००१० सरल संस्कृत अनुवाद अभ्यास पाठ ९१ से १००

ओ३म्

९१. संस्कृत वाक्याभ्यासः

युवकः – अहम् आसम्।
= मैं था ।

युवती – अहम् आसम्।
= मैं थी

युवकः – अहं बालकः आसम्।
= मैं बालक था

युवती – अहं बालिका आसम्।
= मैं बालिका थी

युवकः – अहं छात्रः आसम्।
= मैं छात्र था

युवती – अहं छात्रा आसम्।
= मैं छात्रा थी

युवकः – अहं ध्यानमग्नः आसम्।
= मैं ध्यानमग्न था

युवती – अहं ध्यानमग्ना आसम्।
= मैं ध्यानमग्न थी

ओ३म्

९२. संस्कृत वाक्याभ्यासः

कदा = कब

भवान् = आप (पुंलिङ्ग )

भवती = आप (स्त्रीलिङ्ग)

भवान्/भवती वा कार्यं कदा करिष्यति ?
= आप काम कब करेंगे/करेंगी ?

भवान्/भवती वा धनं कदा दास्यति ?
= आप धन कब देंगे/देंगी ?

भवान्/भवती वा दुग्धं कदा पास्यति ?
= आप दूध कब पियेंगे/पियेंगी ?

एषः कदा स्वस्थः भविष्यति ?
= ये कब स्वस्थ होगा ?

एषा कदा स्वस्था भविष्यति ?
= ये कब स्वस्थ होगी ?

यानं कदा आगमिष्यति ?
= वाहन कब आएगा ?

ओ३म्

९३. संस्कृत वाक्याभ्यासः

हसति = हँसता है।

सः हसति = वह हँसता है।

सा हसति = वह हँसती है।

एषः हसति = यह हँसता है।

एषा हसति = यह हँसती है।

कः हसति ? = कौन हँसता है ?

जगदीशः हसति = जगदीश हँसता है।

का हसति ? = कौन हँसती है ?

नित्या हसति = नित्या हँसती है।

सः कदा हसति ? = वह कब हँसता है ?

सः भ्रमणसमये हसति।
= वह घूमते समय हँसता है।

सा कदा हसति ?
= वह कब हँसती है ?

सा सर्वदा हसति।
= वह हमेशा हँसती है।

अहं हसामि = मैं हँसता हूँ / हँसती हूँ।

ओ३म्

९४. संस्कृत वाक्याभ्यासः

लिखति = लिखता है।

सः लिखति = वह लिखता है।

सा लिखति = वह लिखती है।

एषः लिखति = यह लिखता है।

एषा लिखति = यह लिखती है।

कः लिखति ? = कौन लिखता है ?

का लिखति ? = कौन लिखती है ?

विनयः लिखति = विनय लिखता है।

विनीता लिखति = विनीता लिखती है।

माता लिखति = माँ लिखती है।

पिता लिखति = पिता लिखता है।

छात्रः लिखति = छात्र लिखता है।

छात्रा लिखति =छात्रा लिखती है।

अहं लिखामि = मैं लिखता हूँ / लिखती हूँ ।

ओ३म्

९५. संस्कृत वाक्याभ्यासः

पिबति = पीता है।

सः पिबति = वह पीता है।

सा पिबति = वह पीती है।

एषः पिबति = यह पीता है।

एषा पिबति = यह पीती है।

कः पिबति ? = कौन पीता है ?

लोकेशः पिबति = लोकेश पीता है।

लोकेशः किं पिबति ?
= लोकेश क्या पीता है ?

लोकेशः दुग्धं पिबति।
= लोकेश दूध पीता है।

का पिबति ? = कौन पीती है ?

विभा पिबति = विभा पीती है।

अहम् पिबामि = मैं पीता हूँ / पीती हूँ।

( मङ्गलप्रभात हो सुन्दर-प्रभात

ओ३म्

९६. संस्कृत वाक्याभ्यासः

रोदिति = रोता है।

सः रोदिति = वह रोता है।

सा रोदिति = वह रोती है।

एषः रोदिति = यह रोता है।

एषा रोदिति = यह रोती है।

कः रोदिति ? = कौन रोता है ?

को पि न रोदिति = कोई भी नहीं रोता है।

का रोदिति ? = कौन रोती है ?

का अपि न रोदिति = कोई भी नहीं रोता है।

अहम् अपि न रोदिमि = मैं भी नहीं रोता हूँ / रोती हूँ।

ओ३म्

९७. संस्कृत वाक्याभ्यासः

उत्तिष्ठति = उठता है / खड़ा होता है

सः उत्तिष्ठति = वह उठता है।

सा उत्तिष्ठति = वह उठती है।

एषः उत्तिष्ठति = यह खड़ा होता है।

एषा उत्तिष्ठति = यह खड़ी होती है।

कः उत्तिष्ठति? = कौन खड़ा होता है?

दीपेशः उत्तिष्ठति = दीपेश खड़ा होता है।

दीपेशः कुतः उत्तिष्ठति ?
= दीपेश कहाँ से उठता है ?

दीपेशः पर्यंकात् उत्तिष्ठति।
= दीपेश पलंग से उठता है

का उत्तिष्ठति ? = कौन उठती है ?

जया उत्तिष्ठति = जया उठती है।

जया कदा उत्तिष्ठति ?
= जया कब उठती है ?

जया प्रातः पञ्चवादने उत्तिष्ठति।
= जया सुबह पाँच बजे उठती है।

अहम् उत्तिष्ठामि = मैं उठता हूँ / उठती हूँ।

ओ३म्

९८. संस्कृत वाक्याभ्यासः

ददाति = उठता है / देता है , देती है।

सः ददाति = वह देता है।

सा ददाति = वह देती है।

एषः ददाति = यह देता है।

एषा ददाति = यह देती है।

कः ददाति? = कौन देता है ?

नीलेशः ददाति = नीलेश देता है।

नीलेशः किं ददाति?
= नीलेश क्या देता है?

नीलेशः पुस्तकं ददाति।
= नीलेश पुस्तक देता है।

का ददाति ? = कौन देती है ?

वृन्दा ददाति = वृन्दा देती है।

वृन्दा किं ददाति ?
= वृन्दा क्या देती है ?

वृन्दा धनं ददाति ।
= वृन्दा धन देती है ।

अहम् ददामि = मैं देता हूँ / देती हूँ।

ओ३म्

९९. संस्कृत वाक्याभ्यासः

नयति = ले जाता है / ले जाती है।

सः नयति = वह ले जाता है।

सा नयति = वह ले जाती है।

एषः नयति = यह ले जाता है।

एषा नयति = यह ले जाता है।

कः नयति ? = कौन ले जाता है ?

पार्थः नयति = पार्थ ले जाता है।

पार्थः किं नयति ?
= पार्थ क्या ले जाता है ?

पार्थः मातुः कृते भोजनं नयति।
= पार्थ माँ के लिये भोजन ले जाता है।

का नयति ? = कौन ले जाती है ?

सत्या नयति = सत्या ले जाती है।

सत्या किं नयति ?
= सत्या क्या ले जाती है ?

सत्या धेनोः कृते आहारं नयति।
= सत्या गाय के लिये आहार ले जाती है।

अहम् नयामि = मैं ले जाता हूँ / ले जाती हूँ।

ओ३म्

१००. संस्कृत वाक्याभ्यासः

भवति = होता है / होती है।

सः शान्तः भवति = वह शान्त होता है।

सा शान्ता भवति = वह शान्त होती है।

एषः प्रसन्नः भवति = यह प्रसन्न होता है।

एषा प्रसन्ना भवति = यह प्रसन्न होती है।

कः ज्ञानवान् भवति ? = कौन ज्ञानवान् होता है ?

गौरांगः ज्ञानवान् भवति = गौरांग ज्ञानवान् होता है।

गौरांगः कथं ज्ञानवान् भवति ?
= गौरांग कैसे ज्ञानवान् होता है ?

संस्कृत-पुस्तकानि पठित्वा सः ज्ञानवान् भवति।
= संस्कृत पुस्तकें पढ़ कर वह ज्ञानवान् बनता है।

का पारंगता भवति ? = कौन पारंगत बनती है ?

विदुला पारंगता भवति = विदुला पारंगत बनती है।

कस्मिन् विषये सा पारंगता भवति ?
= किस विषय में वह पारंगत बनती है ?

शास्त्रीय-सङ्गीत विषये सा पारंगता भवति।
= शास्त्रीय सङ्गीत विषय में वह पारंगत बनती है।

अहम् उत्तीर्णः भवामि = मैं उत्तीर्ण होता हूँ / होती हूँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *