27. प्रजापते नत्वदेतान्यन्यो.. २..!!

0
94

प्रजापते न त्वदेतान्यन्यो विश्वा जातानि परि ता बभूव। यत्कामास्ते जुहुमस्तन्नो अस्तु वयं स्याम पतयो रयीणाम्।। 6।। (ऋ.म.10/सू.121/मं.10)

        हे सब प्रजा के स्वामी परमात्मा आप से भिन्न दूसरा कोई उन इन सब उत्पन्न हुए जड़-चेतनादिकों को नहीं तिरस्कार करता है, अर्थात् आप सर्वोपरी हैं। जिस-जिस पदार्थ की कामनावाले हम लोग आपका आश्रय लेवें और वांच्छा करें, वह कामना हमारी सिद्ध होवे, जिससे हम लोग धनैश्वर्यों के स्वामी होवें।

जड़ चेतन जगति के स्वामी, हे प्रभु तुमसा और नहीं।

जहां समाए हुए न हो तुम, ऐसा कोई ठौर नहीं।।

जिन पावन इच्छाओं को ले, शरण आपकी हम आएं।

पूरी होवें सफल सदा हम, विद्या-धन-वैभव पाएं।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here