31 – स्वराज नायक (~भारत चालीसा)…

0
96

भारत गौरव गान या भारत चालीसा
स्वर : ब्र. अरुणकुमार “आर्यवीर”

31 – स्वराज नायक
जहां हुये हैं दयानन्द सम स्वराज्य उद्घोषक महान्।
उनके पीछे श्रद्धानन्द जैसे हुए सैकड़ों बलिदान।।
वासुदेव औ तिलक, गोखले, नौरूजी स्वातन्त्र्य प्राण।
हुए मालवी, केशवचन्द्र स्वदेश भक्त आजाद सुजान।।
महेन्द्र, भाई परमानन्द व सावरकर विप्लवी महान।
हुए राज गोपालाचारी, कृष्णन, मेनन सुर विद्वान।।
जहां हुए हैं लौह-पुरुष सरदार पटेल सुभट सन्तान।
जहां हुए हैं मृत्युंजय नेताजी सुभाष वीर जवान।।
जहां हुए राजेन्द्र राष्ट्रपति, शास्त्रीसम प्रधान।

है भूमण्डल में भारत देश महान।।
है भूमण्डल में आर्यावर्त महान।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here