बाल शिक्षा प्रश्नोत्तरी

बाल शिक्षा

प्र. १) शिक्षक कितने और कौन-कौन से होते हैं ?

उत्तर : शिक्षक तीन होते हैं- १. माता, २. पिता एवं ३. गुरु।

प्र. २) माता को सबसे उत्तम शिक्षक क्यों कहते हैं ?

उत्तर : नौ माह अपने उदर में निकटतम रखती अधिकतम हित करती माता प्रथम पुरोहित है। सन्तानों के लिए प्रेम एवं हित की भावना उसमें सर्वाधिक होती है, इसलिए सर्वोत्तम शिक्षक है।

प्र. ३) सन्तानों के प्रति माता-पिता के क्या कर्त्तव्य हैं ?

उत्तर : सन्तानों के प्रति माता-पिता के निम्न कर्त्तव्य हैं- १. बालक को शुद्ध उच्चारण सिखलाना, २. सन्तानों को उत्तम गुणों से युक्त करना, ३. छोटे-बड़ों से व्यवहार करना सिखलाना, ४. धर्म की शिक्षा देना आदि।

प्र. ४) क्या भूत-प्रेत वास्तव में होते हैं ?

उत्तर : भूत-प्रेत नहीं होते हैं, उनको मानना अन्धविश्वास है।

प्र. ५) संसार में बहुत से लोग भूत-प्रेत क्यों मानते हैं ?

उत्तर : अविद्या, कुसंस्कार, भय, आशंका, मानसिक रोग, धूर्तों के बहकाने से लोग भूत-प्रेत मानने लग जाते हैं।

प्र. ६) हम मरने के बाद कहाँ जाते हैं ?

उत्तर : मरने के बाद हम पाप-पुण्य का फल भोगने के लिए फिर से जन्म लेते हैं।

प्र. ७) हमें दूसरे जन्म में कौन भेजता है ?

उत्तर : हमें दूसरे जन्म में ईश्वर भेजता है।

प्र. ८) क्या मन्त्र-फूंकने से किसी रोग की चिकित्सा होती है ?

उत्तर : मन्त्र फूंकने से किसी रोग की चिकित्सा नहीं होती है।

प्र. ९) क्या ग्रहों के कारण से हमारे जीवन में सुख-दुःख होते हैं ?

उत्तर : हमारे जीवन में सुख-दुःख ग्रहों के कारण से नहीं होते हैं।

प्र. १०) मंगल, शनि आदि ग्रहों का हमारे कर्मों पर कोई प्रभाव पड़ता है ?

उत्तर : मंगल, शनि आदि ग्रहों का हमारे कर्मों पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है।

प्र. ११) जन्म-पत्र में लिखी गई बातें क्या सच होती हैं ?

उत्तर : हम कर्म करने में स्वतन्त्र हैं, इसलिए हमारे भविष्य की बातें कोई नहीं जान सकता, इसीसे जन्म-पत्र की बातें झूठ सिद्ध होती हैं।

प्र. १२) छल-कपट किसे कहते हैं ?

उत्तर : दूसरों की हानि पर ध्यान न देकर केवल अपना स्वार्थ सिद्ध करना छल-कपट कहलाता है।

प्र. १३) विद्यार्थी का मुख्य कर्त्तव्य क्या है ?

उत्तर : माता-पिता और गुरुजनों का सदैव आज्ञाकारी होना तथा अपनी विद्या और शरीर का बल सदा बढ़ाते रहना विद्यार्थी का मुख्य कर्त्तव्य है।

प्र. १४) माता-पिता एवं गुरु हमें दण्ड क्यों देते हैं ?

उत्तर : हमारे जीवन से बुराइयों को हटाने के लिए माता-पिता एवं गुरुजन हमें दण्ड देते हैं।

प्र. १५) दण्ड प्राप्त होने पर क्या विचारना एवं करना चाहिए ?

उत्तर : दण्ड प्राप्त होने पर हमें विचारना चाहिए कि मेरे अपने सुधार के लिए दण्ड दिया गया है। क्रोध न करते हुए सुधरने का प्रयास करना चाहिए।

प्र. १६) सदाचार के तीन उदाहरण दीजिए ?

उत्तर : १. शान्त, मधुर और सत्य बोलना, २. बड़ों को नमस्ते करना, ३. माता, पिता एवं गुरुजनों की सेवा करना।

प्र. १७) माता-पिता एवं गुरुजनों का परम कर्त्तव्य क्या है ? उत्तर : अपने सन्तानों को विद्या, धर्म, श्रेष्ठ आचरण एवं उत्तम संस्कारों से युक्त करना ही माता-पिता  तथा गुरुजनों का परम धर्म है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *