अनंतलाल सिंह

1 दिसंबर 1903 को वर्तमान बांग्लादेश के चिटगांव में गोलप सिंह के यहाँ जन्में अनंतलाल सिंह उन क्रांतिकारियों में शामिल थे, जिन्होंने 1930 में हुए चटगाँव शस्त्रागार केस में भाग लिया था। उनके पूर्वज पंजाबी राजपूत थे जो आगरा से चटगाँव जाकर बस गए थे। चटगाँव म्युनिसिपल स्कूल में पढ़ते समय वो अपने छात्रों के हृदय में क्रान्ति की ज्वाला प्रज्वलित करने वाले मास्टर दा नाम से विख्यात मास्टर सूर्यसेन के संपर्क में आये और उनके भक्त हो गए। शीघ्र ही अपने साहस, संगठनात्मक योग्यता, बुद्धिकौशल और कार्य के प्रति समर्पण से वो मास्टर दा के प्रिय हो गए और उनके निकटस्थ सहयोगियों में शामिल माने जाने लगे। अनंत लाल जी का स्वतंत्रता आन्दोलन से सर्वप्रथम संपर्क असहयोग आन्दोलन के द्वारा हुआ, जिसमें भाग लेने के लिए उन्होंने अपने ना जाने कितने ही साथियों को प्रेरित किया, हालांकि उनका खुद का बहुत अधिक यकीन इस तरह के आन्दोलन पर नहीं था। वो क्रांतिकारियों के लिए कारतूस और बम बनाने का कार्य करते थे, जिसमें उन्हें महारत हासिल थी और जिसे बनाने का प्रशिक्षण उन्हें किसी अंग्रेज से ही मिला था, ऐसा विश्वास किया जाता है। 14 दिसंबर 1923 को मास्टर सूर्यसेन की योजना के अनुरूप अनंतलाल जी ने निर्मल सेन के साथ मिलकर आसाम बंगाल रेलवे के कोषागार पर हमला किया और वहां से खजाना लूट लिया। 24 दिसंबर को पुलिस से उनकी मुठभेड़ हुयी पर वो वहां से निकल भागे और कुछ समय तक पहाड़ी क्षेत्रों में छिपने के बाद कलकत्ता पहुँच गए, जहाँ वो गिरफ्तार कर लिए गए पर शीघ्र ही छोड़ दिए गए। 1924 में उन्हें पुनः गिरफ्तार कर लिया गया और 4 वर्ष के कारावास की सजा सुनाई गयी। रिहा होने के बाद, अनंत लाल जी ने अपनी कार्यशैली में परिवर्तन किया और एक व्यायामशाला खोली और इसके जरिये अपने संगठनात्मक कौशल के बल पर मास्टर दा के आन्दोलन के लिए ना जाने कितने ही युवाओं को तैयार किया। चटगाँव शस्त्रागार हमले की योजना बनाने में भी वे सबसे आगे रहे और 18 अप्रैल 1930 को अंग्रेजों को हिला देने वाले इस में शामिल क्रांतिकारियों में से भी एक वे स्वयं थे। इस घटना में कई क्रांतिकारी बलिदान हुए और कई पकडे गए पर अनंतलाल जी फ़्रांस के कब्जे वाले चंद्रनगर चले गए और पकड़ में नहीं आये। पर अपने पकडे गए साथियों पर पुलिस द्वारा किये जा रहे भीषण अत्याचारों की खबरें सुनने के बाद उन्होंने 28 जून 1930 को कलकत्ता में पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया। उन्हें जेल भेज दिया गया पर उन्होंने इस जेल को ही डायनामाइट से उड़ाने की योजना बना ली। उन्हें जेल की दीवाल में डायनामाइट लगाते हुए पकड़ लिया गया और ऐसा विश्वास किया जाता है कि इसी घटना ने अंग्रेजी सरकार को क्रांतिकारियों से बातचीत करने के लिए विवश किया। उन पर मुकदमा चला और उन्हें आजीवन कारावास की सजा सुनाने के बाद काला पानी अंडमान भेज दिया गया। 1932 में किये गए एक लम्बे आमरण अनशन के बाद उन्हें कई साथी कैदियों के साथ वापस भारत की मुख्यभूमि पर लाया गया। 1946 में उन्हें जेल से मुक्त किया गया, जिसके बाद जेल में मार्क्सवादी साहित्य को पढ़कर खुद के विचारों में आये परिवर्तनों के अनुरूप वो कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ इंडिया में शामिल हो गए। देश को स्वतंत्रता मिलने के बाद, अनंतलाल जी ने खुद को व्यवसाय में लगा लिया और खुद को राजनीति से दूर कर लिया। देश में भ्रष्ट और पूंजीवादी व्यवस्था के बढ़ते प्रभाव से विचलित होकर अनंतलाल जी ने कलकत्ता में एक अति कट्टरवादी वामपंथी संगठन रिवोल्युशनरी कम्युनिस्ट काउन्सिल ऑफ़ इंडिया का गठन किया, जिसके सदस्यों ने अस्त्र शस्त्र खरीदने के लिए कलकत्ता में कई बैंक डकैतियां डालीं। कुछ समय बाद 1969 में इस संगठन के सभी सदस्यों सहित अनंतलाल जी को भी वर्तमान झारखंड के जादूगुडा के जंगलों से उनके ठिकाने से गिरफ्तार कर लिया गया। उन्हें 1977 तक जेल में रहना पड़ा और इसी दौरान उन्हें हृदय सम्बन्धी समस्याएं हो गयीं। इन्हीं के चलते अपनी रिहाई के कुछ समय बाद 25 जनवरी 1979 को उनका निधन हो गया। कुछ लोगों का मानना है कि उनके नए संगठन ने इस तरह का कोई काम नहीं किया था, जिसे विधि विरुद्ध कहा जा सके और अंग्रेजी शासन के दिनों में उनके द्वारा की गयी डकैतियों के मामलों में ही तत्कालीन सरकार ने उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था क्योंकि वो अपने भाषणों और लेखों में सरकार का मुखर विरोध करते थे। यदि सच में उन्होंने ऐसा कोई कार्य किया था तो आज़ादी के बाद का उनका सशस्त्र आन्दोलन किसी भी दृष्टिकोण से उचित नहीं ठहराया जा सकता पर इससे देश के लिए उनके योगदान को कम करके नहीं आंका जा सकता। अनंतलाल जी ने कई पुस्तकें भी लिखी जिसमें सबसे ज्यादा जानी मानी है उनकी विवादित आत्मकथा- केऊ बोले डकैत, केऊ बोले बिप्लवी (Some Call Me a Robber, Some Call Me a Revolutionary)। उनकी कुछ और प्रमुख रचनाएँ हैं- चटगाँव युवाविद्रोह (Youth Revolution in Chittagong), अग्निगर्भा चटगाँव (Chittagong on Fire), मास्टर दा (अमर शहीद सूर्यसेन पर), सूर्य सेनार स्वपना ओ साधना (Dream and Austerities of Surya Sen) एवं अमी सेइ मेये (I am that Girl)। विनम्र श्रद्धांजलि।

~ लेखक : विशाल अग्रवाल
~ चित्र : माधुरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *