुला समाप्त होता है तब सभी हँसते हैं।
सर्वान् हसतः दृष्ट्वा सः अपि हसति।
= सबको हँसता हुआ देखकर वह भी हँसता है।
तस्य हास्यम् अपि बहु विशिष्टम् अस्ति।
= उसकी हँसी भी बहुत विशिष्ट है।
तं हसन्तं दृष्ट्वा अपि सर्वे हसन्ति।
= उसको हँसता हुआ देखकर भी सभी हँसते हैं।
रात्रौ सः बहु हासितवान्।
= रात में उसने बहुत हँसाया।
सर्वे निद्रायाम् अपि हसन्ति स्म।
= सभी नींद में भी हँस रहे थे।

ओ३म्
३३०. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सः अक्षोटं खादति।
= वह अखरोट खाता है।
तस्य भगिनी अपि खादति।
= उसकी बहन भी खाती है।
सः अक्षोटं भिंदति ।
= वह अखरोट तोड़ता है।
अक्षोटस्य त्वक् भिन्नं करोति।
= अखरोट का छिलका अलग करता है।
भगिन्यै अक्षोटस्य बीजं ददाति।
= बहन को अखरोट का बीज देता है।
एकवारं सः बीजं खादति ।
= एकबार वह बीज खाता है।
द्वितीयवारं भगिनी खादति।
= दूसरी बार बहन खाती है।
भगिनी वदति।
= बहन बोलती है
बहु स्वादिष्ठम् अस्ति।
= बहुत स्वादिष्ट है।
भ्राता वदति।
= भाई बोलता है
आम् , एतस्य त्वक् बहु दृढ़म् अस्ति ।
= हाँ , इसका छिलका बहुत कड़क है।
भञ्जने बहु कष्टं भवति।
= तोड़ने में कष्ट होता है।
भगिनी – ददातु भ्रातः ! अहं भिनद्मि ।
= दीजिये भैया ! मैं तोड़ती हूँ।
भ्राता – अधुना तु पञ्च एव अवशिष्टाः ।
= अब तो पाँच ही रह गए।

ओ३म्
३३१. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सः आशीषः
सः मम क्षेत्रीयः प्रबंधकः अस्ति।
रात्रौ अपि मां न त्यजति।
श्वस्तनं कार्यं सूचयति।
सः दूरवाण्या वदति।
वयं श्वः निरोणा ग्रामं गमिष्यामः ।
पशु-चिकित्सकः अपि आवाभ्यां सह चलिष्यति।
निरोणा ग्रामे महिष्यः सन्ति।
तेषां बीमा करणीयम् अस्ति।
पशु-चिकित्सकः महिषीणां स्वास्थ्य परीक्षणं करिष्यति ।
वित्तकोषस्य अधिकारी पशुपालकेभ्यः ऋणं दास्यति।
अस्तु तर्हि अध निरोणां गमिष्यामि।

ओ३म्
३३२. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सा मत्तः असूयति ।
= वह मुझसे ईर्ष्या करती है ।
सः मत्तः ईर्ष्यति ।
= वह मुझसे ईर्ष्या करता है ।
किमर्थम् ?
= क्यों ?
सा स्थूला अस्ति ।
= वह मोटी है ।
अहं कृशाङ्गी अस्मि।
= मैं पतली हूँ।
सः स्थूलः अस्ति।
= वह मोटा है।
अहं कृशाङ्गः अस्मि।
= मैं पतला हूँ।
अहं वेगेन धावामि।
= मैं तेज दौड़ता / दौड़ती हूँ।
सा / सः मन्दं मन्दं चलति।
= वह धीरे धीरे चलती / चलता है।
अतएव सः / सा ईर्ष्यति।
= इसलिये वह ईर्ष्या करता / करती है।
( एतानि केवलं वाक्यानि एव।
स्थूलाः अपि प्रसन्नाः भवन्तु।
कृशा: अपि प्रसन्नाः भवन्तु। )

ओ३म्
३३३. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सः सर्वान् पालयति।
= वह सबको पालता है।
अतएव सः सर्वपालकः ।
= अतः वह सबका पालक है।
सः सर्वान् पोषयति।
= वह सबका पोषण करता है।
अतएव सः सर्वपोषकः ।
= अतः वह सबका पोषकः है।
सः सर्वान् सुखेन भरति।
= वह सबको सुख से पालता है।
अतएव सः सर्वेषां भर्ता अस्ति।
= अतः वह सबका भर्ता है।
सः सर्वान् बिभर्ति ।
= वह सबको पालता है।
सः सर्वान् धारयति।
= वह सबको धारण करता है ।
अतएव सः सर्वेषां धर्ता अस्ति।
= अतः वह सबका धर्ता है।
ईश्वरः सर्वं कर्तुं शक्नोति।
= ईश्वर सब कुछ कर सकता है।
अतएव सः सर्वशक्तिमान् अस्ति।
= अतः वह सर्वशक्तिमान है।

ओ३म्
३३४. संस्कृत वाक्याभ्यासः

जीवनम् अपि एका यात्रा अस्ति।
= जीवन भी एक यात्रा है।
यस्य रथं वयं नयामः।
= जिसका रथ हम ले जाते हैं।
यस्य रथं वयं वहामः ।
= जिसका रथ हम ढोते हैं।
जीवनरथस्य चालकः तु परमेश्वरः अस्ति।
= जीवनरथ के चालक तो परमेश्वर हैं।
अस्माकं रथे सर्वदा बलं भवेत्।
= हमारे रथ में सदा बल हो।
रथे सर्वदा भद्रं चिन्तनं भवेत्।
= रथ में सदा भद्र चिन्तन हो।
अस्माकं दिनचर्या अपि सुभद्रा भवेत्।
= हमारी दिनचर्या भी अच्छी हो।
सर्वदा सुखेन जीवनरथम् अग्रे नयेम।
= हमेशा सुख से जीवनरथ को आगे ले जाएँ।
ईश्वरस्य अनुकम्पा सर्वदा सर्वेषाम् उपरि भवेत्।
= ईश्वर की अनुकम्पा सदा सबके ऊपर रहे।
रथयात्रा पर्वणः , आषाढ़-द्वितीया पर्वणः सर्वेभ्यः मङ्गलकामनाः।

ओ३म्
३३५. संस्कृत वाक्याभ्यासः

न ज्ञायते अद्य शब्दाः कुत्र गताः।
= नहीं समझ आ रहा है कि आज शब्द कहाँ गए।
शब्दाः कदाचित् अवकाशे स्युः ।
= शब्द शायद छुट्टी पर होंगे।
लिखामि चेत् दोषः भवति।
= लिखता हूँ तो भूल होती है
अद्यतनानि वाक्यानि भवन्तः एव पठन्तु ।
= आज के वाक्य आप ही पढ़िये।
दोषाः सन्ति चेत् वदन्तु।
= दोष हैं तो बताईये।
अहं न लिखति।
सा लिखामि।
मुकेशः दुग्धं पिबन्ति।
वृन्दा अजमेरे गच्छति।
शिक्षिका संस्कृतं पाठितवान्।
अमितः पुरस्कारं प्राप्तवती ।
बालकः कन्दुकेन क्रीडन्ति।
बालिका ….. करोति ।
बालिका ….. पिबति ।
बालिका ….. पश्यति ।
बालिका ….. ददाति ।
बालिका ….. पठति ।
बालिका ….. गच्छति ।
बालिका ….. खादति ।
बालिका ….. श्रृणोति ।

ओ३म्
३३६. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सा क्षत्रियबाला अस्ति
= वह क्षत्रिय बच्ची है।
सा हस्ते खड्गम् उन्नयति। ( उद्गृह्णाति )
= वह हाथ में तलवार उठाती है।
सा खड्गं चालयति।
= वह तलवार चलाती है।
सा वेगेन खड्गं चालयति।
= वह वेग से तलवार चलाती है।
तस्याः खड्गचालनं दृष्ट्वा जनाः बिभ्यति।
= उसके तलवार चालन को देखकर लोग डरते हैं।
सा खड्गात् न बिभेति।
= वह तलवार से नहीं डरती है।
खड्गचालनात् न बिभेति।
= तलवार चलाने से नहीं डरती है।
जनाः करताड़नं कुर्वन्ति
= लोग ताली बजाते हैं।
सा अधुना द्वयोः हस्तयोः खड्गौ गृह्णाति।
= वह अब दोनों हाथों में तलवार लेती है।
द्वौ खड्गौ घूर्णयति
= दोनों तलवारें घुमाती है।
उपविश्य घूर्णयति , उत्थाय घूर्णयति।
= बैठकर घुमाती है , खड़ी होकर घुमाती है ।
आत्मरक्षार्थं युवतीभिः शस्त्रविद्या अधीतव्या।
= आत्मरक्षा के लिये युवतियों को शस्त्रविद्या सीखनी चाहिये।

ओ३म्
३३७. संस्कृत वाक्याभ्यासः

पिता प्राणायामं करोति।
पितरं दृष्ट्वा पुत्रः अपि प्राणायामं करोति।
पितरं दृष्ट्वा पुत्री अपि प्राणायामं करोति।
माता भजनं गायति।
मातुः भजनं श्रुत्वा पुत्रः अपि गायति।
मातुः भजनं श्रुत्वा पुत्री अपि गायति।
माता-पितरौ यज्ञं कुरुतः।
मातरं पितरं दृष्ट्वा पुत्रः पुत्री च यज्ञं कुरुतः ।
माता गायत्रीमन्त्रं जपित्वा भोजनं पचति।
मातुः अनुकरणं सन्ततिः करोति।
पिता भोजनात् पूर्वं भोजनमन्त्रं वदति।
पिता भूमौ उपविश्य भोजनं करोति।
यथा माता-पितरौ कुरुतः तथैव बालकाः कुर्वन्ति।
बालकेभ्यः मातुः पितुः व्यवहारः रोचते।

ओ३म्
३३८. संस्कृत वाक्याभ्यासः

हिमा कृषकस्य पुत्री अस्ति।
तस्याः पिता प्रतिदिनं क्षेत्रं गच्छति।
हिमा प्रातः विद्यालयं गच्छति।
मध्याह्ने पित्रे भोजनं दातुं सा अपि क्षेत्रं गच्छति।
पित्रा सह सा अपि भोजनं करोति।
सा भोजनपात्राणि नीत्वा कुटीरम् आगच्छति।
गृहम् आगत्य मातुः साहाय्यं करोति।
सायंकाले सा धावति।
बहु वेगेन धावति।
प्रातः पञ्चवादने उत्थाय पुनः धावति।
हिमायाः पार्श्वे साधनानि न सन्ति।
तथापि सा अखिलविश्व-धावनस्पर्धायां स्वर्णपदकं प्राप्तवती।
हिमायै कोटिशः अभिनन्दनानि ।

ओ३म्
३३९. संस्कृत वाक्याभ्यासः

दानेन धनं वर्धते ।
= दान से धन बढ़ता है।
दानेन यशः वर्धते ।
= दान से यश बढ़ता है।
बाल्यात् प्रभृतिः विकासः इदम् उपदेशं श्रृणोति स्म।
= बचपन से विकास यह उपदेश सुनता था।
चतुर्भ्यः वर्षेभ्यः पूर्वं विकासः व्यवसायम् आरब्धवान् ।
= चार वर्ष पहले विकास ने व्यवसाय प्रारम्भ किया।
विकासः अर्जितात् धनात् प्रतिदिनं दानं ददाति।
= विकास कमाए हुए धन से प्रतिदिन दान देता है।
सः निर्धनेभ्यः छात्रेभ्यः धनं ददाति।
= वह निर्धन छात्रों को धन देता है।
विकासः रुग्णेभ्यः धनं ददाति।
= विकास रोगियों को धन देता है।
गोशालायै दानं ददाति।
= गौशाला को दान देता है।
दानेन विकासस्य व्यवसायः विकसति।
= दान से विकास का व्यवसाय विकसित होता है।
विकासः बहु सुखम् अनुभवति।
= विकास बहुत सुख अनुभव करता है।

ओ३म्
३४०. संस्कृत वाक्याभ्यासः

किमपि कर्म फलविहीनं न भवति।
= कोई भी कर्म फल बिना का नहीं होता है।
यद् किमपि वयं कुर्मः तस्य फलं तु मिलति एव।
= जो भी हम करते हैं उसका फल तो मिलता ही है।
कर्म विना कोsपि न जीवति।
= कर्म के बिना कोई नहीं जीता है।
कर्म विना कोsपि जीवितुं न शक्नोति।
= कर्म के बिना कोई जी नहीं सकता है।
अनुचितस्य कर्मणः फलम् अनुचितमेव भवति।
= अनुचित कर्म का फल अनुचित ही होता है।
उचितस्य कर्मणः फलम् उचितमेव भवति।
= उचित कर्म का फल उचित ही होता है।
उचितम् अनुचितं विचिन्त्य एव कर्म करणीयम् ।
= उचित अनुचित का विचार कर के ही कर्म करना चाहिये।
अस्माकं कर्मणा अन्ये अपि लाभं प्राप्नुवन्ति ।
= हमारे कर्म से अन्यों को भी लाभ होता है।
संस्कृतप्रचारकः अन्येषां लाभाय एव संस्कृतं पाठयति।
= संस्कृत प्रचारक दूसरों के लाभ के लिये ही संस्कृत पढ़ाता है।
योगप्रचारकः योगं कारयति जनाः लाभान्विताः भवन्ति।
= योगप्रचारक योग कराता है लोग लाभान्वित होते हैं।
चिकित्सकः चिकित्सां करोति , रुग्णः स्वस्थः भवति।
= चिकित्सक चिकित्सा करता है रोगी स्वस्थ होता है।
पुण्यकर्मणि ये रताः प्राप्स्यन्ति पुण्यं फलम् ।
= पुण्य कर्म में जो रत हैं वे पुण्य फल ही पाएँगे।

ओ३म्
३४१. संस्कृत वाक्याभ्यासः

किमपि कर्म फलविहीनं न भवति।
= कोई भी कर्म फल बिना का नहीं होता है।
यद् किमपि वयं कुर्मः तस्य फलं तु मिलति एव।
= जो भी हम करते हैं उसका फल तो मिलता ही है।
कर्म विना कोsपि न जीवति।
= कर्म के बिना कोई नहीं जीता है।
कर्म विना कोsपि जीवितुं न शक्नोति।
= कर्म के बिना कोई जी नहीं सकता है।
अनुचितस्य कर्मणः फलम् अनुचितमेव भवति।
= अनुचित कर्म का फल अनुचित ही होता है।
उचितस्य कर्मणः फलम् उचितमेव भवति।
= उचित कर्म का फल उचित ही होता है।
उचितम् अनुचितं विचिन्त्य एव कर्म करणीयम् ।
= उचित अनुचित का विचार कर के ही कर्म करना चाहिये।
अस्माकं कर्मणा अन्ये अपि लाभं प्राप्नुवन्ति ।
= हमारे कर्म से अन्यों को भी लाभ होता है।
संस्कृतप्रचारकः अन्येषां लाभाय एव संस्कृतं पाठयति।
= संस्कृत प्रचारक दूसरों के लाभ के लिये ही संस्कृत पढ़ाता है।
योगप्रचारकः योगं कारयति जनाः लाभान्विताः भवन्ति।
= योगप्रचारक योग कराता है लोग लाभान्वित होते हैं।
चिकित्सकः चिकित्सां करोति , रुग्णः स्वस्थः भवति।
= चिकित्सक चिकित्सा करता है रोगी स्वस्थ होता है।
पुण्यकर्मणि ये रताः प्राप्स्यन्ति पुण्यं फलम् ।
= पुण्य कर्म में जो रत हैं वे पुण्य फल ही पाएँगे।

ओ३म्
३४२. संस्कृत वाक्याभ्यासः

वीथ्यां जलम् आगतम्
= गली में पानी आ गया।
कुतः आगतम् ?
= कहाँ से आया ?
पश्यामि ।
= देखता हूँ।
ओह …. दुर्गन्धः आगच्छति।
= ओह … दुर्गन्ध आ रही है।
एतद् जलं नास्ति।
= ये पानी नहीं है।
मलम् अस्ति।
= मल है।
वीथ्याः मलनालात् मलिनं जलं बहिः आगच्छति।
= गली की गटर लाइन से गंदा पानी बाहर आ रहा है।
मलकोषः पूरितः जातः।
= गटर भर गया है।
वीथ्यां मलिनं जलं प्रवहति तर्हि जनाः कथं बहिः गमिष्यन्ति।
= गली में गंदा पानी बह रहा है तो लोग बाहर कैसे जाएँगे।
नगरसेवासदनं गच्छामि ….
= नगर सेवा सदन जाता हूँ …
निवेदयिष्यामि ….
= निवेदन करूँगा ….

ओ३म्
३४३. संस्कृत वाक्याभ्यासः

बहु विशालं सदनम् अस्ति।
= बहुत विशाल सदन है।
सदनस्य द्वारम् अपि बहु विशालम्
= सदन का द्वार भी बहुत बड़ा है।
सदनं प्रविशामि अहम् ।
= सदन में मैं प्रवेश करता हूँ।
द्वारस्य अन्तः उद्यानम् अस्ति।
= दरवाजे के अंदर बगीचा है।
स्वागतकक्षः तु बहु विशालः अस्ति।
= स्वागत कक्ष तो बहुत विशाल है।
सदने अष्ट प्रकोष्ठा: सन्ति।
= सदन में आठ कमरे हैं
पाकशाला अपि बहु विशाला अस्ति।
= रसोई भी बहुत विशाल है।
कति जनाः निवसन्ति ?
= कितने लोग रहते हैं ?
एकः एव वृद्धः निवसति।
= एक वृद्ध ही रहता है।
अन्ये सर्वे कुत्र सन्ति ?
= अन्य सब कहाँ है ?
ज्येष्ठ: पुत्रः हाँगकाँग-देशे निवसति।
= बड़ा बेटा हाँगकाँग रहता है।
कनिष्ठ: पुत्रः जोहान्सबर्ग-नगरे निवसति।
=छोटा बेटा जोहान्सबर्ग में रहता है।
वृद्ध: कथं जीवति ?
= वृद्ध कैसे रहता है ?
पुत्रौ धनं प्रेषयतः ।
= दोनों पुत्र धन भेजते हैं।
सदने चत्वारः सेवकाः सन्ति।
= सदन में चार सेवक हैं ।
तिस्रः सेविकाः सन्ति ।
= तीन सेविकाएँ हैं ।
पुत्रयोः धनेन सेवकाः अपि लाभान्विताः भवन्ति।
= पुत्रों के धन से सेवक भी लाभान्वित होते हैं ।

ओ३म्
३४४. संस्कृत वाक्याभ्यासः

ह्यः रात्रौ सम्मान समारोहः अभवत्।
= कल रात सम्मान समारोह हुआ।
लवजी भ्रातुः सर्वे सम्मानं कृतवन्तः।
= लवजी भाई का सम्मान किया गया।
लवजी किं करोति ?
= लवजी क्या करता है ?
लवजी नववादने कार्यालयम् उद्घाटयति।
= लवजी नौ बजे कार्यालय खोलता है।
कार्यालये स्वच्छतां करोति।
= कार्यालय में स्वच्छता करता है।
कार्यालयस्य अवकरं बहिः क्षिपति।
= कार्यालय का कूड़ा बाहर फेंकता है।
कार्यालयस्य पात्राणि प्रक्षालयति।
= कार्यालय के पात्र धोता है।
घटे जलं पुरयति।
= घड़े में पानी भरता है।
पत्रालयतः पत्राणि आनयति।
= डाकघर से पत्र लाता है।
पत्राणि पञ्जिकायां ग्रथ्नाति।
= कागजातों को फाइल में संगृहीत करता है।
अतिथीन् जलं पाययति।
= अतिथियों को जल पिलाता है।
लवजी सर्वदा हसति।
= लवजी हमेशा हँसता है।
सायंकाले सः कार्यालयं पिधायति।
= शाम को वह कार्यालय बन्द करता है।
कार्यालयस्य कुञ्चिकां गृहे नयति।
= कार्यालय की चाभी घर ले जाता है।
लवजी कदापि न ग्लायति।
= लवजी कभी भी नहीं थकता है।

ओ३म्
३४५. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सिंगापुरतः कञ्चन-भगिन्याः दूरवाणी आसीत् ।
= सिंगापुर से कंचन बहन का फोन था।
* अहं कञ्चन , सिंगापुरतः ।
* कथम् अस्ति भवान् ?
* अहम् अधुना सिंगापुरे निवसामि ।
* मम पौत्रः अत्र अभियन्ता अस्ति।
* पौत्रवधू अपि पर्यटन-संस्थाने कार्यं करोति।
* सिंगापुरे लघुभारतम् अस्ति।
* तत्र वयं निवसामः।
* मम गृहस्य पार्श्वे आर्यसमाजः अपि अस्ति।
* अहं यज्ञार्थं तत्र गच्छामि।
* अत्र किमपि कष्टं नास्ति।
कञ्चन भगिनी सर्वम् एकसाकम् उक्तवती।
अहं तु मध्ये मध्ये ” आम् , उत्तमम् , शोभनम् , एवं वा ? ” इति उक्तवान् ।

ओ३म्
३४६. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सुधा – पश्य भ्रातरम् !
= देखो भैया को
विभा – कुत्र अस्ति सः ?
= कहाँ है वो ?
सुधा – रेलयानेन अवतरति ।
= रेल द्वारा उतर रहा है।
विभा – ” रेलयानात् अवतरति” तथा वद ।
= “रेल से उतर रहा है” ऐसे बोलो ।
सुधा – आम् अहम् अशुद्धम् उक्तवती।
= हाँ मैं अशुद्ध बोली ।
विभा – तर्हि शुद्धं किम् ?
= तो शुद्ध क्या है ?
सुधा – भ्राता रेलयानेन आगतवान् ।
= भैया रेल द्वारा आए ।
भ्राता रेलयानात् अवतरति।
= भैया रेल से उतर रहा है।
विभा – आम् अधुना शुद्धम् ।
= हाँ अब शुद्ध है।
विभा – चल , भ्रातरं मिलावः ।
= चलो , भैया को मिलते हैं।

ओ३म्
३४७. संस्कृत वाक्याभ्यासः

ये ज्ञानिनः सन्ति ते मम गुरवः
= जो ज्ञानी हैं वे मेरे गुरु हैं ।
ये वेदपाठिनः सन्ति ते मम गुरवः
= जो वेदपाठी हैं वे मेरे गुरु हैं
ये सदाचारिणः सन्ति ते मम गुरवः
= जो सदाचारी हैं वे मेरे गुरु हैं
ये सर्वदा सन्मार्गे चलितुं प्रेरयन्ति ते मम गुरवः
= जो हमेशा सन्मार्ग पर चलने के लिये प्रेरित करते हैं वे मेरे गुरु हैं
ये मम दोषान् दूरीकुर्वन्ति ते मम गुरवः
= जो मेरे दोषों को दूर करते हैं वे मेरे गुरु हैं
ये मम विकारान् नाशयन्ति ते मम गुरवः
= जो मेरे विकारों को नष्ट करते हैं वे मेरे गुरु हैं
ये मां निर्भयं कुर्वन्ति ते मम गुरवः सन्ति
= जो मुझे निर्भय बनाते हैं वे मेरे गुरु हैं
सर्वेभ्यः वन्दनीयेभ्यः गुरुभ्यः सादरं नमांसि भूयांसि।
= सभी वन्दनीय गुरुओं को सादर अनेक बार नमन
श्रद्धास्पदेषु गुरुचरणेषु सादरं प्रणतयः
= श्रद्धास्पद गुरुचरणों में सादर अनेक प्रणाम ।
गुरुपूर्णिमा-पर्वणः सर्वेभ्यः मङ्गलकामनाः
= गुरुपूर्णिमा पर्व की सभी को मंगलकामनाएँ

ओ३म्
३४८. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सुभाषः रेलयानात् यानपेटिकाम् अवतारयति।
= सुभाष रेल से अटैची उतारता है।
एकां यानपेटिकाम् अवतारितवान् ।
= एक अटैची उतारता है।
पुनः उपरि गच्छति।
= फिर से ऊपर जाता है।
द्वितीयां यानपेटिकाम् अवतारयति।
= दूसरी अटैची उतारता है।
सः पुनः रेलकोष्ठं प्रविशति।
= वह फिर से रेल के कम्पार्टमेंट में घुसता है।
पुनः तृतीयां यानपेटिकाम् अवतारयति।
= फिर से तीसरी अटैची उतारता है ।
सः पुनः रेलयानम् आरोहति।
= वह फिर से रेल में चढ़ता है।
एकं चक्रासन्दम् अवतारयति।
= एक व्हील चेयर उतारता है।
इतोsपि एकवारं सः रेलकोष्ठं गच्छति।
= वह एक बार और भी रेल कम्पार्टमेंट में जाता है।
एकां वृद्धां महिलाम् अवतारयति।
= एक बूढ़ी महिला को उतारता है।
सः तां वृद्धां अङ्के उन्नीय अवतारयति।
= वह उस वृद्धा को गोदी में उठाकर उतारता है।
चक्रासन्दे तां वृद्धाम् उपावेशयति।
= व्हीलचेयर पर वृद्धा को बिठाता है।
( अग्रे किं भवति ? किम् अभवत् ? तद् श्वः पठन्तु
= आगे क्या होता है ? क्या हुआ ? ये कल पढ़ियेगा )
{ निवेदनम्   न केवलं पठन्तु अपितु संस्कृते सम्भाषणम् अपि कुर्वन्तु ।
= निवेदन – न केवल पढ़िये बल्कि संस्कृत में बातचीत भी करिये )

ओ३म्
३४९. संस्कृत वाक्याभ्यासः

( ह्यस्तनं पाठम् अग्रे पठन्तु ।
= कल के पाठ को आगे पढ़िये )
वृद्धया सह तस्याः पौत्री आसीत् ।
= वृद्धा के साथ उसकी पोती थी।
पौत्री दशवर्षीया अस्ति।
= पोती दस वर्ष की है।
सा पौत्री शनैः शनैः चक्रासन्दं चालयति।
= वह पोती धीरे धीरे व्हीलचेयर चलाती है
चक्रासन्दे तस्याः रुग्णा पितामही उपविष्टा अस्ति ।
= व्हीलचेयर पर उसकी बीमार दादी बैठी है।
सुभाषः यानपेटिकाः नयति।
= सुभाष अटैचियाँ उठाता है।
यानपेटिकानाम् अधः चक्राणि सन्ति
= अटैचियों के नीचे व्हील हैं
अतः शुभाषस्य कृते सुकरं भवति।
= अतः सुभाष के लिये सरल हो जाता है।
सः एकां लघु-यानपेटिकां चक्रासन्दे स्थापयति।
= वह एक छोटी अटैची व्हीलचेयर पर रखता है।
ते सर्वे रेलस्थानकात् बहिः आगच्छन्ति।
= वे सभी रेलवे स्टेशन से बाहर आते हैं
रक्षायानेन गृहं गच्छन्ति।
= रिक्शा से घर जाते हैं ।

ओ३म्
३५०. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सः हीरा श्रेष्ठी अस्ति।
=वह हीरा सेठ है।
हीरा श्रेष्ठी वस्त्रविक्रेता अस्ति।
= हीरा सेठ वस्त्र विक्रेता है।
तस्य बहु विशालं वस्त्रापणम् अस्ति।
= उसके बहुत बड़ी कपड़े की दूकान है।
तस्य आपणे धनिकाः अपि आगच्छन्ति ।
= उसकी दुकान में धनिक भी आते हैं।
निर्धनाः अपि आगच्छन्ति।
= निर्धन भी आते हैं ।
धनिकाः उत्तमानि वस्त्राणि कृणन्ति।
= धनिक अच्छे कपड़े खरीदते हैं ।
निर्धनाः समान्यानि वस्त्राणि कृणन्ति।
= निर्धन लोग सामान्य कपड़े खरीदते हैं ।
सः निर्धनेभ्यः अधिकं मूल्यं न स्वीकरोति।
= वह निर्धनों से अधिक मूल्य नहीं लेता है।
श्रावण-मासे हीरा श्रेष्ठी निर्धनेभ्यः बालकेभ्यः वस्त्राणि ददाति।
= सावन महीने में हीरा सेठ निर्धन बच्चों को वस्त्र देता है।
ये बालकाः विद्यालयं गच्छन्ति तेभ्यः गणवेशं ददाति।
= जो बच्चे विद्यालय जाते हैं उन्हें गणवेश देता है।
सः अल्पं वदति ।
= वह कम बोलता है ।
सः अल्पेन एव वार्तां समापयति।
= वह थोड़े में बात समाप्त करता है।
अचिरेण एव सः भोजनं समापयति।
= थोड़े में ही वह भोजन समाप्त करता है।
शिखा चलचित्रागारं गच्छति।
= शिखा थियेटर जाती है।
स्तोकमेव चलचित्रं दृष्ट्वा बहिः आगच्छति।
= थोड़ी ही फ़िल्म देखकर बाहर आ जाती है।
तद् चलचित्रं तस्यै न अरोचत।
= वो फ़िल्म उसे पसंद नहीं आई।
शंकराचार्यः अल्पमेव अजीवत्।
= शकराचार्य जी थोड़ा ही जिये।
तस्याः पार्श्वे स्तोकमेव धनम् अस्ति।
= उसके पास थोड़ा ही धन है।
स्तोकेन धनेन सः जीवनं यापयति।
= थोड़े ही धन से वह जीवन बिताता है।
प्रतिदिनं स्वल्पं स्वल्पं धनं सञ्चयतु , धनं वर्धिष्यते।
= प्रतिदिन थोड़ा थोड़ा धन इकट्ठा करिये धन बढ़ेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *