००१३ सरल संस्कृत अनुवाद अभ्यास पाठ १३१ से १४०

ओ३म्

१३१. संस्कृत वाक्याभ्यासः

पिता – हे पुत्र ! वद ‘‘अहं बालः’’।

पुत्रः – अहं बालः।

पिता – वद ‘‘त्वं बाला’’।

पुत्रः – त्वं बाला।

पिता – हे पुत्री ! वद ‘‘अहं बाला’’

पुत्री – अहं बाला।

पिता – वद ‘‘त्वं बालः’’।

पुत्री – त्वं बालः।

अधुना पुत्री पुत्रश्च आदिनं तदेव वदतः।
= अब पुत्री और पुत्र सारा दिन वही बात बोल रहे हैं।

लघु बालकौ वक्तुं शक्नुतः।
= दो छोटे बच्चे बोल सकते हैं।

तर्हि वयं सर्वे किमर्थं न ?
= तो फिर हम सभी क्यों नहीं ?

ओ३म्

१३२. संस्कृत वाक्याभ्यासः

मन्दिरे = मन्दिर में।

मन्दिरेषु = मन्दिरों में।

गृहे = घर में।
गृहेषु = घरों में।

उद्याने = उद्यान में।
उद्यानेषु = उद्यानों में।

पाठशालायाम् = पाठशाला में।
पाठशालासु = पाठशालाओं में।

कार्ये = काम में।
कार्येषु = काम में।

मन्दिरे भक्तः गच्छति।
= मन्दिर में भक्त जाता है।

मन्दिरेषु भक्तारू गच्छन्ति ।
= मन्दिरों में भक्त जाते हैं ।

गृहे तुलसी-वृक्षः अस्ति।
= घर में तुलसी वृक्ष है।

गृहेषु तुलसी-वृक्षाः सन्ति।
= घरों में तुलसी वृक्ष हैं।

उद्याने बालकाः क्रीडन्ति।
= उद्यान में बच्चे खेलते हैं।

उद्यानेषु बालकाः क्रीडन्ति।
= उद्यानों में बच्चे खेलते हैं।

पाठशालायाम् छात्राः सन्ति।
= पाठशाला में छात्र हैं।

पाठशालासु छात्राः पठन्ति।
= पाठशालाओं में छात्र पढ़ते हैं।

कार्ये मनः न लगति वा ?
= काम में मन नहीं लग रहा है क्या ?

स्वं स्वं कार्येषु मग्नाः भवन्तु।
= अपने अपने काम में मग्न हो जाईये।

ओ३म्

१३२. संस्कृत वाक्याभ्यासः

मम जन्म आदिपुरे (आदिपुरनगरे) अभवत्।
= मेरा जन्म आदिपुर में हुआ।

तव जन्म कुत्र अभवत् ?
तुम्हारा जन्म कहाँ हुआ ?

भवतः / भवत्याः जन्म कुत्र अभवत् ?
= आपका जन्म कहाँ हुआ ?

भवतः / भवत्याः जन्म कस्मिन् नगरे जातम् ?
आपका जन्म कौनसे शहर में हुआ ?

ओ३म्

१३३. संस्कृत वाक्याभ्यासः

अहं गृहतः कार्यालयं गच्छामि।
= मैं घर से दफ्तर जाता हूँ।

सुजितः पुस्तकालयतः उद्यानं गच्छति।
= सुजित पुस्तकालय से उद्यान जाता है।

वृन्दा अम्बालातः कोल्हापुरं गच्छति।
= वृन्दा अम्बाला से कोल्हापुर जाती है।

सैनिकः लेहतः सियाचिनं गच्छति।
= सैनिक लेह से सियाचिन जाता है।

भवान् कुतः कुत्र गच्छति ?
= आप कहाँ से कहाँ जाते हैं ?

भवती कुतः कुत्र गच्छति ?
= आप कहाँ से कहाँ जाती हैं ?

ओ३म्

१३४. संस्कृत वाक्याभ्यासः

मम गृहे तुलस्याः पादपः।
= मेरे घर में तुलसी का पौधा है।

अङ्कितस्य गृहे कदलीवृक्षः अस्ति।
= अंकित के घर केले का पेड़ है।

मोहितस्य गृहे आम्रवृक्षः अस्ति।
= मोहित के घर आम् का पेड़ है।

गीतिकायाः गृहे पाटलस्य वृक्षः अस्ति।
= गीतिका के घर गुलाब का पेड़ है।

तव गृहे कस्य वृक्षः अस्ति ?
= तुम्हारे घर किसका वृक्ष है ?

भवतः गृहे कस्य वृक्षः अस्ति ?
= आपके घर किसका पेड़ है ?

भवत्याः गृहे कस्य वृक्षः अस्ति ?
= आपके घर किसका पेड़ है ?

ओ३म्

१३५. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सः बालकः।

बालकः चित्रं पश्यति।
= बालक चित्र देखता है।

तद् चित्रं तस्य परिवारस्य अस्ति।
= वह चित्र उसके परिवार का है।

सः बालकः चित्रं दृष्ट्वा वदति।
= वह बच्चा चित्र देख कर बोलता है।

एषः मम पितामहः अस्ति।
= ये मेरे दादाजी हैं।

एषा मम पितामही अस्ति।
= ये मेरी दादीजी हैं।

एषः मम पिता अस्ति।
= ये मेरे पिताजी हैं।

एषा मम माता।
= ये मेरी माँ हैं।

एषः मम मातुलः अस्ति।
= ये मेरे मामा हैं।

एषा मम मातुलानी अस्ति।
= ये मेरी मामीजी हैं।

एषा मम भगिनी अस्ति।
= ये मेरी बहन है।

चित्रे मातामही नास्ति।
= चित्र में नानीजी नहीं हैं।

एतस्मिन् चित्रे मातामहः अपि नास्ति।
= इस चित्र में नानाजी भी नहीं हैं।

तौ अन्यस्मिन् चित्रे स्तः।
= वे दोनों अन्य चित्र में हैं।
ओ३म्

१३६. संस्कृत वाक्याभ्यासः

शिक्षा, कल्प, निरुक्त, व्याकरण, छन्द और ज्योतिष ये छः वेदाङ्ग हैं। प्राचीन समय में इनकी विद्या को प्राप्त करना अनिवार्य था।

आज हम सभी को व्याकरण-विमुख बना दिया गया है। परन्तु व्याकरण-विमुख रह कर भी हम संस्कृताभ्यास तो कर ही सकते हैं।
प्रतिदिन के सम्वादों में एक सम्वाद या वाक्य हम सभी अवश्य बोला करते हैं

‘‘मैं क्या करूँगा / क्या करूँगी ?’’

अहं गमिष्यामि।
अहम् उद्यानं गमिष्यामि।
सायंकाले अहम् उद्यानं गमिष्यामि।

अहं पठिष्यामि।
अहं वदिष्यामि।
अहं खादिष्यामि।
अहं चलिष्यामि
अहं पास्यामि = मैं पिऊँगा।

अहं दास्यामि = मैं दूँगा।

अहं मेलिष्यामि = मैं मिलूँगा।

अहं लेखिष्यामि = मैं लिखूँगा।

अहं नेष्यामि = मैं ले जाऊँगा।

अहम् आनेष्यामि = मैं लाऊँगा।

अहं द्रक्ष्यामि = मैं देखूँगा।

अहं प्रक्ष्यामि = मैं पूछूँगा।

अहं श्रोष्यामि = मैं सुनूँगा।

अहं स्थापयिष्यामि = मैं रखूँगा।

ओ३म्

छोटे छोटे सरल सरल संस्कृत वाक्य बोलते जाइए , संस्कृत में पारंगत बनते जाइए।

१३७. संस्कृत वाक्याभ्यासः

गाँव ढोरी , जिला कच्छ ( गुजरात ) का निवासी श्री शम्भु आहिर कल भुज में मिला था। सात वर्ष पहले उसने संस्कृत पढ़ी थी।
गाँव में उसके साथ कोई भी संस्कृत में बातचीत नहीं करता है परन्तु वह नित्य सम्भाषण का अभ्यास करता है।

मेरे साथ उसने १५ मिनट तक एक भोजनालय में बैठ कर संस्कृत में बात की। सभी लोग हमारा संस्कृत सम्वाद सुन रहे थे।

शम्भुः – नमो नमः।

अहम् – नमो नमः।

अहम् – भवान् कः ? = आप कौन ?

शम्भुः – मम नाम शम्भुः।

अहम् – कुतः ? = कहाँ से ?

शम्भुः – अहं ढोरीतः।
= मैं ढोरी से

शम्भुः – भवान् संस्कृतं पाठितवान्।
= आपने संस्कृत पढाई थी।

अहम् – कदा ? कब ?

शम्भुः – सप्तवर्षेभ्यः पूर्वम्।
= सात वर्ष पहले।

शम्भुः – अमितः अपि पाठयति स्म।
= अमित जी भी पढ़ाते थे।

अहम् – आम्, अधुना स्मरणे आगतम्।
= अब याद आया।

अहम् – तदानीं विलासबा भगिनी अपि पाठयति स्म।
= तब विलासबा बहन भी पढ़ाती थीं।

शम्भुः – अधुना अहं शिक्षकः अस्मि।
= अब मैं शिक्षक हूँ।

छात्रान् संस्कृतं पाठयामि।
= छात्रों को संस्कृत पढ़ाता हूँ।

आवां द्वौ सुखेन संस्कृते वार्तालापं कृतवन्तौ।
= हम दोनों ने सुख से संस्कृत में बातचीत की।

जनाः आवयोः सम्भाषणं श्रृण्वन्ति स्म।
= लोग हमारी बात सुन रहे थे।

आप भी ऐसे ही संस्कृत में बात किया करें।

ओ३म्

१३८. संस्कृत वाक्याभ्यासः

कन्या-विद्यालये सामान्य ज्ञान स्पर्धा चलति।
= कन्या विद्यालय में सामान्य ज्ञान स्पर्धा चल रही है।

अस्माकं राष्ट्रपतिः कः अस्ति ?
= हमारे राष्ट्रपति कौन हैं ?

कुहू हस्तम् उपरि करोति।
= कुहू हाथ ऊपर करती है।

आम्, कुहू उत्तरं देहि।
= हाँ, कुहू उत्तर दो।

कुहू – सम्प्रति अस्माकं राष्ट्रपतिः श्री प्रणव मुखर्जी अस्ति।
=कुहू – इस समय हमारे राष्ट्रपति श्री प्रणव मुखर्जी हैं।

अस्माकं प्रधानमन्त्री कः अस्ति ?
= हमारे प्रधानमन्त्री कौन हैं ?

आयुषी हस्तम् उपरि कृतवती।
= आयुषी ने हाथ ऊपर किया।

आम्, आयुषी उत्तरं देहि।
हाँ, आयुषी उत्तर दो।

आयुषी – अधुना अस्माकं प्रधानमन्त्री श्री नरेन्द्र मोदी महोदयः अस्ति।
= आयुषी – इस समय हमारे प्रधानमन्त्री श्री नरेन्द्र मोदी हैं।

अधुना शिक्षणमंत्रिणी का अस्ति ?
इस समय शिक्षणमंत्री कौन है ?

अहं वदामि ….. अहं वदामि ….. अहं जानामि।
= मैं बोलती हूँ …… मैं बोलती हूँ ….. मैं जानती हूँ।

शान्तिः ….. कोलाहलः मास्तु।
=शान्ति ….. कोलाहल नहीं करेंगे।

आम् सुरेखा वद = हाँ सुरेखा बोलो।

सुरेखा – श्रीमती स्मृति ईरानी अस्माकं शिक्षणमंत्रिणी अस्ति।
=सुरेखा – श्रीमती स्मृति ईरानी हमारी शिक्षा मंत्री हैं।

सा संस्कृत भाषायाः सम्वर्धनार्थम् उत्तमं कार्यं करोति।
= वह संस्कृत भाषा के संवर्धन के लिए अच्छा काम कर रही हैं।

ओ३म्

१३९. संस्कृत वाक्याभ्यासः

शुभं शुभं सर्वदा शुभम्।
भवतु भवतु सर्वत्र शुभम्।

आगतं नव-काल-क्षणम्।
ख्रीस्तीनां वर्षम् आरब्धम्।

चैत्रप्रतिपदायां नवसम्वत्सर।
मा विस्मर भोः मा विस्मर।

उत्साहेन यज्ञकर्म कृतम्।
सर्वेषां मङ्गलम् अभ्यर्थितम्।

प्रतिक्षणम् आनन्दिताः वयम्।
उत्सवप्रियाः जनाः वयम्।

ओ३म्

१४०. संस्कृत वाक्याभ्यासः

अद्य नूतना लेखनी प्राप्ता।
= आज नई पेन मिली।

लेखन्या किं अलिखत्?
= पेन से क्या लिखा ?

सर्वप्रथमं गायत्री-मन्त्रं लिखितवान्।
= सबसे पहले गायत्री मन्त्र लिखा।

लेखनी कुत्र अस्ति ? दर्शयतु।
= पेन कहाँ है ? दिखाईये।

लेखनीं मम भार्यायै अददाम्।
= पेन तो मेरी पत्नी को दे दी।

सा किं करिष्यति ?
= वह क्या करेगी ?

सा भजनानि लिखति।
= वह भजन लिखती है।

सा सूक्तीः लिखति।
= वह सूक्तियाँ लिखती है।

सुवचनानि लिखति।
= सुवचन लिखती है।

सा यत्किमपि पठति तद्…
= वह कुछ भी पढ़ती है वो…

टिप्पणीपुस्तिकायां लिखति।
= नोटबुक में लिखती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *