०००६ सरल संस्कृत अनुवाद अभ्यास पाठ ४१ से ५०

ओ३म्

४१. संस्कृत वाक्याभ्यासः

योगेन्द्रः श्रेष्ठः धावकः अस्ति ।
= योगेंद्र अच्छा धावक (एथलीट) है

सः बहु शिप्रं धावति।
= वह बहुत तेज दौड़ता है

सः मृगात् अपि वेगेन धावति।
= वह हिरन से भी तेज दौड़ता है

सः चित्रकात् अपि वेगेन धावति।
= वह चीते से भी तेज दौड़ता है

तस्य अद्य स्वास्थ्यं सम्यक् नास्ति।
= उसका आज स्वास्थ्य ठीक नहीं है

सः धावितुं न शक्नोति।
= वह दौड़ नहीं सकता है

सः धावितुं न शक्ष्यति।
= वह दौड़ नहीं पाएगा

तथापि सः धाविष्यति।
= फिर भी वह दौड़ेगा

सः पदकं प्राप्तुम् इच्छति।
= वह पदक प्राप्त करना चाहता है

ओ३म्

४२. ।। वाद्य सम्बन्धी शब्द ।।

ढोल – पटहः ।

तबला – मुरजः ।

तानपुर – तानपूरः।

बैंड – वादित्रगणः।

बिगुल – संज्ञाशंखः।

ढिंढोरा – डिण्डिमः।

ढोलक – ढौलकः।

नगाड़ा – दुन्दुभिः।

तबला – कांस्यतालः।

मृदङ्ग- मृदङ्गः।

बंशी – वेणुः।

बांसुरी – मुरली।

सारंगी – सांरगी।

वीणा – वीणा।

सहनाई – तुर्यम्।

वीणाबाजा – वीणावाद्यम्।

मंजीरा – मञ्जरम्।

हारमोनियम – मनोहारिवाद्यम्।

ओ३म्

४३. संस्कृत वाक्याभ्यासः

अद्य पुत्रः स्नानं कृत्वा शीघ्रमेव बहिः आगतः।
= आज बेटा स्नान करके जल्दी से बाहर आ गया

बहिः आगत्य युतकं उरुकं च धारयति।
= बाहर आकर शर्ट पैंट पहनता है

सः केशसंधानं न करोति।
= वह बाल नहीं संवारता है

केशसंधानम् अकृत्वा एव सः कार्यालयम् अगच्छत्।
= बाल संवारे बिना ही वह ऑफिस गया

कार्यालये सर्वे तस्य मुखम् अपश्यन्त।
= ऑफिस में सभी ने उसका चेहरा देखा

सः अपृच्छत्।
= उसने पूछा

किम् अभवत् ?
= क्या हुआ ?

मम मुखं किमर्थं पश्यन्ति सर्वे ?
= सभी मेरा चेहरा क्यों देख रहे हैं ?

सः दर्पणे स्वकीयं मुखं पश्यति।
= वह दर्पण में अपना चेहरा देखता है

स्वमुखं दृष्ट्वा हसति ।
= अपना चेहरा देख कर हँसता है

ओ३म्

४४. संस्कृत वाक्याभ्यासः

द्वे अजे घर्षतः।
= दो बकरियाँ लड़ रही हैं

द्वे अजे श्रृंगाभ्यां युद्ध्येते।
= दोनों बकरियाँ सींग से लड़ रही हैं

एका अजा उच्चैः कूर्दते।
= एक बकरी ऊँचा कूदती है

द्वितीया अजा अपि कूर्दते।
= दूसरी बकरी भी कूदती है

द्वयोः अजयोः युद्धं सर्वे पश्यन्ति।
= दोनों बकरियों का युद्ध सब देखते हैं

केचन जनाः तयोः युद्धं निवारयितुं प्रयासं कुर्वन्ति।
= कुछ लोग उन दोनों के युद्ध को समाप्त करने का प्रयास करते हैं

तथापि ते अजे घर्षतः।
= फिर भी वो बकरियाँ लड़ती हैं

ओ३म्

४५. संस्कृत वाक्याभ्यासः

ओह, पञ्च जनाः !!!
= ओह पाँच लोग !!!

एकस्यां द्विचक्रिकायाम् !!!
= एक ही साइकिल में !!!

अहो आश्चर्यम्..!!

चालकस्य अग्रे द्वौ जनौ स्तः।
= चालक के आगे दो लोग हैं

चालकस्य पृष्ठे द्वौ जनौ स्तः।
= चालक के पीछे दो जने हैं

द्विचक्रिकायाः चालकः कथं संतुलनं साधयति।
= साइकिल का चालक कैसे संतुलन बना रहा है

तान् सर्वान् दृष्ट्वा अहं बिभेमि।
= उन सबको देखकर मैं डर रहा हूँ

द्विचक्रिकायाः (द्विचक्रिकातः) कोपि पतिष्यति।
= सायकिल से कोई गिरेगा

कदाचित् चालकस्य अभ्यासः स्यात्।
= शायद चालक का अभ्यास होगा

ओ३म्

४६. संस्कृत वाक्याभ्यासः

यानपेटिकां भ्राता गृह्णाति।
= सूटकेस भैया ले रहे हैं

पाथेयं भ्रातृजाया नयति।
= रास्ते का भोजन भाभीजी ले रही हैं

अनुजः चित्रकं गृह्णाति।
= छोटा भाई कैमरा ले रहा है

पुत्री जलं नयति।
= बिटिया पानी लेती है

पुत्रः एकम् आसन्दं उन्नयति।
= बेटा एक कुर्सी उठाता है ।

पितामह्याः कृते आसन्दं नयति।
= दादीजी के लिये कुर्सी लेता है

सर्वे जनाः मोदयात्रार्थं गच्छन्ति।
= सभी पिकनिक के लिये जाते हैं

मार्गे पिता पृच्छति।
= रास्ते में पिता पूछता है

गृहस्य कुञ्चिका कस्य पार्श्वे अस्ति ?
= घर की चाभी किसके पास है ?

पितामही अवदत्।
= दादीजी बोलीं

सर्वेषां पार्श्वे किमपि न किमपि अस्ति एव।
= सबके पास कुछ न कुछ है ही

मम पार्श्वे गृहस्य कुञ्चिका अस्ति।
= मेरे पास घर की चाभी है

सर्वे अहसन्।
= सब हँस पड़े

ओ३म्

४७. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सः बालकः मातुः अङ्के उपविष्टः अस्ति।
= वह बच्चा माँ की गोद में बैठा है

तस्य सहोदरी भगिनी रोदिति।
= उसकी जुड़वाँ बहन रोती है

अम्ब, अहम् अपि उपवेष्टुम् इच्छामि।
= माँ, मैं भी बैठना चाहती हूँ।

माता ताम् अपि अङ्के उपावेशयति।
= माँ उसे भी बिठा लेती है

माता गीतं गायति।
= माँ गीत गाती है

तस्याः अनुकरणं द्वौ बालकौ कुरुतः।
= उसका अनुकरण दोनों बच्चे करते हैं

माता शास्त्रीयं रागम् आलापयति।
= माँ शास्त्रीय राग आलापती है

पुत्रः पुत्रीश्च रागम् आलापयतः।
= बेटा और बेटी दोनों राग आलापते हैं

कियत् सुन्दरं दृश्यम् अस्ति।
= कितना सुन्दर दृश्य है

ओ३म्

४८. संस्कृत वाक्याभ्यासः

भगिनी- भ्रातः रे, मम भ्रातः रे तेजस्वी वीरः भ्रातः रे..!!

भ्राता- भगिनि हे, भगिनि हे मम विदुषी सौम्या भगिनि हे..!!

भगिनी- त्वं चतुरः चाणक्यः भव..!! त्वं वीर-शिवाजी सदृशो भव..!!
सर्वासु कलासु पारगः भव..!!

कामये अहं त्वं श्रेष्ठः भव..!!

भ्राता- स्नेहमयी प्रेरिका भगिनि, वन्दनीया धर्मनिष्ठा भगिनि,

कलासु निपुणा राष्ट्रसेविका, स्वस्था भव सदा मम भगिनि..!!

ओ३म्

४९. संस्कृत वाक्याभ्यासः

सा पञ्चनवतिः वर्षीया आसीत्।
= वह पच्चानवे वर्ष की थीं

सा प्रतिदिनं यज्ञं करोति स्म।
= वह प्रतिदिन यज्ञ करती थी

अद्य अपि सा प्रातःकाले यज्ञं कृतवती।
= आज भी उन्होंने यज्ञ किया

ओम् अग्नये स्वाहा।

ओम् सोमाय स्वाहा।

ओम् प्रजापतये स्वाहा।

ओम् इन्द्राय स्वाहा।

यज्ञस्य अनन्तरं सा अवदत्।
= यज्ञ के बाद वे बोलीं

अहं गच्छामि।
= मैं जा रही हूँ ।

सा मन्त्रपाठम् अकरोत्।
= उन्होंने मन्त्र पाठ किया

ओम् विश्वानिदेव सवितर्दुरितानि परासुव। यद्भद्रं तन्न आसुव।

अनन्तरं सा दिवंगता जाता।
= बाद में वो दिवंगत हो गईं

कियत् श्रेष्ठा अस्ति तस्याः मृत्युः।
= कितनी अच्छी है उनकी मृत्यु

ओ३म्

५०. संस्कृत वाक्याभ्यासः
््््््््््््््

प्रातःकाले पञ्च मील परिमितं चलितवान्।
= सुबह पांच मील जितना चला

अधुना एकत्र उपविश्य विश्रामं करोमि।
= अभी एक जगह बैठ कर विश्राम कर रहा हूँ

अत्र केचन युवकाः धावन्ति।
= यहाँ कुछ युवक दौड़ रहे हैं

काश्चन युवतयः अपि धावन्ति।
= कुछ युवतियाँ भी दौड़ रही हैं

वृद्धाः शनैः शनैः चलन्ति।
= वृद्ध धीरे धीरे चलते हैं

युवकाः क्षिप्रं धावन्ति।
= युवक तेज दौड़ते हैं

केचन बालकाः अपि अत्र सन्ति।
= कुछ बच्चे भी यहाँ हैं

काश्चन बालिकाः अपि अत्र सन्ति।
= कुछ बच्चियाँ भी यहाँ हैं

बालकाः, बालिकाश्च योगासनं कुर्वन्ति।
= बच्चे और बच्चियाँ योगासन कर रहे हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *