गुरू रामसिंह कूका

गुरू रामसिंह कूका भारत की आजादी के सर्वप्रथम प्रणेताओं में से एक (कूका विद्रोह), असहयोग आंदोलन के मुखिया, सिखों के नामधारी पंथ के संस्थापक, तथा महान समाज-सुधारक थे। उनका जन्म 3 फरवरी 1816 ई. में वसंत पंचमी पर लुधियाना के भैणी ग्राम में जस्सा सिंह और सदा कौर के यहाँ हुआ था। अपने 4 भाई बहनों में सबसे बड़े रामसिंह का 7 वर्ष की आयु में ही जस्सरी के साथ विवाह हो गया इससे इन्हें दो बेटियां हुयीं, नन्द कौर और दया कौर। 20 वर्ष की आयु में वे महाराज रणजीत सिंह की सेना शामिल हो गए। 1841 में उनकी रेजिमेंट को पेशावर में ठिकाना बनाने का हुक्म दिया और यहीं पेशावर में उनकी मुलाकात सिख पंथ के गुरु साहिबान की शिक्षाओं के आधार पर उपदेश करने वाले संत पुरुष बाबा बालक सिंह से हुयी और उनसे प्रभावित होकर रामसिंह उनके शिष्य बन गए। प्रथम अंग्रेज-सिख युद्ध की समाप्ति के बाद रामसिंह ने सेना से त्यागपत्र दे दिया और वे अपने गाँव लौट आये। घर आकर जीविकोपार्जन के लिए उन्होंने खेतीबाड़ी, परचूनी की दूकान एवं ठेकेदारी के काम किये पर साथ ही साथ में अपने गुरु बाबा बालक सिंह जी के उपदेशों का प्रचार भी करते रहे। इनकी आध्यात्मिक प्रवृत्ति होने के कारण इनके प्रवचन सुनने लोग आने लगे और धीरे-धीरे इनके शिष्यों का एक अलग पंथ ही बन गया, जो नामधारी कहलाया। थोड़े समय में ही लाखों लोग नामधारी सिख बन गए, जो निर्भय, निशंक होकर अंग्रेजी साम्राज्य के विरुद्ध कूके (हुंकार) मारने लगे और इसीलिए इतिहास में कूका पंथ के नाम से प्रसिद्ध हुए। 14 अप्रैल 1857 को वैशाखी के दिन रामसिंह जी ने अपने अनुयायियों के लिए एक आचार संहिता की घोषणा की। इसमें गुरू रामसिंह ने गोरक्षा, स्वदेशी, नारी उध्दार, अंतरजातीय विवाह, सामूहिक विवाह, मद्य निषेध , शाकाहार , मूर्ती पूजा का विरोध, सादा जीवन शैली आदि पर विशेष जोर दिया। धीरे धीरे रामसिंह और उनके पंथ का प्रभाव इतना बढ़ गया कि उन्होंने अंग्रेजी शासन का बहिष्कार कर अपनी स्वतंत्र डाक और प्रशासन व्यवस्था चलायी, सरकारी सामानों, सेवाओं, स्कूलों आदि का विरोध किया, स्वदेशी पर जोर दिया और अंग्रेजी सरकार की अवहेलना करना शुरू कर दिया। राष्ट्रीय भावना और धार्मिक भावना से ओत प्रोत कूका धीरे धीरे अंग्रेजी सरकार की नाक में दम करने लगे, जिससे 1857 की क्रान्ति झेल चुकी सरकार चौकन्नी हो गयी और उसने कूका पंथ की गतिविधियों पर नजर रखना शुरू किया और बाबा रामसिंह के क्रियाकलापों पर प्रतिबन्ध लगाने लगी। इसी बीच प्रतिवर्ष मकर संक्रांति पर भैणी गांव में लगने वाले मेले में एक घटना घट गयी। मेले में आते समय उनके एक शिष्य को कुछ धर्मांध मुसलमानों ने घेर लिया। उन्होंने उसे पीटा और गोवध कर उसके मुंह में गोमांस ठूंस दिया। यह सुनकर गुरू रामसिंह के शिष्य भड़क गये और उन्होंने 14 जून 1871 के दिन उस गांव पर हमला बोल दिया। इसमें कुछ लोग मारे गए और कुछ घायल हो गए। इसी तरह की कुछ और घटनाएँ दुसरे स्थानों पर भी हुयी जिससे सतर्क अंग्रेज सरकार ने कूकाओं के विरुद्ध कार्यवाही करना आरम्भ कर दिया। परन्तु कूका इससे डरे बिना बेख़ौफ़ सरकार को ही चुनौती देने लगे, जिसके बाद सरकार ने कूकाओं के एकत्रित होने पर प्रतिबन्ध लगा दिया। पर कूका इतने अधिक आक्रोश और उत्साह में थे कि उन्हें रोकना असंभव हो गया। 15 जनवरी 1872 को करीब 100 कूका मलेरकोटला पहुंचे और उन्होंने कोषागार पर हमला कर दिया जिसमे 1 अंग्रेज अधिकारी और 8 पुलिस वाले मारे गए। कुछ और कूका भी वहां पहुंचे पर दूसरी तरफ से अंग्रेज सेना आ गयी, अत: युध्द का पासा पलट गया। इस संघर्ष में अनेक कूका वीर शहीद हुए और 68 पकड़ लिये गये। इनमें से 50 को 17 जनवरी 1872 को मलेरकोटला में तोप के सामने खड़ाकर उड़ा दिया गया। शेष 18 को अगले दिन फांसी दी गयी। दो दिन बाद गुरू रामसिंह को भी पकड़कर बर्मा की मांडले जेल में भेज दिया गया और वे उसी स्थान पर रखे गए जहाँ अंतिम मुग़ल बादशाह बहादुर शाह जफ़र को रखा गया था। 14 साल तक वहां कठोर अत्याचार सहकर 29 नवम्बर 1885 ई. में उन्होंने अपना शरीर त्याग दिया, परन्तु अपने अनुयायियों के हृदयों में वे सदैव जीवित रहेंगे। उनके द्वारा अपनाया गया बहिष्कार और असहयोग का मार्ग ही आगे चलकर भारत को स्वतंत्रता दिलवाने का प्रमुख अस्त्र बना। कोटि कोटि नमन एवं विनम्र श्रद्धांजलि |

~ लेखक : विशाल अग्रवाल
~ चित्र : माधुरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *