अनुवाद कला (प्रथम अंश) अभ्यास 20

(उकारान्त स्त्रील्लिङ्ग)

१. गाय (धेनु) का दर्शन मंगल माना जाता है और यह बिना कारण नहीं।
धेनोर्दर्शनं हि मङ्गलं मतम्। अहैतुकं चेदम्।

२. यदि आर्य गोपूजा करते हैं तो ठीक ही करते हैं। इस देश के लोगों का गौएँ धन हैं।
आर्यैर्धेन्वर्चा क्रियते चेत्सोचितैव। धेनवो हि निधिरस्मद्देशीयानाम्।

३. चिड़िया चोंच (चञ्चु) से दाने चुग रही है (उच्चिनोति) और चुग-चुग कर बच्चों के मुँह में डालती चटका चञ्च्वा सस्यकणानुच्चिनोति। उच्चावमुच्चावं शावकाननेष्वावपति च।

४. यह पतला दुबला शरीर (तनु) इस योग्य नहीं कि धूप सह सके।
तन्वीयं तनुरसहिष्णुः सूर्यातपम्।

५. उसके दाँतों में पीप पड़ गई है, जिससे उसके सारे जबड़े (हनु) में दर्द है।
दन्तेष्वस्य जातः पूयः। यतो व्यथिता हनुरस्य सर्वतः।

६. चिर तक रुग्ण रहने से यह ब्राह्मणी ऐसी पीली (पाण्डु) हो गई मानों रक्त की एक बूँद भी नहीं रही।
आ बहोः कालात् रुग्णतामाप्तेयं ब्राह्मणी शोणशून्येव पाण्डुरभूत्।

७. चुहिया (आखु) बहुत तंग करती है, बिल्ली (ओतु) से भी नहीं पकड़ी जाती, जो चीज मिले कुतर-कुतर डालती है।
आखुरियमतीव व्यथयति। ओतुरप्यशक्ताऽस्या ग्रहणे, यद्यत् प्राप्नोति तत्तदेषा कृन्तति।

८. तन्दूर (कन्दु) में पकाई हुई चपातियाँ सुपच होती हैं। पञ्जाब के पश्चार्द्ध में इसका बहुत प्रचार है।
पचेलिमा कन्द्वां पक्वाः पोलिका भवन्ति। पञ्चनदपश्चार्द्धेऽस्याः प्रचुरो व्यवहारः।

९. यह कितना सुडौल शरीर है। कैसे सुन्दर पट्ठे (स्नायु) हैं।
अहो सुश्लिष्टं शरीरम्। अहो सुन्दर्यः स्नायवः।

१०. यहाँ स्वर बदलकर पढ़ने से (काकु) प्रश्न अभिप्रेत है। ऐसा मानने से ही ग्रन्थ की सुन्दर संगति लगती है।
काक्वा युतेन पठनेनाऽत्र प्रश्नोऽभिप्रेतोऽस्ति। तथा मते हि ग्रन्थार्थः साधीयः संगतो भवति।

संकेतः-
२. कृन्तति।
३. चटका चञ्वा सम्यकणानुच्चिनोति।
४. तनुरियं तनुरसहा सूर्यातपस्य। तन्वीयं तनुरसहिष्णुः सूर्यातपम्। इष्णुच् प्रत्ययान्त ‘सहिष्णु’ के कर्म सूर्यातप में षष्ठी का निषेध होने से द्वितीया हुई।
८. पञ्चनदपश्चार्द्धेऽस्याः प्रचुरो व्यवहारः।
९. अहो सुश्लिष्टं शरीरम्। अहो सुन्दर्यः स्नायवः।
१०. ग्रन्थार्थः साधीयः संगतो भवति।

अनुवाद कला मूल लेखक: आचार्य चारुदेव शास्त्री
अनुवाद सुश्री दीक्षा (आर्यवन आर्ष कन्या गुरुकुल, रोजड़, गुजरात)
टंकन प्रस्तुति: ब्र. अरुणकुमार “आर्यवीर ”, आर्ष शोध संस्थान, अलियाबाद तेलंगाना।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *